ताज़ा खबर
 

मध्य प्रदेश के बालाघाट में अवैध पटाखा फैक्ट्री में धमाका, मृतकों की संख्या बढ़कर हुई 22

प्रशासन ने मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये मुआवजा देने का एलान किया है।

बालाघाट जिले के ग्राम खैरी के जंगलों में वारसी पटाखा फैक्ट्री में बुधवार दोपहर को अचानक विस्फोट हो गया। (फोटो-ANI)

मध्य प्रदेश के बालाघाट जिले में बुधवार (7 जून) को पटाखा फैक्ट्री में विस्फोट की खबर है। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक इस हादसे में मरने वालों की संख्या बढ़कर 22 हो गई है जबकि एक दर्जन से ज्यादा लोग गंभीर रुप से जख्मी हुए हैं। स्थानीय अखबार नई दुनिया के मुताबिक, हादसे में अबतक 26 से अधिक मजदूरों की मौत हुई है। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार मृतकों की संख्या और बढ़ सकती है। जिस मकान में विस्फोट हुआ है, वहां से अभी तक केवल तीन मजदूरों को जिंदा निकाला जा सका है। शुरुआती जानकारी के मुताबिक वहां 40 से 45 मजदूरों के फंसे होने की खबर है। सभी मजदूर भरवेली खैरी और भटेरा के थे। घटनास्थल पर राहत और बचाव कार्य जारी है।

ईटीवी के मुताबिक,  ग्राम खैरी के जंगलों में वारसी पटाखा फैक्ट्री में बुधवार दोपहर को अचानक विस्फोट हो गया। इस धमाके के बाद पूरा गोदाम ध्वस्त हो गया। विस्फोट इतना भयावह था कि अधिकांश लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक जी. जनार्दन ने समाचार एजेंसी आईएएनएस को बताया, “कोतवाली थाना अंतर्गत मंडला रोड पर स्थित कटेरा गांव में स्थित पटाखा फैक्ट्री में बुधवार अपराह्न लगभग साढ़े तीन बजे विस्फोट हो गया। इस विस्फोट में कारखाने की दीवारें भी ढह गईं।”

जनार्दन के मुताबिक, “घटना स्थल से 10 शव बरामद कर लिए गए हैं, जबकि गंभीर रूप से घायल तीन लोगों को अस्पताल भेजा गया है। राहत और बचाव कार्य जारी है। ढही दीवारों के नीचे कुछ लोगों के दबे होने की आशंका है। मलबे को हटाने का काम चल रहा है।”

पुलिस और प्रशासन के तमाम बड़े अधिकारी घटनास्थल पर कैंप कर रहे हैं। वहां आग कैसे लगी इस बारे में अभी तक कोई जानकारी नहीं मिल सकी है। इस बीच प्रशासन ने मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये मुआवजा देने का एलान किया है। गौरतलब है कि साल 2015 में भी बालाघाट जिले के किनारपुर में एक अवैध पटाखा फैक्ट्री में धमाका हुआ था। तब तीन मजदूरों की मौत हो गई थी और 12 लोग घायल हुए थे।

मंदसौर: DM पर फूटा किसानों का गुस्सा, शिवराज ने की मुआवजे की रकम 1 करोड़

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App