8 दिन के अंदर यूपी पुलिस का यू-टर्न, पहले इश्तेहार लगा कहा- विकास दुबे का गुर्गा है गुड्डन त्रिवेदी, मुंबई में गिरफ्तार होते बदल गए सुर

कानपुर के एसएसपी दिनेश कुमार प्रभु ने एक प्रेस नोट जारी कर कहा कि अरविन्द और उसका ड्राइवर सोनू तिवारी महाराष्ट्र के ठाणे से मुंबई एटीएस द्वारा पकडे गए हैं। वह चौबेपुर मुठभेड़ मामले में ना तो वांछित हैं और ना ही नामजद।

Author नई दिल्ली | July 12, 2020 1:06 PM
Kanpur Encounter Caseपुलिस ने कुख्यात अपराधी विकास दुबे के गैंग का सक्रिय सदस्य बताकर 14 अन्य लोगों के साथ गुडडन का फोटो भी जारी किया था। (ट्विटर)

कानपुर पुलिस ने शनिवार (11 जुलाई, 2020) को दावा किया कि बिकरू गांव में पुलिसर्किमयों पर घात लगाकर किए गए हमले के सिलसिले में अरविन्द उर्फ गुडडन तिवारी ना तो वांछित है और ना ही नामजद। अधिकारी हालांकि इस बात का जवाब नहीं दे पा रहे हैं कि पुलिस ने कुख्यात अपराधी विकास दुबे के गैंग का सक्रिय सदस्य बताकर 14 अन्य लोगों के साथ गुडडन का फोटो क्यों जारी किया था। कानपुर के एसएसपी दिनेश कुमार प्रभु ने एक प्रेस नोट जारी कर कहा कि अरविन्द और उसका ड्राइवर सोनू तिवारी महाराष्ट्र के ठाणे से मुंबई एटीएस द्वारा पकडे गए हैं। वह चौबेपुर मुठभेड़ मामले में ना तो वांछित हैं और ना ही नामजद।

प्रेस नोट में कहा गया कि यह बात सामने आई है कि उक्त आरोपी कुख्यात गैंगस्टर विकास दुबे के गैंग का पुराना सदस्य है। चौबेपुर थाने में दर्ज मामले में गुडडन की भूमिका की गहराई से जांच की जा रही है। उक्त आरोपी चौबेपुर थाने में दर्ज मामले में ना तो नामजद है और ना ही वांछित। विकास को एक मुठभेड में पुलिस ने मार गिराया। उसके एक ही दिन बाद शनिवारी सुबह गुडडन और उसके ड्राइवर सोनू तिवारी को महाराष्ट्र पुलिस ने आठ पुलिसर्किमयों पर घात लगाकर किये गये हमले और 2001 में मंत्री संतोष शुक्ला की हत्या के सिलसिले में गिरफ्तार किया। जुहू एटीएस ने ठाणे में एक ठिकाने पर छापा मारकर गुडडन और उसके ड्राइवर को पकड़ा।

LIVE- यूपी में लॉकडाउन, ऑफिस-मार्केट सब बंद; देश में 28 हजार से ज्यादा नए कोरोना मरीज मिले, 550 की मौत

गुडडन विकास के साथ कई आपराधिक मामलों में कथित रूप से शामिल था। उत्तर प्रदेश सरकार ने गुडडन की गिरफ्तारी पर इनाम का ऐलान किया था। एक अधिकारी ने नाम उजागर नहीं करने की शर्त पर बताया कि आठ पुलिसकर्मियों की घात लगाकर हुई हत्या के बाद गुडडन गांव के निकट एक दुकान पर अपना फोन छोड़ दिया था और ड्राइवर के साथ मध्य प्रदेश चला गया था।

मध्य प्रदेश के दतिया से वह नासिक गया और फिर पुणे। उसके बाद ठाणे पहुंचा। गुड्डन ठाणे में एक दोस्त के घर पर रूका था। स्थितियों और पुलिस कार्रवाई पर वह खबरों के जरिए पूरी नजर रख रहा था। विकास दुबे को पुलिस ने शुक्रवार को मुठभेड में मार गिराया था। पुलिस का दावा है कि विकास को उज्जैन से लेकर जो वाहन आ रहा था, वह अचानक पलट गया। विकास ने भागने का प्रयास किया और मारा गया।

Next Stories
1 गुजरात में कोरोना गाइडलाइन- दुकान खोलते समय गाएं वंदे मातरम, बंद करते समय जन गण मन
2 दिग्गज बॉलीवुड एक्टर अनुपम खेर की मां कोरोना पॉजिटिव; भाई, भाभी और भतीजी को भी हुआ संक्रमण
3 दिल्‍ली दंगा: बीजेपी नेता कपिल मिश्रा पर एफआईआर से पुलिस ने किया इनकार, कोर्ट ने तलब की रिपोर्ट
यह पढ़ा क्या?
X