ताज़ा खबर
 

Election Results 2019: कांग्रेस में हार पर हड़कंप, अब सीएम कमलनाथ ने की इस्तीफे की पेशकश

Chunav Result 2019, Lok Sabha Election Results 2019: कांग्रेस ने 2019 के लोकसभा चुनावों में मात्र 52 सीटों पर जीत दर्ज की है। हालांकि, 2014 के मुकाबले पार्टी ने आठ सीटें ज्यादा जीती हैं लेकिन सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में पार्टी एकमात्र सीट पर सिमटकर रह गई है।

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ। (Photo: ANI)

Election Results 2019: लोकसभा चुनावों में करारी हार के बाद मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस में हड़कंप मचा हुआ है। पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने पहले इस्तीफे की पेशकश की, जिसे कांग्रेस कार्यसमिति ने खारिज कर दिया। अब मध्य प्रदेश के सीएम कमलनाथ ने एमपी कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने की पेशकश की है। कांग्रेस महासचिव दीपक बावरिया के हवाले से समाचार एजेंसी एएनआई ने लिखा है कि कमलनाथ ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने की पेशकश की है। इससे पहले यूपी कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर ने इस्तीफा भेज दिया है। अमेठी कांग्रेस अध्यक्ष ने भी अपना इस्तीफा पार्टी आलाकमान को भेजा है। इनके अलावा कर्नाटक कांग्रेस के अभियान प्रमुख एच के पाटिल और ओडिशा कांग्रेस प्रमुख निरंजन पटनायक भी इस्तीफा दे चुके हैं।

इससे पहले लोकसभा चुनाव में करारी हार की जिम्मेदारी लेते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शनिवार को पार्टी की कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक में इस्तीफे की पेशकश की, लेकिन सदस्यों ने सर्वसम्मति इसे ठुकरा दिया और प्रतिकूल परिस्थिति में उनसे पार्टी का नेतृत्व करते रहने का आग्रह किया। साथ ही सीडब्ल्यूसी की बैठक में गांधी को पार्टी संगठन में हर स्तर पर आमूलचूल परिवर्तन के लिए अधिकृत किया गया। कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में लोकसभा चुनाव में करारी हार के कारणों पर मंथन किया गया और एक प्रस्ताव पारित किया गया।

सूत्रों के मुताबिक बैठक में राहुल गांधी ने लोकसभा चुनाव की हार की जिम्मेदारी ली और कहा कि वह अध्यक्ष पद पर बने नहीं रहना चाहते हैं, लेकिन पार्टी एवं इसकी विचारधारा के लिए काम करते रहेंगे। सोनिया गांधी, मनमोहन सिंह, प्रियंका गांधी तथा पार्टी के दूसरे वरिष्ठ नेताओं ने उन्हें रोका। इस दौरान कुछ नेता भावुक भी हो गए। बैठक के बाद पार्टी के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने संवादाताओं से कहा, ”राहुल गांधी जी ने इस्तीफे की पेशकश की। सभी सदस्यों ने सर्वसम्मति से उनकी पेशकश को खारिज किया और आग्रह किया कि आपके नेतृत्व की जरूरत है और आगे भी रहेगी। अगर कोई नेता राष्ट्रीय स्तर पर विपक्ष की भूमिका निभा सकता है तो वह राहुल गांधी हैं।”

बैठक में शामिल एक नेता ने बताया कि पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम भावुक हो गए और यहां तक कह दिया कि अगर राहुल गांधी अध्यक्ष पद छोड़ते हैं तो दक्षिण भारत में लोग भावना में आकर कुछ भी कदम उठा सकते हैं। सीडब्ल्यूसी की बैठक में राहुल गांधी के अलावा संप्रग प्रमुख सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा और कार्यसमिति के अन्य सदस्य शामिल हुए। (भाषा इनपुट के साथ)

Loksabha Election 2019 Results live updates: See constituency wise winners list 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X