ताज़ा खबर
 

Madhya Pradesh Political Crisis Highlights: कमलनाथ सरकार गिराने वाले Congress के 22 बागी विधायक BJP में शामिल

सवाल उठ रहे हैं कि क्या भाजपा उत्तरप्रदेश, हरियाणा, उत्तराखंड एवं अन्य राज्यों की तर्ज पर किसी अप्रत्याशित चेहरे को मुख्यमंत्री बनाएगी या पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अथवा केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर जैसे दिग्गज नेताओं में से किसी एक को कमान सौंपेगी।

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र भोपाल | Updated: Mar 21, 2020 7:13:44 pm
राज्यपाल लालजी टंडन को इस्तीफा सौंपते कमलनाथ। (फोटो- एएनआई)

Madhya Pradesh Floor Test Result Latest News, Madhya Pradesh Government Formation Today News Updates: कांग्रेस के 22 बागी विधायक शनिवार को भाजपाई बन गए। पार्टी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने पत्रकारों को बताया कि 22 बागी कांग्रेसी विधायकों ने बीजेपी का दामन थाम लिया है। बता दें कि ये वही विधायक हैं, जिनके इस्तीफे के बाद मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री कमलनाथ के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार गिर गई थी।

मुख्यमंत्री पद से कमलनाथ के इस्तीफे के बाद भाजपा में सरकार बनाने के लिए चल रही सरगर्मी के बीच राजनीतिक गलियारों में यह चर्चा शुरू हो गई है कि प्रदेश के अगला मुख्यमंत्री कौन होगा? सवाल उठ रहे हैं कि क्या भाजपा उत्तर प्रदेश, हरियाणा, उत्तराखंड एवं अन्य राज्यों की तर्ज पर किसी अप्रत्याशित चेहरे को मुख्यमंत्री बनाएगी या पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अथवा केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर जैसे दिग्गज नेताओं में से किसी एक को कमान सौंपेगी। भाजपा नेताओं का कहना है कि पार्टी आलाकमान ही इसका फैसला लेगी और बाद में विधायक दल की बैठक में मुख्यमंत्री के नाम पर मुहर लगेगी।

दिल्ली में क्यों नहीं हुई एक भी मीटिंग? क्यों नहीं भेजे गए आजाद, पटेल या एंटनी? MP में सत्ता गंवाने के बाद कांग्रेस आलाकमान पर बरसे पार्टी नेता

Live Blog

Highlights

    19:08 (IST)21 Mar 2020
    कमलनाथ ने शुक्रवार को दिया था इस्तीफा

    मध्य प्रदेश में जारी राजनीतिक संकट के बीच शुक्रवार को मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अपने इस्तीफे का ऐलान कर दिया। इसके कुछ ही देर बाद उन्होंने राज्यपाल से मिल कर उन्हें अपना इस्तीफा सौंप दिया। इसी के साथ मध्य प्रदेश विधानसभा के स्पीकर ने सदन को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया।

    16:43 (IST)21 Mar 2020
    जीतू पटवारी ने भी दिए सरकार में वापस आने के संकेत

    मध्य प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष जीतू पटवारी ने भी राज्य में सरकार के लौटने के संकेत देते हुए ट्विटर पर कहा, "हम सभी को मिलकर सकारात्मकता के साथ कांग्रेस की यह लड़ाई लड़ना है और कांग्रेस के एक-एक कार्यकर्ता के सम्मान एवं स्वाभिमान को वापस लाना है। यह एक बेहद अल्प विश्राम है।

    16:43 (IST)21 Mar 2020
    कमलनाथ सरकार गिरने पर बोले अखिलेश ने भी दी प्रतिक्रिया

    कमलनाथ सरकार के गिरने पर समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव ने भी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा, "मध्यप्रदेश में भाजपा ने लोकतंत्र की हत्या की है।"

    13:29 (IST)21 Mar 2020
    राजस्थान में मृत पाई गई मध्य प्रदेश के बागी कांग्रेस विधायक की बेटी

    मध्य प्रदेश के बागी विधायक सुरेश धाकड़ की बेटी राजस्थान के बारन जिले में शुक्रवार को मृत पायी गई। पुलिस के अनुसार, परिजनों ने मृतका के पति और अन्य रिश्तेदारों पर दहेज हत्या का आरोप लगाया है। नरेश धाकड़ भी उन 22 विधायकों में शामिल हैं, जिन्होंने कमलनाथ सरकार के खिलाफ बगावत का बिगुल फूंक दिया था। इसके चलते कमलनाथ सरकार गिर गई थी। इस घटना के बाद नरेश चार्टर्ड विमान से बेंगलुरु छोड़कर बारन निकल गए। पढ़ें पूरी खबर..

    13:27 (IST)21 Mar 2020
    सरकार न बचा पाने के लिए कांग्रेस आलाकमान में नाराजगी

    कमलनाथ के इस्तीफे से जुड़े घटनाक्रम के बाद कांग्रेस आलाकमान की कार्यशैली सवालों के घेरे में हैं। कांग्रेस पार्टी के नेता ही पार्टी आलाकमान द्वारा मध्य प्रदेश मामले पर अपेक्षित ध्यान ना दिए जाने पर नाराज हैं। कांग्रेस के कई नेताओं का आरोप है कि पार्टी नेतृत्व द्वारा सरकार बचाने के लिए आक्रामक रुख नहीं अपनाया गया।

    मध्य प्रदेश में छाए सियासी संकट के दौरान कांग्रेस द्वारा अपने वरिष्ठ नेताओं जैसे गुलाम नबी आजाद, एके एंटनी और अहमद पटेल को भोपाल क्यों नहीं भेजा गया? क्या मध्य प्रदेश के हालात को लेकर दिल्ली में पार्टी नेताओं की कोई बैठक हुई?

    जब द इंडियन एक्सप्रेस ने कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता से ये सवाल पूछे तो उन्होंने कहा कि "केन्द्रीय नेतृत्व की सोच थी कि दो दिग्गज नेता वहां हैं और वो स्थिति को नियंत्रित कर लेंगे। मुझे इस बात की कोई जानकारी नहीं है कि दिल्ली में इसे लेकर कोई मीटिंग हुई।"

    12:57 (IST)21 Mar 2020
    25 मार्च को सरकार बनाने का दावा पेश कर सकती है भाजपा

    इसी बीच मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है कि भाजपा के विधायक 23 मार्च को बैठक में शामिल हो सकते हैं। इसमें केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान के पर्यवेक्षक के तौर पर शामिल होने की चर्चा है। माना जा रहा है कि इसी बैठक में मुख्यमंत्री का चुनाव हो जाएगा। इसके दो दिन बाद यानी 25 मार्च को भाजपा राज्यपाल के सामने सरकार बनाने का दावा पेश कर सकती है।

    22:09 (IST)20 Mar 2020
    15 महीने में प्रदेश को नई दिशा देने का प्रयास कियाः कमलनाथ

    कमलनाथ ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि 15 महीनों में मेरा प्रयास था कि हम प्रदेश को नई दिशा दें, प्रदेश की तस्वीर बदलें। मेरा क्या कसूर था। इन 15 महीनों में मेरी क्या गलती थी। मेरे लगभग 40-45 साल के राजनीतिक जीवन में मैंने विश्वास रखा। मुझे लगता है 5 साल का मौका दिया गया था प्रदेश को सही रास्ते पर लाने के लिए। लेकिन भाजपा ने साजिश कर साढ़े सात करोड़ लोगों के साथ विश्वासघात किया। लोकतांत्रिक मूल्यों की हत्या की। जनता इन्हें कभी माफ नहीं करेगी।

    21:04 (IST)20 Mar 2020
    सिंधिया हाउस के बाद यूथ कांग्रेस ने किया प्रदर्शन

    मध्यप्रदेश में कमलनाथ की सरकार गिरने के बाद दिल्ली में सिंधिया हाउस के बाहर यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया। इस दौरान कार्यकर्ताओं ने ज्योतिरादित्य सिंधिया के पोस्टर भी जलाए।

    20:14 (IST)20 Mar 2020
    कमलनाथ बोले- सामने आएगी सच्चाई

    कमलनाथ ने कहा, ‘‘किस प्रकार करोड़ों रुपये खर्च कर प्रलोभन का खेल खेला गया जनता द्वारा नकारे गए एक तथाकथित महत्वाकांक्षी, सत्तालोलुप ‘महाराज’ (ज्योतिरादित्य सिंधिया) और उनके द्वारा प्रोत्साहित 22 लोभियों के साथ मिलकर भाजपा ने खेल रच लोकतांत्रिक मूल्यों की हत्या की। इसकी सच्चाई थोड़े ही समय में सभी के सामने आएगी।’’

