ताज़ा खबर
 

मदरसे की परीक्षाएं कालेजों में कराए जाने पर छात्रों का प्रदर्शन

छात्रों ने इन परीक्षाओं को पूर्व की भांति मदरसों में ही आयोजित कराए जाने की मांग की।

Author संतकबीरनगर | April 10, 2016 12:19 AM
मदरसे में तालीम लेते छात्र। (फाइल फोटो) चित्र का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है।

मदरसों की मौजूदा सत्र 2016 की परीक्षाओं को इंटर कालेजों में कराए जाने के निर्णय के खिलाफ परीक्षार्थियों ने शुक्रवार को जुलूस निकाल कर प्रदर्शन किया। उत्तर प्रदेश अल्पसंख्यक कल्याण मंत्रालय ने प्रदेश के मदरसों की परीक्षाएं इंटर कालेज में कराए जाने का निर्णय किया है। उग्र मदरसा छात्रों ने सरकार को अल्टीमेटम दिया है कि यदि मदरसों में ही परीक्षाएं करवाने की उनकी मांग नहीं मानी गर्इं तो वह इस परीक्षा का बहिष्कार करेंगे तथा आगामी 2017 के विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी अंजाम भुगतने को तैयार रहे।

जनपद के सैकड़ों मदरसा परीक्षार्थियों ने जिलाधिकारी कार्यालय पर शुक्रवार को प्रदर्शन किया। मंत्रालय के इस निर्णय के खिलाफ प्रदर्शनकारी छात्रों ने ज्ञापन उत्तर प्रदेश के राज्यपाल, मुख्यमंत्री, प्रदेश मदरसा शिक्षा परिषद् और जिलाधिकारी को सौंपा। छात्रों ने प्रदेश के कैबिनेट मंत्री आजम खां के विरुद्ध नारेबाजी भी की। सैय्यद अनवर सफी उर्फ हसनैन मोहम्मदी ने इन प्रदर्शनकारी छात्रों का नेतृत्व किया। ज्ञापन में मदरसा छात्रों ने मदरसा परीक्षाओं को इंटर कालेजों में कराए जाने का आदेश रद्द करने की मांग की।

उन्होंने इन परीक्षाओं को पूर्व की भांति मदरसों में ही आयोजित कराए जाने की मांग की। छात्रों ने कहा कि परीक्षा की शुचिता को बरकरार रखने के लिए नकल पर रोक लगाने के लिए आवश्यक कार्रवाई की जाए। आंदोलनरत छात्रों का कहना है कि यदि सरकार ने उनकी मांगे नहीं मानीं तो जनपद के हजारों मदरसा छात्र सरकार की र्इंट से र्इंट बजा देंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App