ताज़ा खबर
 

किसानों की आय बढ़ाने के लिए एमबीए प्रोफेशनल्स का इंटरव्यू ले रही देवेंद्र फड़णवीस सरकार

देशमुख ने कहा कि एमबीए प्रोफेशनल्स का काम तालुकालेवल कॉपरेटिव मार्केटिंग सोसायटीज, किसान उत्पादक संगठन, महिला स्व-सहायता समूह और सहकारी समितियों को प्रेरित करना होगा। रिपोर्ट्स के मुताबिक एमबीए प्रोफेशनल्स को तीन समूहों में बांटा जाएगा।

महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फड़णवीस (एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

महाराष्ट्र की सरकार किसानों की आय को बढ़ाने के लिए एक नया कदम उठाने जा रही है। सीएम देवेंद्र फड़णवीस के नेतृत्व वाली बीजेपी की सरकार ग्रामीणों के जीवन स्तर में बदलाव लाने के लिए और किसानों की आय बढ़ाने के लिए एमबीए प्रोफेशनल्स का इंटरव्यू ले रही है। सरकार अपने प्रोग्राम में मैनेजमेंट प्रोफेशनल्स को शामिल करना चाह रही है। पिछले कुछ दिनों से महाराष्ट्र की सरकार द्वारा 29 पदों के लिए एमबीए प्रोफेशनल्स का इंटरव्यू लिया जा रहा है।

ईटी के मुताबिक सरकार विलेज सोशल ट्रांसफॉर्मेशन फाउंडेशन (वीएसटीएफ) में सेल्स और मार्केटिंग में अनुभव रखने वाले एमबीए प्रोफेशनल्स की भर्ती कर रही है। इन सभी प्रोफेशनल्स को अलग-अलग जिलों में पोस्ट किया जाएगा और ये करीब 5,000 प्राथमिक कृषि क्रेडिट सोसाइटीज के विकास के लिए सहकारिता विभाग और सहकारिता सोसायटी के साथ काम करेंगे। महाराष्ट्र के स्टेट कॉपरेशन और मार्केटिंग मिनिस्टर सुभाष देशमुख का कहना है, ‘एमबीए प्रोफेशनल्स को बिजनेस के आइडिया रखने होंगे। उन्हें किसानों के उत्पादों की ब्रांडिंग और मार्केटिंग के लिए भी आइडिया सोचने होंगे।’

देशमुख ने कहा कि एमबीए प्रोफेशनल्स का काम तालुकालेवल कॉपरेटिव मार्केटिंग सोसायटीज, किसान उत्पादक संगठन, महिला स्व-सहायता समूह और सहकारी समितियों को प्रेरित करना होगा। रिपोर्ट्स के मुताबिक एमबीए प्रोफेशनल्स को तीन समूहों में बांटा जाएगा। जो जिला स्तर पर होंगे उन्हें जिला व्यापार विकास प्रबंधक कहा जाएगा। उनका काम प्राथमिक कृषि सहकारी समिति, स्वयं सहायता समूह और एफपीओ का निरिक्षण करना होगा, ताकि लोकल प्रोड्यूस का ध्यान रखा जा सके।

जिला स्तर के प्रोफेशनल्स को क्षेत्रीय व्यापार विकास और विपणन प्रबंधकों को रिपोर्ट करना होगा। ये प्रबंधक पांच से छह जिलों को मैनेज करेंगे। इन प्रबंधकों को टॉप बॉस को रिपोर्ट करना होगा। वीएसटीएफ के स्टेट मिशन मैनेजर सागर शीरके का कहना है, ‘हमारी योजना किसानों की आय में बढ़ोत्तरी करना है। हमारे अध्ययन में यह बात सामने आई है कि ग्रामीण इलाकों में बहुत से उत्पाद ऐसे हैं, जिनको लेकर व्यापार किया जा सकता है, लेकिन इन तक ज्यादा पहुंच नहीं हो सकी है, जिसकी वजह से ये लोगों के सामने नहीं आए हैं। एमबीए प्रोफेशनल्स बिजनेस के लिए नए आइडिया देंगे, मार्केटिंग की रणनीति बताएंगे और ब्रांडिंग, पैकेजिंग और सेलिंग में भी मदद करेंगे।’

Next Stories
1 काफिला गुजारने के लिए रुकवा दी गई एंबुलेंस, निशाने पर मुख्यमंत्री
2 असम: पत्नी की ‘नागरिकता’ पर पेच, कानूनी लड़ाई लड़ने का पैसा नहीं था, झगड़ा हुआ तो रेत डाला गला
3 कांग्रेस की किरकिरी: चलती सेमिनार में महिला कार्यकर्ता ने पुरुष सहकर्मियों पर लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप
कोरोना LIVE:
X