scorecardresearch

बेटे ने प‍िता समझ क‍िसी और का कर द‍िया अंत‍िम संस्‍कार, जानिए कैसे उलझा मामला

तहसीलदार नरेंद्र सिंह ठाकुर के बेटे ने सोने की चेन और ॐ की लॉकेट को देखकर शव की पहचान की और फिर अंतिम संस्कार किया।

बेटे ने प‍िता समझ क‍िसी और का कर द‍िया अंत‍िम संस्‍कार, जानिए कैसे उलझा मामला
प्रतीकात्मक तस्वीर (Photo Credit – Pixabay)

मध्य प्रदेश में अगस्त महीने में भारी बारिश का दौर चल रहा था और कई नदी-नाले उफान पर थे। कई लोगों का जनजीवन भारी बारिश के कारण अस्त-व्यस्त हुआ था। वहीं 15 अगस्त की रात सीहोर निवासी तहसीलदार नरेंद्र सिंह ठाकुर सीवन नदी में अपनी कार के साथ बह गए थे। इसके बाद प्रशासन सक्रिय हुआ और 9 दिन तक उन्हें खोजा गया। इसी बीच 15 किलोमीटर बाद पार्वती नदी है और वहां एसडीआरएफ की टीम को एक शव मिलता है।

प्रशासन को लगा कि यह शव तहसीलदार का है और इसकी पहचान के लिए तहसीलदार के परिवार को बुलाया गया। शव की स्थिति काफी बुरी थी और परिवार ने शव के कद को देखा और शिनाख्त कर ली कि यह शव तहसीलदार नरेंद्र सिंह का ही है। इसके बाद बेटे ने अंतिम संस्कार करने का फैसला किया और अंतिम संस्कार किया गया।

परिवार के अंतिम संस्कार करने के बाद मामला शांत हो गया और पुलिस की फाइलों में भी मामले को बंद कर दिया गया वहीं इसके ठीक 15 दिन बाद सीवन नदी में एक और शव मिलता है लेकिन इस शव को लावारिस बताकर पुलिस इस दफना देती है बाद में पता चलता है कि शव के गले में सोने की चेन थी और ॐ का लॉकेट थी बाद में तहसीलदार के परिवार को खबर मिलती है और परिवार दबाव बनाकर शव को कब्र से बाहर निकलवाता है

इसके बाद तहसीलदार के बेटे ने सोने की चेन और ॐ की लॉकेट के आधार पर शव की पहचान की और इसे अपने पिता यानी तहसीलदार का शव बताया। फिर इसके बाद इस शव का 16 सितंबर को अंतिम संस्कार किया गया।

वहीं दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार 10 सितंबर को सीहोर के सेवनिया ग्राम के पास सीवन नदी में एक गड्‌ढे में काफी बुरी हालत में शव मिला था, जो सड़ चुका था। पुलिस ने इस शव को लावारिस समझकर दफना दिया। गले में सोने की चेन में ॐ लॉकेट की बात सामने आने पर यह कयास लगाए जाने लगे कि शव तहसीलदार का है। खबर फैलने पर परिवार के लोग भी थाने पहुंचे और उन्हें सोने की चेन और शव पर मिला टीशर्ट का टुकड़ा दिखाया गया। ॐ लॉकेट देखते ही तहसीलदार के बेटे पुष्पेंद्र ने शव की पुष्टि कर दी।

पढें भोपाल (Bhopal News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 27-09-2022 at 06:54:47 pm
अपडेट