scorecardresearch

मध्य प्रदेश में बवालः सरपंच के चुनाव में लगे पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे? सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो की क्या है सच्चाई, जानें

सरपंच चुनाव में जीती हुई प्रत्याशी के समर्थकों पर आरोप लगाया गया था कि उन्होंने जश्न के दौरान पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए।

vijay singh| madhya pradesh| katni|
सीएसपी विजय प्रताप सिंह (फोटो सोर्स: @Ani)

मध्य प्रदेश के कटनी में सरपंच की जीत पर समर्थकों द्वारा कथित तौर पर पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए जाने का मामला सोशल मीडिया पर सामने आया था। घटनाक्रम का वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा था। मामले की शिकायत दर्ज कराई गई थी। वहीं सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस मामले की जांच में जुट गई। जीती हुई सरपंच के पति ने कहा है कि पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे नहीं लगाए गए।

मध्य प्रदेश के कटनी में चाका ग्राम पंचायत में चुनाव हुए थे और उसकी मतगणना चल रही थी। मतगणना में प्रत्याशी रहीसा वाजिद खान विजई घोषित की गई। उसके बाद उनके समर्थक जश्न मनाने लगे और नारेबाजी करने लगे। नारेबाजी के दौरान ही आरोप लगा कि पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे भी लगाए गए और सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल हो रहा है। लेकिन हकीकत कुछ और है।

वीडियो वायरल होने के बाद फैक्ट चेकिंग वेबसाइट ऑल्ट न्यूज़ ने घटना का फैक्टचेक किया और फैक्ट चेक करने के बाद दावा किया कि दरअसल पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे नहीं लगाए गए थे, बल्कि “जीत गया भाई जीत गया, वाजिद भाई जीत गया” और “वाजिद भाई जिंदाबाद” के नारे लगाए गए थे।

वीडियो वायरल होने के बाद ही सरपंच प्रत्याशी रहीसा वाजिद खान के पति ने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए जाने का खंडन किया था। उन्होंने कहा था कि मेरी पत्नी बीजेपी की सदस्य हैं और सरपंच बनी है, जबकि मैं भी जनपद का सदस्य रह चुका हूं। हम हिंदू बहुल इलाके में रहते हैं और पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने का कोई सवाल ही नहीं उठता। उन्होंने विरोधियों पर आरोप लगाते हुए कहा था कि विरोधियों ने उनकी जीत से नाराज होकर धार्मिक रंग देने की कोशिश की।

वहीं इस पूरी घटना पर सीएसपी विजय प्रताप सिंह ने बताया था, “हमें शिकायत मिली है कि सरपंच चुनाव में एक समूह द्वारा कथित तौर पर ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे लगाए गए थे और वीडियो को सोशल मीडिया पर डाल दिया गया था। हमने शिकायत को संज्ञान में लिया है। जांच जारी है।”

वहीं अभी तक सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो के सच होने की पुष्टि नहीं हुई है। पुलिस मामले की जांच कर रही है और वीडियो के सत्यापन की भी जांच की जा रही है। वीडियो का फैक्ट चेक ऑल्ट न्यूज ने किया है।

पढें भोपाल (Bhopal News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट

X