scorecardresearch

MP: पहली बारिश भी नहीं झेल पाया डैम, 18 गांव को कराया गया खाली; निर्माण पर करोड़ों हुए थे खर्च

एसीएस राजोरा ने कहा कि NDRF और SDERF की एक टीम के अलावा दो हेलीकॉप्टर और सेना की एक टुकड़ी किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार है।

MP: पहली बारिश भी नहीं झेल पाया डैम, 18 गांव को कराया गया खाली; निर्माण पर करोड़ों हुए थे खर्च
मध्य प्रदेश के धार जिले के कारम नदी पर बना बांध। (फोटो सोर्स: @whothef_kyouare)

मध्य प्रदेश के धार जिले में जल संसाधन विभाग में भ्रष्टाचार की बड़ी लापरवाही सामने आई है। यहां नए बने डैम में पानी का रिसाव हो रहा है। यह डैम कारम नदी पर बना है। जो पहली बारिश भी नहीं झेल पाया। जिसके चलते धार जिले के 12 गांव और खरगोन जिले के 6 गांव को खाली कराया गया है।

किसी भी बड़े हादसे की आशंका के मद्देनजर अधिकारियों ने इन सभी 18 गांव के निवासियों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया है। अतिरिक्त मुख्य सचिव (एसीएस) गृह डॉ. राजेश राजोरा ने कहा कि यह एक एहतियाती तौर पर किया गया है।

एक दिन पहले जब बांध पानी रिसाव की सूचना मिली थी, तब डाउनस्ट्रीम गांवों के लिए अलर्ट जारी कर दिया गया था। इस मानसून में पहली बार बांध का जलाशय पानी से भर गया, क्योंकि इस क्षेत्र में बारिश हुई थी।

एसीएस राजोरा ने कहा कि 590 मीटर लंबे और 52 मीटर ऊंचा बांध मध्यम स्तर की सिंचाई परियोजना के जलाशय में 15 मिलियन क्यूबिक मीटर (एमसीएम) पानी है। उन्होंने कहा, ‘एहतियात के तौर पर अधिकारियों ने धार जिले के 12 गांवों और खरगोन जिले के छह गांवों के लोगों को सुरक्षित स्थानों और राहत शिविरों में भेज दिया है’।

राजोरा ने कहा कि राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (NDRF) और राज्य आपदा आपातकालीन प्रतिक्रिया बल (SDERF) की एक टीम के अलावा दो हेलीकॉप्टर और सेना की एक टुकड़ी को तैयार रखा गया है। उन्होंने कहा कि संभागीय आयुक्त, महानिरीक्षक, जिला कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक, इंजीनियरिंग-इन-चीफ और जल संसाधन विभाग के मुख्य अभियंता सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी घटनास्थल पर डेरा डाले हुए हैं।

जल संसाधन विभाग के एसडीओ एसके सिद्दीकी ने बताया कि डैम में एक मामूली सा लीकेज हुआ। इसमें एक मोटर का पानी लगातार बह रहा है। यह बहुत बड़ा रिसाव नहीं है। उन्होंने कहा इससे मिट्टी के बांध में बहुत नुकसान या फूटने की स्थिति नहीं है। इसलिए इसे हमने बड़े स्तर पर रोकने के लिए काम शुरू कर दिया है।

अधिकारियों ने कहा कि मध्य प्रदेश के जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट और उद्योग मंत्री राजवर्धन सिंह दत्तीगांव में मरम्मत कार्य की निगरानी के लिए बांध स्थल पर थे। इससे पहले सुबह धार कलेक्टर पंकज जैन ने कहा था कि बांध से सीपेज को नियंत्रित करने के प्रयास असफल रहे और वास्तव में सीपेज बढ़ गया था।

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट