ताज़ा खबर
 

आधी-अधूरी तैयारियों के बीच शुरू हुआ महामाया देवी मेला

मेले का शुभारम्भ एसडीएम अतुल कुमार ने धार्मिक मंत्रोंच्चारण के बीच नारियल फोड़ कर किया। इससे पूर्व ही सुबह से ही श्रद्धालुओं का तांता लगना शुरू हो गया।

Author मोदीनगर | April 10, 2016 00:01 am
मेले की सुरक्षा व्यवस्था को बनाए रखने के लिए मंदिर के आसपास व कई स्थानों पर पीएससी की एक प्लाटून के जवानों की तैनाती की गई है। (फाइल फोटो)

सीकरी खुर्द गांव स्थित महामाया देवी मंदिर परिसर में लगने वाला ऐतिहासिक देवी मेला आधी अधूरी तैयारियों के साथ प्रारम्भ हो गया। चैत्र नवरात्र के पहले दिन से ही श्रद्धालुओं की अच्छी खासी भीड़ जुटी। श्रद्धालुजनों ने भक्ति व शक्ति की प्रति देवी मां को चुन्नरी, नारियल, इलायची दाने का प्रसाद चढ़ा कर कर मन्नत मांगी। इस ऐतिहासिक मेले में श्रद्धालुओं की भीड़ को देखते हुए सुविधा के लिए पहली बार पुलिस ने आधा दर्जन स्थानों पर अस्थायी बैरियर लगा कर यातायात व्यवस्था का संचालन शुरू किया है। सुरक्षा व्यवस्था के लिए एक प्लाटून पीएससी की तैनाती, 28 दरोगा व तीन महिला दरोगा की तैनाती की गई हैं।

मेले का शुभारम्भ एसडीएम अतुल कुमार ने धार्मिक मंत्रोंच्चारण के बीच नारियल फोड़ कर किया। इससे पूर्व ही सुबह से ही श्रद्धालुओं का तांता लगना शुरू हो गया। इस बार मेले में श्रद्धालुओं को धक्का-मुक्की, चैन स्नैचिंग व यातायात जाम से बचाने के लिए पुलिस ने नए प्रयोग किए हैं। मंदिर के पश्चिम गेट पर लोहे की सर्पाकार बैरिकेटिंग की गई है। एसओ बृजेश शर्मा ने बताया कि इस बार जाम न लगे इसे लेकर सीकरी रोड से मंदिर तक के आधा दर्जन रास्ते स्थानों पर अस्थायी बैरियर लगाए गए हैं। इससे मेला स्थल तक केवल भैंसा-बुग्गी या दो पहिया वाहन ही जा सकेंगे। उमेश पार्क से होकर आने वाले वाहनों के लिए सीकरी रेलवे फाटक के समीप पार्किंग बनाई गई है। पिलखुआ से कलछीना के रास्ते आने वाले वाहनों के लिए निजामपुर समेत कई स्थानों पर पार्किंग की व्यवस्था की गई है।

इसी प्रकार जाम से बचने के लिए अन्य संपर्क मार्गों का विकल्प भी तलाशा गया है। मेले की सुरक्षा व्यवस्था को बनाए रखने के लिए मंदिर के आसपास व कई स्थानों पर पीएससी की एक प्लाटून के जवानों की तैनाती की गई है। इसके अलावा 28 दरोगा, तीन महिला दरोगा, पांच हैड कांस्टेबल, 165 पुलिसकर्मी व 50 महिला पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं। मेले का प्रभारी जितेंद्र वालियान को बनाया गया है। सीकरी चुंगी पर ट्रैफिक गार्डों को यातायात का संचालन के लिए रखा गया है। एसओ ने बताया कि मेले में सुरक्षा व्यवस्था के लिए ग्रामीणों को बतौर वालन्टियर भी तैनात किया जाएगा। उधर मंदिर तक आवागमन के लिए श्रद्धालुओं को कच्चे रास्ते से ही गुजर कर असुविधाओं का सामना करना पडा। प्रशासन के लाख दावों के विपरीत कई स्थानों पर साफ सफाई व्यवस्था तथा पीने के पानी की व्यवस्था ठीक नहीं रही जिस कारण श्रद्धालु काफी परेशान दिखे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App