महाराष्ट्र: फड़नवीस सरकार का चुनावी दांव, 1 करोड़ मजदूरों को मिलेगा लाभ

महाराष्ट्र न्यूनतम मजदूरी सलाहकार बोर्ड के चेयरमैन रघुनाथ कुचिक के अनुसार, सभी तथ्यों को ध्यान में रखते हुए ही न्यूनतम मजदूरी में बढ़ोत्तरी का फैसला किया गया है।

Author मुंबई | July 25, 2019 10:44 AM
maharashtraसरकार के ऐलान से एक करोड़ मजदूरों को लाभ मिलेगा।

महाराष्ट्र में जल्द हीं विधानसभा चुनाव होने हैं, ऐसे में राज्य सरकार ने एक ऐसा फैसला लिया है, जिसे जनता को खुश करने की कोशिश माना जा रहा है। दरअसल महाराष्ट्र की फडनवीस सरकार ने मजदूरों की न्यूनतम मजदूरी में बढ़ोत्तरी करने का फैसला किया है, जिससे राज्य की 10 लाख दुकानों या अन्य संस्थानों में काम करने वाले मजदूरों को सीधा फायदा मिलेगा। राज्य के लेबर डिपार्टमेंट के अधिकारियों के मुताबिक सरकार के इस फैसले से 1 करोड़ मजदूरों को फायदा मिलेगा।

बता दें कि नियमों के अनुसार, महाराष्ट्र न्यूनतम मजदूरी सलाहकार बोर्ड हर पांच साल पर न्यूनतम मजदूरी का आकलन कर उसमें बढ़ोत्तरी करता है, लेकिन इस बार न्यूनतम मजदूरी में बढ़ोत्तरी का फैसला पूरे 9 साल बाद लिया गया है। सरकार के इस फैसले को विधानसभा चुनावों से जोड़कर देखा जा रहा है।

मजदूरी में बदलाव के तहत म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन के अन्तर्गत स्किल्ड मजदूरों की न्यूनतम आय 5,800 से बढ़ाकर 11,632 रुपए कर दी गई है। वहीं सेमी-स्किल्ड मजदूरों को 5,400 के बजाय 10,856 और नॉन-स्किल्ड मजदूरों को 5000 के बजाय 10,021 रुपए की न्यूनतम मजदूरी मिलेगी।

इसी तरह म्यूनिसिपल काउंसिल के तहत आने वाले स्किल्ड मजदूरों को न्यूनतम मजदूरी 5500 से बढ़ाकर 11,036, सेमी-स्किल्ड मजदूरों की मजदूरी 5100 से बढ़ाकर 10,260 और नॉन-स्किल्ड के लिए 4700 के बजाय 9,425 रुपए कर दी गई है।

राज्य के बचे हुए हिस्से में यह दर स्किल्ड मजदूर के लिए 5200 से बढ़ाकर 10,440, सेमी-स्किल्ड के लिए 4800 से बढ़ाकर 9,664 रुपए और नॉन स्किल्ड के लिए 4400 से 8,828 रुपए कर दी गई है। महाराष्ट्र न्यूनतम मजदूरी सलाहकार बोर्ड के चेयरमैन रघुनाथ कुचिक के अनुसार, सभी तथ्यों को ध्यान में रखते हुए ही न्यूनतम मजदूरी में बढ़ोत्तरी का फैसला किया गया है।

हालांकि सेंटर ऑफ इंडियन ट्रेड यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष डीएल कराद इससे खुश नहीं हैं और न्यूनतम मजदूरी को 18000 रुपए करने की मांग दोहरायी है। कराद के अनुसार, सरकार को अपने फैसले पर फिर से विचार करना चाहिए।

Next Stories
1 West Bengal: ऑपरेशन के दौरान युवती के पेट से निकले अंगूठी- सोने की चेन, घड़ी समेत डेढ़ किलो गहने, भूख लगने पर निगल जाती थी ये सब सामान
2 महाराष्ट्र: 11,078 गांवों में 3 साल में सबसे खराब हालत, जलस्तर में रिकॉर्ड कमी
3 West Bengal: बीजेपी सांसद अर्जुन सिंह के घर फेंके गए बम, भतीजे ने TMC पर लगाया आरोप
यह पढ़ा क्या?
X