ताज़ा खबर
 

Maharashtra: केमिकल फैक्ट्री में भीषण धमाके से 7 लोगों की मौत, कई अभी भी लापता; NDRF तैनात

इस घटना पर जिले के पालक मंत्री दादा भूसे ने बताया, ‘हालांकि जिला स्वास्थ्य एवं सुरक्षा अधिकारी रविवार को घटनास्थल का दौरा और जांच करेंगे। रिपोर्ट के आधार पर पुलिस आगे की कार्रवाई करेगी।’

Author पालघर | Published on: January 12, 2020 3:57 PM
एक आरोपी की गिरफ्तारी हो चुकी है। प्रतीकात्मक फोटो (सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस)

महाराष्ट्र के पालघर जिले के बोईसर में एक रसायन फैक्ट्री में हुए भीषण विस्फोट में एक और शव मिलने से मरने वालों की संख्या बढ़कर सात हो गई है। एक अधिकारी ने रविवार (12 जनवरी) को यह जानकारी दी। जिले के पालक मंत्री दादा भूसे ने शनिवार (11 जनवरी) देर रात को विस्फोट स्थल का दौरा किया और बाद में कहा कि पहली नजर में यह मालूम होता है कि फैक्ट्री ने मशीनरी की जांच करने के लिए संबंधित अधिकारियों से अनुमति ली थी। बता दें कि विस्फोट शनिवार शाम को कोलवाडे गांव स्थित अंक फार्मा के निर्माणाधीन प्लांट में कुछ रसायन की जांच के दौरान हुआ, जिसमें छह लोगों की मौत हो गई थी।

मरने वालों की हुई पहचानः जिला डिजास्टर कण्ट्रोल सेल के प्रमुख विवेकानंद कदम ने बताया, ‘मलबा हटाने के अभियान के दौरान रविवार सुबह एक और शव मिला। मरने वाले की पहचान त्रिनाद दसारी (35) के तौर पर हुई है।’ उन्होंने बताया कि घटनास्थल से एक लड़की अब भी लापता है, जिसकी तलाश जारी है। शनिवार को घटना में मारे गए छह लोगों की पहचान मोहन इंगले (45), साक्षी मदन (39), निशू सिंह (26), माधुरी सिंह (46), गोकुल जाधव (18) और इलियास अंसारी (45) (फैक्ट्री के वाचमैन) के तौर पर हुई है।

Hindi News Live Hindi Samachar 12 January 2020: देश की बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

घटना से मलबा हटाने का काम अभी भी जारीः मामले में कदम ने बताया कि इसके अलावा घटना में सात लोग घायल भी हुए हैं जिनमें प्लांट के मालिक नटवरभाई पटेल भी शामिल हैं, जो गंभीर रूप से घायल हैं। घटना में गंभीर रूप से घायल हुए लोगों का विभिन्न अस्पतालों में इलाज चल रहा है। उन्होंने बताया कि मलबा हटाने का काम अब भी जारी है।

विस्फोटक के गूंज से टूटी घरों की खिड़कियांः अधिकारियों ने बताया कि विस्फोट बोईसर के महाराष्ट्र औद्योगिक विकास निगम (एमआईडीसी) क्षेत्र स्थित प्लांट में शाम करीब सात बजकर 20 मिनट पर हुआ, जो मुंबई से 100 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। उन्होंने यह भी बताया कि विस्फोट इतना जबरदस्त था कि इसे घटनास्थल से 15 किलोमीटर के दायरे में सुना गया और आस पास के कुछ घरों की खिड़कियां भी टूट गईं।

बचाव अभियान में एनडीआरएफ तैनातः कदम ने बताया कि विस्फोट के बाद निर्माणाधीन प्लांट ढह गया और पास में स्थित दो अन्य रसायन फैक्ट्रियों को भी नुकसान पहुंचा है। बचाव अभियान के लिए शनिवार को राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की एक टीम को बुलाया गया था। बाद में भुसे ने पत्रकारों से कहा कि शुरुआती रिपोर्ट के अनुसार के अनुसार, प्लांट ने मशीनरी जांच के लिए संबंधित अधिकारियों से अनुमति ली थी।

दुर्घटनावश मौत की रिपोर्ट दर्जः मामले में भुसे ने यह भी बताया, ‘हालांकि जिला स्वास्थ्य एवं सुरक्षा अधिकारी रविवार को घटनास्थल का दौरा और जांच करेंगे। रिपोर्ट के आधार पर पुलिस आगे की कार्रवाई करेगी।’ बोईसर पुलिस थाना के एक अधिकारी ने बताया कि अब तक मामले में दुर्घटनावश मौत की रिपोर्ट दर्ज की गई है। मंत्री ने यह भी कहा कि वह घटना की विस्तृत समीक्षा के लिए रविवार को भी वहां का दौरा करेंगे। इससे पहले मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शनिवार को मरने वालों के आश्रितों को पांच-पांच लाख रुपये की सहायता राशि देने की घोषणा की थी।

मंत्री भुसे करेंगे पक्षकारों के साथ बैठकः बता दें कि मामले में भुसे ने कहा, ‘बोईसर एमआईडीसी क्षेत्र में कई रसायन फैक्ट्रियों की मौजूदगी को देखते हुए भविष्य में ऐसी घटनाएं को रोकने के लिए कदम उठाने पर हम गंभीरता से विचार कर रहे हैं।’ मंत्री ने कहा कि आवश्यक कदमों पर चर्चा के लिए आगामी दिनों में सभी पक्षकारों के साथ बैठक करेंगे। उन्होंने यह भी बताया, ‘हमलोग इस क्षेत्र के विशेषज्ञों से मार्गदर्शन और सुझाव मांगेंगे। इन प्लांटों में समय-समय पर सुरक्षा उपायों की जांच की जाएगी।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories