ताज़ा खबर
 

शौचालय होने के बाद भी खुले में किया शौच, प्रशासन ने 13 परिवारों से वसूला करीब 4 लाख का फाइन

गांववालों को कई मौके पर खुले में शौच न करने के लिए आगाह किया जा चुका है लेकिन वे अपने घर में बने शौचालय का इस्तेमाल करने के लिए तैयार ही नहीं है।

इस तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

मध्य प्रदेश सरकार ने खुले में शौच करने वालों पर नकेल कसना शुरु कर दिया है। राज्य के रायसेन जिले में स्थानीय प्रशासन ने शुक्रवार को खुले में शौच करने वाले 13 परिवारों से करीब 4 लाख रुपए का फाइन वसूला। राज्य में स्वच्छता बनाए रखने के लिए सरकार द्वारा टीमों का गठन किया गया है जो कि गांव-गांव जाकर यह निरीक्षण करती है कि लोग कहीं खुले में शौच तो नही कर रहे हैं। शुक्रवार को भी सरकार द्वारा नियुक्त एक टीम वीरपुर गांव पहुंची जहां पर उन्होंने 13 परिवारों के लोगों को खुले में शौच करते हुए पकड़ा। इन परिवारों से तत्काल ही टीम ने 3,95,500 रुपए फाइन लिया।

बेगमगंज जनपद पंचायत के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रीमा अंसारी ने कहा कि गांव के प्रत्येक घर में शौचालयों का निर्माण कराया जा चुका है लेकिन फिर भी गांव के कई लोग खेतों में शौच करने के लिए जाते हैं। इन गांववालों को कई मौके पर खुले में शौच न करने के लिए आगाह किया जा चुका है लेकिन वे अपने घर में बने शौचालय का इस्तेमाल करने के लिए तैयार ही नहीं है। इस सबको देखते हुए प्रशासन ने फैसला किया कि अब जो भी शौचालय होने के बावजूद खुले में शौच करता हुआ पाया जाएगा उससे हर्जाना लिया जाएगा।

वहीं इससे पहले उत्तर प्रदेश में इटावा जिले के जसवंतनगर के ग्राम आलई में स्वच्छता अभियान को सफल बनाने के लिए ग्राम प्रधान सतेंद्र सिंह यादव ने एक नई पहल शुरु की है जो कि कारगर साबित हो रही है। प्रशासन ने उन सभी लोगों के राशन पर रोक लगा दी है जो कि शौचालय होने के बाद भी खुले में शौच करते हैं। इससे गांव वालों में खलबली है कि कहीं दूसरी सुविधाएं भी न बंद हो जाएं। इस गलती के लिए वे माफीनामा दे रहे हैं कि भविष्य में शौचालय का उपयोग करेंगे। शासन ने ग्रामीणों को शौचालय के साथ स्नानगृह भी बना कर दिए थे। लोगों ने निर्माण कार्य भी कराया है, लेकिन कई गांव वालों ने घर में बने शौचालय में न जाकर खेतों में जाना शुरू कर दिया।

देखिए वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App