ताज़ा खबर
 

गैर मर्द से संबंध के शक में पति ने काट डाला बीवी का पैर, फिर टूटी हड्डियों का तकिया बनाकर सो गया

हरि प्रसाद अपनी बीवी को अस्पताल लेकर नहीं जा रहा था क्योंकि उसे डर था कि कहीं उसका जुर्म सबके सामने न आ जाए।

लेडी गैंगलीडर ने चाकुओं से गोदकर की हत्या। (प्रतीकात्मक फोटो)

मध्य प्रदेश के दमोह जिले में एक शख्स ने पराए मर्द से संबंध होने के शक में अपनी पत्नी का पैर काट दिया। पत्नी का पैर काटने के बाद दो दिन तक आरोपी उसे घर में बंद करके उसका उपचार करता रहा। इतना ही नहीं पैर के टूटे हिस्से को वह तकिया बनाकर इस्तेमाल कर रहा था। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। यह मामला दमोह के उदयपुरा गांव का है। 27 वर्षीय हरि प्रसाद को अपनी बीवी अनीता के किसी और मर्द के साथ संबंध होने का शक था। इसे लेकर आए दिन दोनों में झगड़े होते रहते थे। जिस दिन यह घटना हुई उस दिन भी उसका अपनी बीवी के साथ इस बात को लेकर झगड़ा हुआ था। हरि प्रसाद जब उस पर चिल्ला रहा था तो वह घर से निकलने लगी, तभी आरोपी ने उसे पकड़ लिया और उसके सीधे पैर का  घुटना किसी धारदार चीज से काट दिया। इसके बाद आरोपी ने उसे कमरे में बंद कर दिया और उसके जख्म पर एक पट्टी बांधी जिससे कि खून बहना बंद हो जाए।

हरि प्रसाद ने घर में ही अपनी बीवी का उपचार करने की सोची और उसके जख्म पर नींबू और हल्दी से लेप करने लगा। इसी बीच आरोपी ने एक कपड़े से अपनी बीवी के कटे हुए पैर को लपेटा और उसका तकिया बनाकर आराम करने लगा। हरि प्रसाद अपनी बीवी को अस्पताल लेकर नहीं जा रहा था क्योंकि उसे डर था कि कहीं उसका जुर्म सबके सामने न आ जाए। हरि प्रसाद के ससुर उसके घर के पास में ही रहते हैं और जब उन्होंने दो दिन तक अपनी बेटी को घर से बाहर निकलते हुए नहीं देखा तो उन्हें शक हुआ, जिसके बाद उन्होंने इसकी सूचना पुलिस को दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने हरि प्रसाद के घर पहुंच अनीता को दमोह जिला अस्पताल में भर्ती कराया।

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि अनीता की हालत गंभीर बनी हुई है क्योंकि उसका बहुत खून बह चुका है और उसके शरीर में इंफेक्शन हो गया है। वहीं डॉक्टरों का कहना है कि अनीता को अब पूरी जिंदगी एक पैर के सहारे ही बितानी पड़ेगी क्योंकि काटा गया पैर इस हालत में नहीं है कि उसे फिर से उसके शरीर से जोड़ा जा सके।

देखिए वीडियो - मध्य प्रदेश: महिला IAS से खनन माफिया ने की अभद्रता

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App