scorecardresearch

पानवालों, रिक्शा चालकों और चौकीदारों को बनाया मंत्री, कभी नहीं पता था कि ये धोखा देंगे- बोले आदित्य ठाकरे

उद्धव ठाकरे ने फॉर्म भेजकर शिवसैनिकों से राय मांगी है। सीएम ने ऑनलाइन फॉर्म भेजकर शिवसेना के नेताओं और कार्यकर्ताओं से सवाल किया कि वो उनके साथ हैं या एकनाथ शिंदे के?

aditya thackeray| shivsena| eknath shinde
आदित्य ठाकरे (Photo Source- ANI)

महाराष्ट्र का सियासी ड्रामा सुप्रीम कोर्ट पहुंच चुका है। सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार (27 जून) को सुनवाई के दौरान दोनों पक्षों की दलीलें सुनीं। जिसके बाद कोर्ट ने स्पीकर सहित सभी पक्षकारों को नोटिस जारी किया है। वहीं दूसरी ओर सीएम उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे ने कहा कि पानवालों, रिक्शा चालकों और चौकीदारों को बनाया मंत्री, कभी नहीं पता था कि ये धोखा देंगे

भायखला(मुंबई) में शिवसैनिकों को संबोधित करते हुए शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे ने कहा, “कई लोगों ने हमसे कहा कि कांग्रेस और एनसीपी हमें धोखा देंगे लेकिन हमारे लोगों ने हमें धोखा दिया। कई विधायक जो चौकीदार, रिक्शा चालक और पान के दुकानदार थे हमने उन्हें मंत्री बनाया।” शिवसेना नेता ने आगे कहा, “20 मई को, उद्धव ठाकरे ने एकनाथ शिंदे को सीएम पद की पेशकश की और उन्होंने नाटक किया।”

दिल्ली में भी सत्ता में आएंगे: महाराष्ट्र के मंत्री अदित्य ठाकरे ने कहा कि महा विकास अघाडी की सरकार आगे भी जारी रहेगी। जिस शक्ति ने हमें यहां लाया है, हम दिल्ली में भी सत्ता में आएंगे। इससे पहले शिवसेना की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक को संबोधित करते हुए आदित्य ठाकरे ने बागी विधायकों को चेतावनी देते हुए कहा कि हम शरीफ क्या हुए, दुनिया ही बदमाश हो गई।

शिवसेना की असली ताकत शिवसैनिक: आदित्य ठाकरे ने कहा कि परसों तक जो मेरी गाड़ी में बैठे थे और उनके हाथ कांप रहे थे ,आज वह भी उधर चले गए। उन्होंने कहा कि गुवाहाटी में 15-16 विधायक काफी तकलीफ में है और उन्हें किडनैप कर लिया गया है। उन्होंने कहा कि शिवसेना की असली ताकत शिवसैनिक हैं। आदित्य ने शिवसेना के नेताओं और कार्यकर्ताओं से एकजुट रहने की अपील भी की।

इससे पहले रविवार को मुंबई में पार्टी कार्यकर्ताओं के कार्यक्रम में आदित्य ठाकरे ने कहा था कि जो लोग छोड़ना चाहते हैं और जो पार्टी में लौटना चाहते हैं, उनके लिए शिवसेना के दरवाजे खुले हैं। पर जो बागी विधायक हैं वो देशद्रोही हैं, उन्हें पार्टी में वापस नहीं लिया जाएगा। इस सबके बीच सीएम उद्धव ने बागियों पर कड़ा एक्शन लेते हुए 9 बागी मंत्रियों के मंत्रालय छीने लिए हैं। सुभाष देसाई को एकनाथ शिंदे के विभाग का प्रभार दिया गया है। उद्धव ठाकरे का कहना है कि मंत्रियों के न होने से सरकार व प्रशासन का काम प्रभावित नहीं होना चाहिए।

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट

X