ताज़ा खबर
 

महाराष्ट्र: बेटे की जिद पर माने घरवाले, विदेशी लड़के से करा दी गे मैरिज, अमेरिका चीन से आए मेहमान

यवतमाल के एक फोटोग्राफर के लड़के ने अपने एक विदेशी दोस्त से एक बड़े होटल में शादी रचा ली।

इस तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीक के तौर पर किया गया है।(फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस)

पिछले दिनों महाराष्ट्र के यवतमाल में एक समलैंगिक विवाह हुआ, जिसकी भनक तब लगी जब सोशल मीडिया पर तस्वीरें वायरल होने लगीं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यवतमाल के एक फोटोग्राफर के लड़के ने अपने एक विदेशी दोस्त से एक बड़े होटल में शादी रचा ली। दोनों ही अमेरिका में जॉब करते हैं और वे काफी समय से लिव इन रिलेशनशिप में रह रहे थे। शुरू में घरवाले इस शादी के खिलाफ थे, लेकिन लड़कों की जिद के आगे उन्हें झुकना पड़ा। बताया जा रहा है इस गै मैरिज में अमेरिका और चीन से दर्जनों मेहमान आए थे। भारतीय लड़के का नाम रिषि और विदेशी लड़के का नाम विन बताया जा रहा है। दोनों अक्टूबर 2016 में ऑनलाइन डेटिंग साइट के जरिये मिले थे। रिषि के माता पिता ने बड़े की विचार-विमर्श के बाद अपने गृहनगर यवतमाल में शादी करने की इजाजत दी।
शादी 30 दिसंबर को संपन्न हुई।

43 वर्षीय रिषि पेशे से मार्केटिंग स्ट्रेटजिस्ट है। उसकी शुरुआती शिक्षा यवतमाल में ही हुई और उच्च शिक्षा आईआईटी बॉम्बे से हुई। रिषि के माता पिता को उसके समलैंगिक होने की सच्चाई को स्वीकार करने में पांच साल लग गए। 2017 में उसके माता ने उसके समर्थन में समलैंगिकों की सैनफ्रांसिस्को में हुई एक परेड में हिस्सा भी लिया था। रिषि का 35 वर्षीय पार्टनर विन वियतनामी मूल का बताया जा रहा है। विन पेशे से एक शिक्षक है और उज्बेकिस्तान, चीन और अमेरिका समेत कई कई देशों में पढ़ा चुका है। 1990 में वह अपने परिवार के साथ अमेरिका में बस गया था।

सूत्रों के मुताबिक रिषि की इस शादी में परिवार के लोग और दोस्त ही शामिल हुए थे। रिषि ने बताया कि वह इसे शादी न मानते हुए एक ‘वादा समारोह’ मानते हैं। उन्होंने कहा- यह मेरे लिए ज्यादा अहमियत रखता है कि मैंने अपने चाहने वालों और परिवार सामने विन के साथ शादी की। शादी हिंदू रीति रिवाजों के अनुसार हुई। रिषि ने कहा कि भारत में हमेशा उदार और समावेशी संस्कृति रही है, लेकिन अंग्रेज हम पर धारा 377 थोप गए जो आज तक चल रही है। इस तरह की चीजें देश में नहीं होनी चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App