ताज़ा खबर
 

25 करोड़ का दिया जा रहा लालच, लेकिन BSP समेत सभी MLA चट्टान की तरह अडिग: कमलनाथ

पत्रकार द्वारा सीएम के दावे की सत्यता पूछने पर कमलनाथ ने कहा, '15 मिनट पहले ही एक विधायक मेरे पास आया। उन्होंने बताया कि वो लोग संपर्क कर रहे हैं। बातचीत के लिए बुलाया जा रहा है। वो हमारे विधायकों को खरीदने की कोशिश कर रहे हैं। मगर उन्हें यह भी पता होना चाहिए कि कांग्रेस विधायक बिकाऊ नहीं हैं। निर्दलीय विधायक भी बिकाऊ नहीं हैं।'

Author Published on: May 22, 2019 12:12 PM
मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ। (इंडियन एक्सप्रेस फोटो)

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रदेश में विपक्षी दल भाजपा पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि उनके विधायकों को खरीदने की कोशिश की जा रही है। करोड़ो रुपए और मंत्री पद का लालच दिया जा रहा है। इंडिया टुडे के कार्यक्रम में सीएम कमलनाथ ने कहा कि विधायकों संग बैठक में कम से कम दस एमएलए ने बताया कि उनसे पाला बदलने के लिए कहा जा रहा है। बार-बार फोन किया जा रहा है। भाजपा के साथ आने के लिए लालच दिया जा रहा है। मगर कांग्रेस विधायक चट्टान की तरह अडिग हैं और कोई विधायक बिकाऊ नहीं है। कमलनाथ ने कहा, ‘कांग्रेस विधायकों को दस करोड़ रुपए, बीस करोड़ रुपए, पच्चीस करोड़ रुपए का लालच दिया जा रहा है। उन्हें मंत्री बनाने का लालच दिया जा रहा है। वो (भाजपा) हमारे विधायकों को खरीदने की कोशिश कर रहे हैं मगर मुझे कांग्रेस के सभी विधायकों पर भरोसा है। बसपा-सपा और निर्दलीय विधायक भी हमारे साथ हैं। कोई कहीं नहीं जा रहा है।’

पत्रकार द्वारा सीएम के दावे की सत्यता पूछने पर कमलनाथ ने कहा, ’15 मिनट पहले ही एक विधायक मेरे पास आया। उन्होंने बताया कि वो लोग संपर्क कर रहे हैं। बातचीत के लिए बुलाया जा रहा है। वो हमारे विधायकों को खरीदने की कोशिश कर रहे हैं। मगर उन्हें यह भी पता होना चाहिए कि कांग्रेस विधायक बिकाऊ नहीं हैं। निर्दलीय विधायक भी बिकाऊ नहीं हैं।’ बता दें कि 230 सीटों वाले एमपी में सरकार बनाने के लिए 116 सीटें होना जरुरी है। वर्तमान में भाजपा के 109 विधायक हैं और कांग्रेस 114 विधायकों के साथ सदन में सबसे बड़ी पार्टी है। प्रदेश में बसपा के दो और सपा के एक विधायक सहित चार निर्दलीय विधायकों के समर्थन से कमलनाथ राज्य में सरकार चला रहे हैं।

वहीं प्रदेश में विरोधी दल द्वारा समर्थक विधायकों के पाला बदलने के डर से कमलनाथ सरकार ने सहयोगी दलों बसपा और सपा के विधायकों को मंत्रिमंडल में स्थान देने के उद्देश्य से मंत्रिमंडल विस्तार प्रयास तेज कर दिए हैं। प्रदेश कांग्रेस के एक नेता ने बताया कि लोकसभा चुनाव के बाद होने वाले कांग्रेस सरकार के मंत्रिमंडल विस्तार में बसपा विधायक संजीव सिंह कुशवाह, सपा विधायक राजेश शुक्ला और निर्दलीय विधायक सुरेन्द्र सिंह को स्थान दिए जाने की उम्मीद है। प्रदेश में 230 कुल विधायकों के 15 प्रतिशत के हिसाब से मंत्रिमंडल में अधिकतम 34 सदस्य हो सकते हैं, जबकि प्रदेश में फिलहाल 25 कैबिनेट मंत्री हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 किससे पूछ कर दी कमलनाथ सरकार को ‘फ्लोर टेस्ट’ की चुनौती? अब अपने ही नेताओं से पूछ रही बीजेपी!