madhya pradesh shivraj singh chauhan rally on 30 may in police send notice to farmers- मंदसौर में शिवराज की रैली, मृत किसान के बेटे से पुलिस ने लिया वादा- कार्यक्रम में हिंसा नहीं करोगे - Jansatta
ताज़ा खबर
 

मंदसौर में शिवराज की रैली, मृत किसान के बेटे से पुलिस ने लिया वादा- कार्यक्रम में हिंसा नहीं करोगे

बीजेपी प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने आरोप लगाया है कि कांग्रेस किसानों को उकसाना चाहती है। लेकिन सरकार इस बार कोई भी गलती नहीं करेगी और किसी भी तरह की हिंसा से निपटने के लिए पुलिस तुरंत उचित कार्रवाई करेगी।

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (पीटीआई फाइल फोटो)

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मंदसौर जिले में 30 मई को एक जनसभा करने वाले हैं। यह वहीं मंदसौर जिला है जहां पिछले साल यानी 2017 में किसानों के एक प्रदर्शन के दौरान पुलिस फायरिंग में छह किसानों की जान चली गई थी। उस वक्त इस मामले को लेकर काफी हंगामा  हुआ था। सीएम के मंदसौर दौरे को लेकर मध्य प्रदेश राज्य कांग्रेस अध्यक्ष जीतू पटवारी ने शिवराज सिंह चौहान पर निशाना साधा है। उन्होंने सरकार से सवाल पूछा कि पिछले साल हुई हिंसा में किसानों की हत्या का आरोपी कौन है? इस हिंसा की जांच के लिए बने आयोग का क्या हुआ? जीतू पटवारी ने आरोप लगाया कि पुलिस ने अब तक एक हजार से ज्यादा किसानों से यह बॉन्ड भरवाया है कि वो सीएम की रैली में हंगामा नहीं करेंगे।

इधर पिछले साल हिंसा में मारे गए किसान अभिषेक पाटीदार के भाई मधुसूदन ने इकोनॉमिक्स टाइम्स से बातचीत में कहा कि गुरुवार को इस संबंध में मिले नोटिस को देखकर वो चौंक गए। लेकिन अचानक शुक्रवार को पुलिस ने यह नोटिस वापस ले लिया और इसे रद्द कर दिया। शनिवार को कांग्रेस के कुछ नेता घर पहुंचे और उन्होंने उनसे यह कहा कि राहुल गांधी हिंसा में मारे गए सभी छह किसानों को श्रद्धांजलि देने के लिए आ रहे हैं जिसमें वो लोग भी जरूर आएं।

इधर बीजेपी प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने आरोप लगाया है कि कांग्रेस किसानों को उकसाना चाहती है। लेकिन सरकार इस बार कोई भी गलती नहीं करेगी और किसी भी तरह की हिंसा से निपटने के लिए पुलिस तुरंत उचित कार्रवाई करेगी। शनिवार और रविवार को मुख्यमंत्री ने रतलाम जिले के दौरे के दौरान कहा कि कांग्रेस राज्य में अराजकता को बढ़ावा दे रही है और लोगों के खून से खेलना चाहती है।

आपको बता दें कि पिछले साल मंदसौर हिंसा में मारे गए सभी पीड़ित परिवार को शिवराज सरकार ने 1 करोड़ रुपये और घर के एक सदस्य को नौकरी बतौर मुआवजे के रुप में दिया है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक मुख्यमंत्री ने मंदसौर, रतलाम और नीमच के सांसदों, विधायकों के साथ बैठक कर उन्हें किसानों से मिलने और कांग्रेस के दुष्प्रचार से उन्हें अवगत कराने के लिए कहा है।

खबर यह भी है कि राज्य सरकार ने एहतियात के तौर पर रैली में पुलिस को किसी भी तरह की फायरिंग और लाठी चार्ज नहीं करने को कहा है। ऐसी उम्मीद जताई जा रही है कि इस रैली में करीब 1 लाख लोग शामिल हो सकते हैं। इधर 6 जून को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी मध्य प्रदेश में चुनाव प्रचार का आगाज करेंगे। 6 जून को मंदसौर में पिछले साल मारे गए छह किसानों की पहली बरसी भी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App