Son of a builder distributed 46 lakhs rupees between his friends - एमपी: बिल्‍डर के लड़के की दरियादिली, दोस्‍तों को दान कर दिए 46 लाख रुपये - Jansatta
ताज़ा खबर
 

एमपी: बिल्‍डर के लड़के की दरियादिली, दोस्‍तों को दान कर दिए 46 लाख रुपये

जबलपुर जिले में 10वीं कक्षा के छात्र ने अनोखा कारनामा किया है। उसने अपने घर की अलमारी में रखे हुए पैसों को अपने दोस्तों पर रौब गांठने के लिए पानी की तरह बहाया। ये रकम करीब 46 लाख रुपये थी।

फ्रेंडशिप डे की प्रतीकात्मक तस्वीर। Express photo by Prashant Nadkar

मध्य प्रदेश के जबलपुर जिले में 10वीं कक्षा के छात्र ने अनोखा कारनामा किया है। उसने अपने घर की अलमारी में रखे हुए पैसों को अपने दोस्तों पर रौब गांठने के लिए पानी की तरह बहाया। ये रकम करीब 46 लाख रुपये थी। जब घर वालों को अलमारी में पैसे कम दिखे और लड़के से पूछताछ हुई तब जाकर पूरे मामले का खुलासा हो सका। अब पुलिस सारे पैसों को लड़के के दोस्तों से वापस लेने में जुटी हुई है।

बताया गया कि जबलपुर जिले के ग्वारीघाट इलाके में रहने वाले बिल्डर ने 60 लाख रुपये में मकान बेचा था। मकान बेचने के बाद पैसे उन्होंने अपने घर की अलमारी में रख दिए। बिल्डर के 10वीं कक्षा में पढ़ने वाले बेटे ने जब घर में रखे पैसों को देखा तो उसका मन बहक गया। उसने फ्रेंडशिप डे के गिफ्ट के तौर पर कोचिंग में होमवर्क करने वाले दोस्त को 3 रुपये दे दिए। जबकि करीब 35 लड़कों को उसने चांदी के कड़े गिफ्ट कर दिए। जबकि तमाम दोस्‍त जिनके पास महंगे मोबाइल नहीं थे उन्हें महंगे मोबाइल भी गिफ्ट कर दिए।

बिल्डर के बेटे ने अपने सबसे करीबी दोस्त को करीब 25 लाख रुपये दे दिए। वहीं एक छात्रा को सोने की अंगूठी भी दी। जबकि एक साथी को महंगा मोबाइल दिलाकर एक युवती से भी बात कराने के लिए कहा था। जब बिल्डर ने एक दिन किसी को देने के लिए घर की अलमारी खोली तो पैसे कम दिखे। गिनती की गई तो पूरे 46 लाख रुपये कम मिले। पहला शक चोर पर किया गया लेकिन फिर लगा कि अगर चोर आता तो पूरे पैसे ले जाता।

इसके बाद घर में लड़के से पूछताछ हुई तो उसने सारी हकीकत बता दी। इसके बाद लड़के के पिता ने गोरखपुर पुलिस स्टेशन में शिकायत लेकर आए। गोरखपुर पुलिस स्टेशन के टीआई संदीप अयाची ने मीडिया को बताया, लड़के ने अपनी शिकायत में आरोप लगाया कि उसके दोस्तों ने उसे धमकाकर पैसे छीन लिए हैं। उसने अपनी शिकायत में करीब 50 लड़कों को आरोपी बनाया था।

बाद में बच्चों के परिजनों ने बिल्डर से थाने में आकर समझौता किया और पांच दिनों में सारे रुपये लौटाने का वायदा किया। जब पुलिस ने दोस्तों से पूछताछ की तो पता चला कि लड़के के दोस्त उसके दिए पैसों से काफी सामान खरीद चुके हैं। कई दोस्त कार खरीद चुके हैं। बाकी अन्य कीमती सामान। अब सारे सामानों की लिस्ट और बचे हुए पैसे जमा किए जा रहे हैं। जिसे पुलिस बिल्डर को वापस करेगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App