ताज़ा खबर
 

भोपाल गैंगरेप: चार लोगों ने किया छह बार रेप, डॉक्टर ने मेडिकल रिपोर्ट में लिखा- सहमति से हुआ सेक्स

पीड़ित लड़की भारतीय लोक सेवा आयोग कि प्रतियोगी परीक्षा की तैयार करती है।

इस तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीक के तौर पर किया गया है। (Source: Express Archives)

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में एक 19 वर्षीय लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार मामले में डॉक्टरों की लापरवाही का शर्मनाक मामला सामने आया है। एनडीटीवी की रिपोर्ट के अनुसार बलात्कार पीड़िता की मेडिकल रिपोर्ट में “एक जूनियर डॉक्टर ने गलती से” बलात्कार को “सहमति से किया गया सेक्स” लिख दिया। रिपोर्ट के अनुसार डॉक्टर ने लिखा कि पीड़िता ने दो अभियुक्तों के साथ सहमति से शारीरिक संबंध बनाए थे। पीड़ित लड़की से बलात्कार के आरोप में पुलिस ने चार अभियुक्तों को गिरफ्तार किया है। ये रिपोर्ट सुल्तानिया अस्पताल में तैयार की गयी थी जो सरकारी अस्पताल है। अस्पताल के प्रभारी ने एनडीटीवी के से कहा कि “ये रिपोर्ट एक जूनियर डॉक्टर ने तैयार की थी और गलती को सही कर लिया गया है।”

भारतीय लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) की परीक्षा की तैयार कर रही लड़की के साथ 31 अक्टूबर को भोपाल के हबीबगंज रेलवे स्टेशन के समीप चार लोगों ने बलात्कार किया। पुलिस में दर्ज प्राथमिकी के अनुसार लड़की के संग छह बार बलात्कार किया गया। एफआईआर के अनुसार चारो अभियुक्तों ने लड़की के संग बलात्कार के दौरान बीच में चाय-गुटका खाने के लिए अवकाश लेकर उसका उत्पीड़न करते रहे। एक आरोपी ने लड़की का गला दबाकर मारने की कोशिश की थी लेकिन उसे बेसुध पाकर वो उसे उसी हाल में छोड़ कर चले गये। लड़की कोचिंग से पढ़ाई करके घर लौटने के लिए ट्रेन पकड़ने स्टेशन जा रही थी।

लड़की की शिकायत के अनुसार पुलिस ने शुरू में उसकी शिकायत लेने में आनाकानी की थी। लड़की की शिकायत दर्ज करने मे 11 घंटे की देरी  के लिए 10 पुलिस वालों को निलंबित कर दिया गया और तीन का तबादला कर दिया गया। पीड़ित लड़की के माता-पिता दोनो ही पुलिस सेवा में काम करते हैं। लड़की ने अपने माता-पिता के साथ मिलकर दो अभियुक्तों को स्थानीय बाजार में पहचान कर पकड़ लिया और पुलिस के हवाले कर दिया। पुलिस द्वारा लड़की शिकायत दर्ज कराने के बाद तैयार की गयी पहली मेडिकल रिपोर्ट में लिखा था कि लड़की ने “सहमति से संबंध” बनाया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App