ताज़ा खबर
 

Madhya Pradesh Political Crisis: कमलनाथ सरकार के लिए अब बहुमत दूर की कौड़ी, SP, BSP निर्दलीय भी मिलकर कुछ नहीं कर सकते जानें- MP विधानसभा का गणित

228 में 20 विधायकों के इस्तीफा देने के बाद 220 सीटें बचती हैं। ऐसे में बहुमत साबित करने का आंकड़ा 105 सीट का हो जाता है। कांग्रेस के पास स्पीकर सहित 95 विधायक हैं।

कमलनाथ के नेतृत्व वाली 15 महीने पुरानी कांग्रेस सरकार गिरने के कगार पर पहुंच गई है। (फाइल फोटो)

Madhya Pradesh Political Crisis: मध्यप्रदेश में वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा कांग्रेस के लिए बड़ा झटका साबित हुआ है। सिंधिया के इस्तीफे के बाद उनके खेमे के समर्थक 22 विधायक इस्तीफा दे चुके हैं। इन विधायकों ने ईमेल के जरिये राजभवन को अपनी विधानसभा सदस्यता से इस्तीफा भेजा।

कांग्रेस के बागी विधायकों के इस कदम से प्रदेश में कमलनाथ के नेतृत्व वाली 15 महीने पुरानी कांग्रेस सरकार गिरने के कगार पर पहुंच गई है। कमलनाथ सरकार के लिए विधानसभा में बहुमत साबित करना अब दूर की कौड़ी लगता है। यदि समाजवादी पार्टी और बसपा और निर्दलीय विधायक भी मिला लिए जाएं तो कांग्रेस के लिए विधानसभा में बहुमत साबित करना मुश्किल हो जाएगा।

मौजूदा विधानसभा के गणित की बात करें तो 230 सदस्यों वाली विधानसभा में 2 सीटें खाली हैं। 228 में 22 विधायकों के इस्तीफा देने के बाद 206 सीटें बचती हैं। ऐसे में बहुमत साबित करने का आंकड़ा 104 सीट का हो जाता है। कांग्रेस के पास स्पीकर सहित 92 विधायक हैं। ऐसे में 4 निर्दलीय विधायकों के अलावा सपा और कांग्रेस के 1-1 विधायक भी शामिल कर ले तो भी यह आंकड़ा 101 ही पहुंचता है। जबकि भाजपा के पास 107 विधायक हैं। ऐसे में मौजूदा अंकगणित के लिहाज से भाजपा सरकार बना सकती है।

दूसरी तरफ कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेता इस बात को स्वीकार कर चुके हैं अब मध्यप्रदेश में पार्टी की सरकार बचना नामुमकिन है। लोकसभा में कांग्रेस दल के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि ज्योतिरादित्य सिंधिया का जाना हमारे लिए बड़ा नुकसान है। मुझे नहीं लगता कि मध्यप्रदेश में अब हमारी सरकार बच पाएगी। वहीं, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री के भाई लक्ष्मण सिंह ने कहा कि अब विपक्ष में बैठने की तैयारी करनी चाहिेए। हम मजबूती के साथ लड़ेंगे और जनता की आवाज उठाएंगे।

कुल सीट-230
रिक्त सीट-2
विधायकों का इस्तीफा- 22
शेष सीट- 206
बहुमत का आंकड़ा-104

दलीय स्थितिः भाजपा-107
कांग्रेस- 92 (स्पीकर सहित)
निर्दलीय-4
सपा- 1
बसपा- 1

Next Stories
1 दिल्लीः पूर्व GF की दूसरे से दोस्ती न कर सका बर्दाश्त! फ्लैट में घुस लड़की और उसकी मां को चाकुओं से गोद उतारा मौत के घाट
2 केरलः 3 साल का मासूम जांच में Coronavirus का पॉजिटिव, विश्व भर में संक्रमितों की संख्या एक लाख के पार; एयरपोर्ट्स को हो सकता है 3 अरब डॉलर का नुकसान
3 कार्यकाल के 100 दिन होने पर उद्धव ठाकरे पहुंचे अयोध्या, BJP ने साधा निशाना तो Shivsena बोली- भाजपा वाले नहीं पचा पा रहे हैं यात्रा, खुद हैं ढोंगी
ये पढ़ा क्या?
X