ताज़ा खबर
 

महाराष्ट्र में सात सिंचाई बांधों का जल भंडार खत्म

मराठवाड़ा में 75 छोटे सिंचाई बांधों में केवल चार फीसद जल भंडार मौजूद है जबकि 728 अति छोटे बांधों में तीन फीसद के करीब जल भंडार मौजूद है।

Author मुंबई | April 22, 2016 12:39 AM
चित्र का इस्तेमाल सिर्फ प्रतीक के तौर पर किया गया है।

सूखा प्रभावित महाराष्ट्र के ग्यारह बड़े सिंचाई बांधों में से सात का जल भंडार खत्म हो चुका है। एक सरकारी आंकड़े से इस बात का खुलासा हुआ है। जल संसाधन विभाग की ओर से 15 अप्रैल को जारी आंकड़ों के अनुसार, सूखा प्रभावित मराठवाड़ा क्षेत्र में 814 बड़ी, मध्यम और छोटी सिंचाई परियोजनाओं में केवल तीन फीसद जल भंडार उपलब्ध है।

मराठवाड़ा के सात बड़े सिंचाई बांधों में जल भंडार पूरी तरह खत्म हो चुका है। इसमें जायकावाड़ी, पूर्ण सिद्धेश्वर, मजलगांव, मांजरा, निचले तेरना, मन्नार और सिना कोलेगांव शामिल है और यह औरंगाबाद, परभनी, बीड़, नांदेड़ और ओस्मनाबाद जिलों में स्थित हैं। इन आंकड़ों के अनुसार, इन बांधों के अलावा, इस क्षेत्र में स्थित पूर्णा यलदारी बांध में दो फीसद, ऊपरी पेनगंगा में 10 फीसद, विष्णुपुरी में सात फीसद और निचले दुधना में 18 फीसद जल भंडार मौजूद है।

मराठवाड़ा में 75 छोटे सिंचाई बांधों में केवल चार फीसद जल भंडार मौजूद है जबकि 728 अति छोटे बांधों में तीन फीसद के करीब जल भंडार मौजूद है। राज्य में सूखे के संकट से निपटने के लिए जल संसाधन विभाग ने पूरे महाराष्ट्र में 4,356 पीने के पानी के टैंकर भेजे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App