ताज़ा खबर
 

मध्‍य प्रदेश: सीएम के बेटे ने कराई किरकिरी, बोले- प्रदेश की सड़कें अमेरिका से 100% अच्‍छी, होने लगे ट्रोल

कार्तिकेय, भाजपा की उस युवा पीढ़ी के झंडाबरदार हैं, जो पार्टी के आयोजित कार्यक्रमों के जरिए नई पीढ़ी में अपनी पहचान बना रही है। मुख्यमंत्री के बेटे होने के नाते उनका औपचारिक राजनीतिक करियर उस वक्त शुरू हुआ था जब कार्तिकेय ने जनवरी 2018 में शिवपुरी जिले में जनसभा को संबोधित किया था।

Author Updated: August 2, 2018 3:21 PM
मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपनी पत्नी साधना सिंह और बेटे कार्तिकेय के साथ। फोटो- फेसबुक/kartikeysingh.chauhan

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के बेटे कार्तिकेय ने भी राजनीति की राह पकड़ ली है। इसके लिए उन्होंने अपने पिता के पारंपरिक विधानसभा क्षेत्र बुधनी का चुनाव किया है। उन्होंने बुदनी में ऐलान किया कि इस विधानसभा क्षेत्र से मुख्यमंत्री नहीं बल्कि जनता चुनाव लड़ेगी। कार्तिकेय ने अपने पिता की कही हुई बात को एक बार फिर से कहकर लोगों को हैरत में डाल दिया। उन्होंने दावा किया मध्य प्रदेश की सड़कें अमेरिका की सड़कों से 100 गुना अच्छी हैं।

वैसे बता दें कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने साल 2017 के अक्टूबर में अमेरिका का दौरा किया था। वहां से आकर उन्होंने ये कहकर सनसनी फैला दी थी कि वॉशिंगटन की जिन सड़कों को उन्होंने देखा है, उनसे मध्य प्रदेश की सड़कें 100 गुना बेहतर हैं । उनके शब्द थे,” मैं चुनौती देता हूं कि मध्य प्रदेश की सड़के अमेरिका की सड़कों से 100 फीसदी बेहतर हैं। मैंने अमेरिका का दौरा किया और वहां की सड़कों को देखा। मध्य प्रदेश सरकार ने प्रदेश में सड़कों का बड़ा जाल बिछाया है। ये सड़कें अमेरिका की सड़कों से काफी बेहतर हैं।” ये बातें उन्होंने सिहोर जिले की बुधनी विधानसभा क्षेत्र में आने वाले नसरुल्लागंज इलाके में भाजपा कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहीं।

कार्तिकेय को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की परंपरागत सीट का उत्तराधिकारी समझा जा रहा है। उन्होंने आने वाले चुनावों में अपनी पारंपरिक सीट पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को रोकने और उन्हें हराने की कांग्रेस की चुनौती पर पलटवार किया।

कार्तिकेय सिंह चौहान को मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का राजनीतिक उत्तराधिकारी माना जा रहा है। फोटो- फेसबुक/kartikeysingh.chauhan

कार्तिकेय ने कांग्रेस की चुनौती पर जवाब दिया,” अब मैं पूरी तरह से चुनाव के मूड में हूं और विधानसभा क्षेत्र के मतदाताओं से बात कर रहा हूं। ये मुख्यमंत्री नहीं हैं जो बुधनी से चुनाव लड़ने वाले हैं। ये इस क्षेत्र की जनता है जो पूरी विधानसभा में चुनाव लड़ेगी। बुधनी ने हमेशा अपना नेतृत्व जनता के हाथ में सौंपा है और अपनी ही शैली में लोगों ने इसकी सेवा की है। वे सीएम के तौर पर अपना चुनाव लड़ेंगे और अपनी किस्मत तय करेंगे।”

कार्तिकेय, भाजपा की उस युवा पीढ़ी के झंडाबरदार हैं, जो पार्टी के आयोजित कार्यक्रमों के जरिए नई पीढ़ी में अपनी पहचान बना रही है। मुख्यमंत्री के बेटे होने के नाते उनका औपचारिक राजनीतिक करियर उस वक्त शुरू हुआ था जब कार्तिकेय ने जनवरी 2018 में शिवपुरी जिले में जनसभा को संबोधित किया था। इसके अलावा कार्तिकेय मुंगावली और कोलारस विधानसभा के चुनावों में भी जनसभाओं को संबोधित करते नजर आए ​थे। उन्होंने जनता को पहली बार मुख्यमंत्री की नर्मदा सेवा यात्रा में पिछले साल मई में संबोधित किया था। लेकिन बाद में उन्होंने सिर्फ अपने गृह जिले सीहोर की राजनीतिक गतिविधियों में ही खुद को सीमित कर लिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 सर्वे: एमपी में कांग्रेस-बसपा मिली तो बीजेपी को हो सकता है 39 सीट का नुकसान! 
2 मध्‍य प्रदेश: कांग्रेस चुनाव प्रभारी की पार्टी कार्यकर्ताओं ने ही कर डाली पिटाई, राहुल गांधी ने बुलाई आपात बैठक
3 दिग्‍व‍िजय का सनसनीखेज दावा- बीफ निर्यातकों ने दिया 2014 में नरेंद्र मोदी के चुनाव प्रचार का खर्च