scorecardresearch

शिवराज के सूबे में फिर हुई गोडसे की पूजा, हिंदू महासभा ने जयंती मना लगाए जिंदाबाद के नारे तो बिफरे लोग

हिंदू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जयवीर भारद्वाज का कहना है कि हजारों हिंदुओं का कत्लेआम कर भारत का विभाजन किया गया। इसका विरोध करने वाले नाथूराम गोडसे ने महात्मा गांधी का वध किया था।

hindu mahasabha | gwalior | nathuram godse
ग्वालियर में हिंदू महासभा ने की महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे की पूजा। ( फोटो सोर्स: @ANI)।

ग्वालियर में हिंदू महासभा ने एक बार फिर दौलतगंज स्थित कार्यालय में महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे की पूजा की और नाथूराम के जयकारे लगाए। हिंदू महासभा ने गुरुवार ( 19 मई, 2022 ) को नाथूराम गोडसे का 113वीं जयंती मनाई थी। बता दें कि देश में यह पहली बार नहीं है, जब हिंदू महासभा ने नाथूराम गोडसे की फोटो की पूजा की है। पूजा-अर्चना करने के बाद गोडसे अमर रहे के नारे भी लगाए गए हैं। देश के हर युवा तक गोडसे के व्यक्तित्व को पहुंचाने और हत्या के पीछे की पूरी कहानी पहुंचाने का संकल्प लिया है।

हिंदू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉक्टर जयवीर भारद्वाज का कहना है कि हजारों हिंदुओं का कत्लेआम कर भारत का विभाजन किया गया। इसका विरोध करने वाले नाथूराम गोडसे ने महात्मा गांधी का वध किया था। उनके आखिरी भाषण को पहले ही बैन कर दिया गया था, लेकिन अब उनके ही परिजन ने उस बैन को हटवाया है। उन्होंने कहा कि देश हर एक युवा नाथूराम गोडसे के विचारों को सुनना चाहता है।

बता दें, महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को लेकर ग्वालियर हमेशा चर्चा का केंद्र बिंदु रहा है। साल 2017 में गोडसे का मंदिर बनाना हो या फिर गोडसे की मूर्ति स्थापना की करना रहा हो। ग्वालियर में हिंदू महासभा का कार्यालय है। यहां महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे की हमेशा से पूजा की जाती रही है।

महात्मा गांधी के हत्या करने वाले नाथूराम गोडसे का ग्वालियर से पुराना संबंध है। जानकारी के मुताबिक महात्मा गांधी की हत्या जिस रिवाल्वर से नाथूराम ने की थी। उसकी प्लानिंग भी ग्वालियर में ही बनी थी। इसी प्लानिंग के तहत नाथूराम गोडसे ग्वालियकर से दिल्ली पहुंचा था। यही कारण है कि ग्वालियर स्थित हिंदू महासभा के कार्यालय में नाथूराम गोडसे की जयंती पर कार्यक्रम होते रहते हैं।

हिंदू महासभा द्वारा नाथूराम गोडसे की जयंती मनाए जाने पर अमोल उपाध्याय नाम के एक यूजर्स ने लिखा- ‘सबके अपने-अपने आराध्य हैं, कश्मीर में बुरहान वानी को पूजने वाले हैं…तालिबान लादेन को पूजता है…वैसे ही इधर कुछ गोडसे के भी भक्त हैं। इरशाद मंसूरी नाम के यूजर ने लिखा- ‘ये सब तो होना ही है, बीजेपी है तो मुमकिन है। वीरेंद्र सिंह राजपूत नाम के यूजर लिखते हैं- ‘ इनको ये कैसे संस्कार दिए मोदी जी। पोनी जाट हरियाणे का नाम के यूजर लिखते हैं- ‘ ये गोडसे पक्का देशभक्त था, लेकिन गोली किसी अंग्रेज को नहीं मारी, एक भारतीय हिंदू को मारी, जिसके आखिरी शब्द भी हे राम थे, उसको गोली मारी, गजब देशभक्ति और हिंदू प्रेम है।

पढें मध्य प्रदेश (Madhyapradesh News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट