ताज़ा खबर
 

भुजबल के वास्ते जेल के चिकित्सक ने की थी रजिस्टर से छेड़छाड़

छगन भुजबल के सीने में तेज दर्द और उच्च रक्तचाप की शिकायत के बाद 18 अप्रैल को उन्हें मल्टी स्पेशियलिटी अस्पताल के आइसीयू में भर्ती कराया गया था।

Author मुंबई | April 23, 2016 02:31 am
एनसीपी नेता छगन भुजबल। (पीटीआई फाइल फोटो)

महाराष्ट्र के पूर्व उप मुख्यमंत्री छगन भुजबल को दक्षिण मुंबई के सेंट जॉर्ज अस्पताल में यहां आर्थर रोड जेल के एक डॉक्टर ने भर्ती कराया था जिसने मेडिकल रजिस्टर में अपने वरिष्ठ की लिखी इस सिफारिश को बदल दिया कि भुजबल को दांत में दर्द के लिए इलाज की जरूरत है। कारागार विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने शुक्रवार को यह बात कही। भुजबल को कथित धन शोधन मामले में न्यायिक हिरासत में रखा गया है। उनके सीने में तेज दर्द और उच्च रक्तचाप की शिकायत के बाद 18 अप्रैल को उन्हें मल्टी स्पेशियलिटी अस्पताल के आइसीयू में भर्ती कराया गया था।

हालांकि कारागार विभाग की जांच में पता चला कि डॉ राहुल घुले ने मेडिकल रजिस्टर में अपने वरिष्ठ द्वारा की गई प्रारंभिक सिफारिश को बदल दिया। वरिष्ठ डॉक्टर ने सिफारिश की थी कि भुजबल को दांत में दर्द के लिए अस्पताल ले जाया जाए, लेकिन घुले ने मेडिकल ओपीडी में जाने की बात लिख दी। आइजी (कारावास) बिपिन कुमार सिंह ने कहा, डॉ बानसोडे (मुख्य चिकित्सा अधिकारी, आर्थर रोड जेल) ने 16 अप्रैल को सिफारिश की थी कि भुजबल को दांत में दर्द के लिए दंत चिकित्सा ओपीडी में ले जाया जाए।

उन्होंने बताया कि हालांकि 17 अप्रैल को छुट्टी पर रहने के बावजूद घुले ने सीएमओ या जेल अधिकारियों के संज्ञान के बिना जेल रजिस्टर नंबर 32 को बदल दिया जिसमें उन्होंने भुजबल के संबंध में शुरुआती सिफारिश को बदलकर कह दिया कि उन्हें अन्य कारणों से सेंट जॉर्ज अस्पताल की मेडिकल ओपीडी में ले जाया जाए। अधिकारी ने कहा कि उन्हें संदेह है कि 18 अप्रैल को भुजबल के साथ घुले भी अस्पताल गए थे। इस कृत्य की गंभीरता पर विचार करते हुए जेल अधिकारियों ने घुले को सार्वजनिक स्वास्थ्य विभाग भेज दिया है और उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की सिफारिश की है।

सिंह ने कहा, अगर किसी कैदी को कोई बीमारी है तो इलाज का अधिकार है। लेकिन कभी किसी कैदी को जेजे अस्पताल के अलावा कहीं नहीं ले जाया जाता। घुले को दोषी पाया गया इसलिए हटा दिया गया है और उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की गई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App