ताज़ा खबर
 

बीजेपी सांसद बोले- इंटरनेट और स्मार्टफोन पर अश्लील चीजें देख रहे हैं लड़के, दिमाग पर पड़ रहा गलत असर

मध्य प्रदेश बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष से जब पूछा गया कि राज्य में सायबर सेल है, क्या ऐसे कंटेट पर रोक नहीं लगाई जा सकती है। तो बीजेपी सांसद ने कहा कि सायबर सेल के द्वारा इतनी बारीकी से लगाम लगाना संभव नहीं है।

बीजेपी सांसद एमपी के दमोह में पत्रकारों से बात कर रहे थे।

महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराध के लिए बीजेपी सांसद ने युवाओं द्वारा इंटरनेट और स्मार्टफोन के इस्तेमाल को जिम्मदार बताया है। मध्य प्रदेश के खंडवा से बीजेपी सांसद नंद कुमार चौहान ने कहा कि लड़के इंटरनेट और स्मार्टफोन पर अश्लील सामग्री देखते हैं और इसका असर उनके दिमाग पर पड़ता है। महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराध पर उन्होंने कहा, “मैं समझता हूं कि इन दिनों इंटरनेट और स्मार्टफोन तक लोगों की आसानी से पहुंच है, लोग इस पर गंदी चीजें देखते हैं इससे उनके भोले दिमाग पर नकारात्मक असर पड़ता है, ये सारी चीजें मीडिया में भी रिपोर्ट की गई है।” बीजेपी सांसद दमोह में मीडिया से बात कर रहे थे।

मध्य प्रदेश बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष से जब पूछा गया कि राज्य में सायबर सेल है, क्या ऐसे कंटेट पर रोक नहीं लगाई जा सकती है। तो बीजेपी सांसद ने कहा कि सायबर सेल के द्वारा इतनी बारीकी से लगाम लगाना संभव नहीं है। उन्होंने कहा, “ये सायबर सेल क्या इतनी बारीक चीजें देख पाएगा, सायबर सेल एक-एक मोबाइल तक कैसे पहुंचेगा…दुनिया में इतनी दूर तक सायबर सेल नहीं पहुंच पाया है, हमारा देश तो छोड़िये।” हालांकि नंद कुमार चौहान ने इस बयान को अपनी व्यक्तिगत राय बताई। बता दें कि नंद कुमार चौहान पहले भी विवादित भाषा बोलते रहे हैं। जम्मु-कश्मीर के कठुआ में बच्ची के साथ रेप की घटना पर उन्होंने कहा था कि ये साजिश पाकिस्तान ने रची है। बता दें कि मध्य प्रदेश के मंदसौर में अभी कुछ दिन पहले ही 8 साल की बच्ची से रेप की घृणित वारदात हुई थी। इसके बाद सतना में भी रेप की एक खबर आई थी। मंदसौर की घटना पर देश भर में प्रदर्शन हुए थे और दोषी के लिए फांसी की सजा की मांग की गई थी।

HOT DEALS
  • Honor 7X Blue 64GB memory
    ₹ 15390 MRP ₹ 17990 -14%
    ₹0 Cashback
  • MICROMAX Q4001 VDEO 1 Grey
    ₹ 4000 MRP ₹ 5499 -27%
    ₹400 Cashback

नंद कुमार चौहान ने एक बार कहा था कि पुलिस दबाव में काम करती है और जब एक अपराधी जुर्म करने के बाद एमपी, एमएलए से मदद मांगते हैं तो उन्हें पुलिस को फोन करना पड़ता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App