ताज़ा खबर
 

मध्य प्रदेश में पुलिस ने जब्त की बीजेपी विधायक की गाड़ी, आचार संहिता उल्लंघन का नोटिस भी थमाया

मध्य प्रदेश पुलिस ने बीजेपी विधायक शैलेंद्र जैन को आचार संहिता का उल्लंघन करने के मामले में नोटिस थमाया है और उनकी गाड़ी को भी जब्त कर लिया। पुलिस ने 24 फरवरी को मुंगावली में होने वाले विधानसभा के उपचुनाव को देखते हुए विधायक शैलेंद्र जैन पर अशोक नगर में कार्रवाई की।

मध्य प्रदेश पुलिस ने बीजेपी विधायक शैलेंद्र जैन को आचार संहिता का उल्लंघन करने पर नोटिस थमाया। (फोटो सोर्स- एएनआई)

मध्य प्रदेश पुलिस ने बीजेपी विधायक शैलेंद्र जैन को आचार संहिता का उल्लंघन करने के मामले में नोटिस थमाया है और उनकी गाड़ी को भी जब्त कर लिया। समाचार एजेंसी एएनआई की खबर के मुताबिक पुलिस ने 24 फरवरी को मुंगावली में होने वाले विधानसभा के उपचुनाव को देखते हुए विधायक शैलेंद्र जैन पर अशोक नगर में कार्रवाई की। शैलेंद्र जैन के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। एसपी तिलक सिंह ने बताया- ”हमें सूचना मिली थी कि बीजेपी विधायक शैलेंद्र जैन मुंगावली में मंदिर के पास देखे गए हैं। पुलिस मौके पर पहुंची और उनकी कार को जब्त कर लिया, उन्हें आचार संहिता का उल्लंघन करने पर नोटिस थमाया गया, उनसे मुंगवाली की सीमा से बाहर जाने के लिए कहा गया। एफआईआर दर्ज कर ली गई है।” बता दें कि राज्य की दो विधानसभा सीटों पर 24 फरवरी (शनिवार) को विधानसभा के उपचुनाव होने हैं। इनमें मुंगावली के अलावा कोलारस सीट पर चुनाव होना है।

दोनों की सीटों पर मतदान के लिए गुरुवार (22 फरवरी) की शाम को चुनावी प्रचार थम गया था। दोनों ही सीटों के लिए राज्य में सत्तारूढ़ बीजेपी और मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने चुनावी प्रचार में पूरी ताकत झोंक दी थी। बीजेपी के प्रचार के लिए गुरुवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपने 8 मंत्रियों के साथ निकल गए थे। वहीं कांग्रेस की तरफ से वरिष्ठ नेता कमलनाथ ने भी चुनाव प्रचार किया। बीजेपी ने जहां राज्य में अपनी सरकार के कार्यकाल की उपलब्धियां जनता के सामने गिनाईं, वहीं कांग्रेस किसानों की आत्महत्या के मुद्दे पर सरकार को घेरती नजर आई। कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने तो बीजेपी नेताओं को ‘कौआ’ तक कह दिया।

बता दें कि राज्य में इन दोनों कोलारस और मुंगावली सीटों पर चुनाव भाजपा के लिए साख सवाल हैं तो कांग्रेस करीब 6 महीने बाद राज्य में होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए इनके द्वारा जनता की नब्ज टटोलकर जमीन तैयार करना चाह रही है। कोलारस और मुंगावली दोनों सीटों में मिलाकर कुल 35 उम्मीद चुनावी अखाड़े में हैं। इनमें कोलारस में 22 और मुंगावली में 13 सीटों को लिए चुनाव होना है। अक्टूबर 2017 में कोलारस से विधायक रामसिंह के स्वर्गवास और सितंबर 2017 में मुंगावली से विधायक महेंद्र सिंह कालूखेड़ा के निधन के बाद ये सीटें खाली हो गई थीं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App