ताज़ा खबर
 

महाराष्ट्र: नक्सलियों ने तीन ग्रामीणों की हत्या कर सड़क पर फेंका शव, साथ मे बैनर रख दिया ये मैसेज

महाराष्ट्र में नक्सलों ने तीन लोगों की हत्या कर उनका शव रास्ते पर फेंक दिया और साथ ही अपना एक बैनर रख दिया।

Author Published on: January 22, 2019 2:04 PM
सड़क पर फेंका शव और साथ में रखा बैनर, फोटो सोर्स- ANI

महाराष्ट्र में नक्सलों ने तीन लोगों की हत्या कर उनका शव रास्ते पर फेंक दिया और साथ ही अपना एक बैनर रख दिया। जानकारी के मुताबिक तीनों शख्स वहीं हैं जिन्होंने पिछले साल अप्रैल में पुलिस को नक्सलियों की सूचना दी थी। उस मुठभेड़ में एसटीएफ ने 40 नक्सलियों को मार गिराया था। ऐसे में नक्सलियों ने बदले की भावना से इन तीन ग्रामीणों की हत्या कर दी। वहीं शव के साथ रखे बैनर में नक्सलियों ने अप्रैल की मुठभेड़ में मारे गए साथियों का जिक्र करते हुए उन्हें शहीद बताया है। इसके साथ ही बैनर में तीनों मृतकों का नाम भी लिखा है।

कहां का है मामला: दरअसल पूरा मामला गढ़चिरौली जिले के भामरागढ़ का है। जहां नक्सलियों ने तीन लोगों की हत्या कर दी। बता दें मृतकों के नाम मालू डोग्गे मडावी, कन्ना रैनू मडावी और लालसु कुडयेटी है। ये तीनों ही कसनासूर गांव के रहने वाले हैं। नक्सलियों का आरोप है कि इन तीनों ने ही पुलिस को नक्सलियों के ठिकाने की जानकारी दी थी।

बैनर में क्या है लिखा: नक्सलियों ने बैनर में लिखा है, ‘कसनूर- तुमिरगुंडा घटना में 40 जन अपने प्यारे कॉमरेड जनता के सपूत शहीद हुए थे। उस घटना के दोषिओं के कसनूर गांव के मुखबिर काम करने वाले मालू डोग्गे मडावी, कन्ना रैनू मडावी और लालसु कुडयेटी को मौत की सजा दी गई है। भारतयी कम्यूनिस्ट पार्टी (माओवादी) दक्षिण गढ़चिरौली डिविजन कमेटी। ‘

22 अप्रैल को हुई थी मुठभेड़: गौरतलब है कि पिछले साल 22 अप्रैल को कसनूर- तमिरगुंडा में एसटीएफ और नक्सलियों की मुठभेड़ हुई थी। मुठभेड़ में एसटीएफ ने 40 नक्सलियों को मार गिराया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 अमित शाह की सभा के लिए सीपीएम नेता ने जमीन दी, तृणमूल ने कसा तंज
2 BSF ने 31 रोहिंग्या मुस्लिमों को किया गिरफ्तार, भारत-बांग्लादेश सीमा पर 4 दिन से थे मौजूद
3 शिया वक्‍फ बोर्ड प्रमुख की पीएम मोदी को चिट्ठी- मदरसे बंद कराएं, वहां दी जा रही ISIS की शिक्षा