ताज़ा खबर
 

मध्य प्रदेश विधान सभा में सीएम शिवराज सिंह चौहान समेत विपक्षी नेताओं ने एक-दूसरे को कहा- चोर, डकैत और माफिया

वाद-विवाद बढ़ता देख स्पीकर सीतासरण शर्मा को हस्तक्षेप करना पड़ा। उन्होंने कहा कि अब मुख्यमंत्री के सिवाय किसी की बात रिकार्ड नहीं की जाएगी।

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (फाइल फोटो)

मध्य प्रदेश विधान सभा के बजट सत्र में गुरुवार को राज्यपाल के अभिभाषण पर चर्चा के दौरान खूब बवाल हुआ। चर्चा की शुरुआत प्रदेश में अवैध खनन को लेकर हुई। इस बीच मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, संसदीय कार्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा और सहकारिता मंत्री विश्वास सारंग की नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह, जीतू पटवारी, तरण भनौत और उमंग सिंगार से तीखी तकरार हुई। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राज्यपाल के अभिभाषण का जवाब देते हुए कहा कि मुझे पता है इंदौर में कौन गैर-कानूनी तरीके से प्रॉपर्टी का धंधा करके आगे बढ़ रहा है। चौहान ने यह बात जीतू पटवारी और तरण भनौत का नाम लिए बगैर कहा।

बता दें कि राज्यपाल के अभिभाषण के बाद सदन में चर्चा के दौरान पटवारी और भनौत सीएम शिवराज सिंह चौहान को बोलने नहीं रहे थे। इससे सीएम नाराज हो गए और सदन में बात तू-तू, मैं-मैं तक आ गई। वहीं पटवारी ने जब सीएम पर पलटवार करना चाहा तो नरोतम मिश्र भड़क गए और कहा कि जिसको मिर्ची लगी है, वह खुद जाने। इस बयान से बहस और छिड़ गई।

पटवारी ने आगे कहा, ‘गलत काम करने वालों को किसी कीमत पर नहीं छोड़ा जाना चाहिए। भले ही वो कोई भतीजा क्यों न हो।’ तभी इस बीच सहकारिता मंत्री विश्वास सारंग भी नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह के निशाने पर आ गए। सिंह ने बिना नाम लिए कहा, मैं नहीं जानता कि भोपाल में सबसे बड़ा सट्टा कौन चला रहा है। बहस के बीच जब कांग्रेस विधायक उमंग सिंघार बोले तो मुख्यमंत्री ने अप्रत्यक्ष रुप से उन्हें डकैतों का समर्थक कह दिया। इस पर उमंग ने धार में आदिवासी महिलाओं पर रेप के बाद पुलिस पर कारवाई न करने का आरोप लगा दिया। इतना कहते ही सदन में हंगामा और बढ़ गया। वाद-विवाद बढ़ता देख स्पीकर सीतासरण शर्मा को हस्तक्षेप करना पड़ा। उन्होंने कहा कि अब मुख्यमंत्री के सिवाय किसी की बात रिकार्ड नहीं की जाएगी। हालांकि, इसके बाद भी सदन में हंगामा कम नहीं हुआ।

क्यों हुआ हंगामा?
सदन में चर्चा दौरान नेता प्रतिपक्ष बने अजय सिंह ने अवैध खनन, व्यापमं, कुपोषण, खेती जैसों मुद्दों को लेकर शिवराज सरकार को घेरा। उन्होंने पचमढ़ी में हाल ही में हुई भाजपा विधायकों की बैठक में चौहान के भाषण पर निशाना साधा। उन्होंने दावा किया कि मुख्यमंत्री ने सलाह दी है कि सभी आर्थिक रूप से संपन्न बनें, लेकिन गाड़ी, मकान, दुकान न खरीदें। उनके इतना कहते ही भाजपा विधायकों ने सदन में हंगामा कर दिया।

देखिए वीडियो - जब आदिवासियों की धुन पर नाच उठे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

ये वीडियो भी देखिए - जब लालकृष्ण आडवाणी के विमान के लिए मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान के हवाई जहाज को लगाना पड़ा धक्का

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App