ताज़ा खबर
 

महाराष्ट्रः 15 साल से ड्यूटी पर नहीं आने वाले 477 ‘फरार’ चिकित्सकों को किया बर्खास्त

महाराष्ट्र सरकार ने कार्रवाई करते हुए 477 सरकारी चिकित्सकों को बर्खास्त करने का फैसला किया है।

Author मुंबई | January 3, 2017 11:46 AM
दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल के साथ अन्य अस्पतालों में चल रही हड़ताल पांच दिन बाद खत्म हो गई।(PTI)

महाराष्ट्र सरकार ने कार्रवाई करते हुए 477 सरकारी चिकित्सकों को बर्खास्त करने का फैसला किया है। ये चिकित्सक सेवा में शामिल होने के बाद करीब 15 सालों से ड्यूटी से अनुपस्थित रहे हैं। राज्य के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री दीपक सावंत ने यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि हमने उनके खिलाफ कार्रवाई करने का फैसला किया है। सरकार द्वारा राज्य भर में अपने अस्पतालों में नियुक्त किए गए बहुत से चिकित्सक सेवा में शामिल होने के बाद से गायब हैं और आमतौर पर इनका संदर्भ ‘फरार’ कह कर दिया जाता है।

सावंत ने कहा कि इस तरह के 581 ‘फरार’ चिकित्सकों की मंत्रालय ने पहचान की है। इसमें से 104 की सेवाएं पहले ही समाप्त की जा चुकी हैं।

उन्होंने कहा, “ऐसे चिकित्सक साक्षात्कार में आते हैं, अपना नियुक्ति पत्र लेते है और विभाग में शामिल हो जाते हैं। कुछ दिनों बाद, वे छोड़कर चले जाते है। हम उन्हें रोकने में सक्षम नहीं हैं और न ही अदालतें। आदर्श रूप में, उन्हें अपने जाने से पहले इस्तीफा प्रस्तुत करना चाहिए।”

सरकार ने इसकी सूचना महाराष्ट्र चिकित्सा शिक्षा विभाग और महाराष्ट्र मेडिकल काउंसिल को दे दी है, जो इन चिकित्सकों के खिलाफ भविष्य में कार्रवाई तय करेगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App