ताज़ा खबर
 

दिग्‍व‍िजय का सनसनीखेज दावा- बीफ निर्यातकों ने दिया 2014 में नरेंद्र मोदी के चुनाव प्रचार का खर्च

दिग्विजय सिंह ने भाजपा पर नया आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि पिछले लोकसभा चुनावों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चुनाव प्रचार के लिए बीफ निर्यातकों ने पैसा दिया था। सिंह ने कहा कि 2014 से पहले मोदी भारत में बीफ के निर्यात को गुलाबी क्रांति कहा करते थे।

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह। Express Photo by Tashi Tobgyal

कांग्रेस नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने भाजपा पर नया आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि पिछले लोकसभा चुनावों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चुनाव प्रचार के लिए बीफ निर्यातकों ने पैसा दिया था। दिग्विजय ने ये बातें न्यूज 18 को दिए एक इंटरव्यू में कही हैं। दिग्विजय सिंह ने कहा कि 2014 के चुनाव प्रचार से पहले प्रधानमंत्री मोदी भारत में बीफ के निर्यात की ओर इशारा करते हुए गुलाबी क्रांति कहा करते थे।

कांग्रेस के पूर्व महासचिव रहे दिग्विजय सिंह ने कहा, ”2014 के चुनावों में मोदी जी मित्रों कहते थे, वह उन्हीं हिंदू मित्रों के लिए कहा जाता था जो बीफ के निर्यातक थे। उन्हीं मित्रों ने भाजपा के चुनाव अभियानों के लिए पैसे दान किए। इस सरकार में अब बीफ का निर्यात बढ़ गया है।”
दावे के आधार के बारे में सवाल पूछने पर उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग की वेबसाइट पर हर पार्टी के दानदाताओं की लिस्ट मौजूद है।

दिग्विजय सिंह ने अपने इंटरव्यू में सत्ता पाने के लिए ऐसे मुद्दों के इस्तेमाल का आरोप लगाया। उन्होंने कहा, ” गौ रक्षकों ने कानून को अपने हाथों में लेना शुरू कर दिया है। वे मासूम लोगों की पीट—पीटकर हत्या कर रहे हैं और उन लोगों से पैसा ऐंठ रहे हैं जो पशु कारोबारी हैं।” दिग्विजय सिंह कभी कांग्रेस के सबसे ताकतवर महामंत्री हुआ करते थे।

इसी साल दिग्विजय सिंह ने पूरे मध्य प्रदेश में नर्मदा परिक्रमा यात्रा निकाली थी। इस यात्रा को उनकी छवि सुधारने की कोशिश के तौर पर देखा गया था। हालांकि सिंह ने साफ कर दिया था कि व​ह अब मुख्यमंत्री पद की दौड़ में नहीं हैं। उन्होंने साफ कहा,”मेरे राहुल जी और कमलनाथ जी के बीच में टकराव कहां है? मैं मुख्यमंत्री पद की दौड़ में नहीं हूं। मैं ये बात सार्वजनिक तौर पर भी कह चुका हूं।”

चुनाव करीब आते ही, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पहला बड़ा उलटफेर किया था। उन्होंने कांग्रेस में फैसले लेने वाली सबसे शक्तिशाली कांग्रेस वर्किंग कमिटी से दिग्विजय का नाम हटा दिया था। जबकि कमलनाथ को मध्य प्रदेश कांग्रेस कमिटी का अध्यक्ष भी बना दिया गया। कांग्रेस ने छिंदवाड़ा के सांसद पर भरोसा जताकर बड़ा दांव खेला है। उन्हें उम्मीद है कि शायद कमलनाथ मध्य प्रदेश में कांग्रेस का 15 सालों का सूखा समाप्त करने में कामयाब हो जाएं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App