    19:43 (IST)20 Mar 2020
    गुरुवार रात मंजूर हुए कांग्रेस के 16 बागी विधायकों के इस्तीफे

    सुप्रीम कोर्ट ने एक दिन पहले (19 मार्च 2020) को ही फ्लोर टेस्ट के नियम-निर्देश जारी करते हुए कहा था कि अदालत जल्द से जल्द बहुमत परीक्षण चाहती है, ताकि हॉर्स ट्रेडिंग को बढ़ावा न मिले। सर्वोच्च न्यायालय ने स्पीकर के 22 में से सिर्फ 6 विधायकों के इस्तीफे मंजूर करने के फैसले पर भी सवाल उठाए थे। इसके बाद गुरुवार को 16 अन्य बागी विधायकों के इस्तीफे भी मंजूर कर लिए गए।

    19:18 (IST)20 Mar 2020
    भाजपा ने प्रदेश की 7.5 करोड़ जनता के साथ विश्वासघात कियाः कमलनाथ

    मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने से ठीक पहले कमलनाथ ने यहां मुख्यमंत्री निवास पर प्रेस कांफ्रेंस में आरोप लगाया था, ‘‘मेरी सरकार को अस्थिर कर भाजपा प्रदेश की साढ़े सात करोड़ जनता के साथ विश्वासघात कर रही है। उसे यह भय सता रहा है कि यदि मैं प्रदेश की तस्वीर बदल दूंगा तो प्रदेश से भाजपा का नामोनिशान मिट जाएगा।’’

    18:31 (IST)20 Mar 2020
    अपने बोझ से गिरी है कमलनाथ सरकार: चौहान

    मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री पद से कमलनाथ के इस्तीफे के बाद पद के प्रमुख दावेदार माने जा रहे शिवराज  सिंह चौहान ने शुक्रवार को कहा कि कांग्रेस की सरकार अपने बोझ से गिरी है। सरकार गिराने के लिए भाजपा द्वारा षडयंत्र किए जाने के कमलनाथ के आरोपों पर पूछे गये सवाल का जवाब देते हुए भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं 13 साल तक प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके चौहान ने यहां संवाददताओं से कहा, ‘‘भाजपा कभी सत्ता गिराने बचाने के खेल में नहीं रही।

    18:14 (IST)20 Mar 2020
    शिवराज सिंह के घर विधायकों का डिनर रद्द

    मध्यप्रदेश में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के घर होने वाला विधायकों का डिनर कार्रयक्रम द्द हो गया है। न्यूज चैनल की रिपोर्ट्स के अनुसार यह बताया जा रहा है कि इस डिनर की केंद्रीय नेतृत्व से अनुमति नहीं थी। 

    17:16 (IST)20 Mar 2020
    मध्यप्रदेश में भाजपा को निर्दलीय, बसपा और सपा विधायकों का समर्थन : भाजपा

    मुख्यमंत्री पद से कमलनाथ के इस्तीफे के बाद भारतीय जनता पार्टी ने प्रदेश में निर्दलीय, बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी के विधायकों का समर्थन हासिल होने का दावा किया है। विधानसभा परिसर में भाजपा विधायक अरविंद भदौरिया ने कहा कि प्रदेश में भाजपा को निर्दलीय, बसपा और सपा विधायकों का समर्थन हासिल है। उन्होंने कहा, ‘‘लगभग सभी निर्दलीय विधायक हमारे साथ हैं। सपा और बसपा के विधायक पहले से ही हमारे साथ थे, फिलहाल वे यहां नहीं हैं लेकिन हमारी उनसे बात हो गई है। ये सभी विधायक प्रदेश में सकारात्मक राजनीति चाहते हैं।’’

    16:39 (IST)20 Mar 2020
    कांग्रेस को अपने अंदर झांकने की जरूरत हैः शिवराज सिंह चौहान

    मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री कमलनाथ के इस्तीफे पर राज्य के पूर्व सीएम ने कहा कि हम इसमें कुछ नहीं कर सकते। कांग्रेस को अपने अंदर झांकने की जरूरत है।

    16:24 (IST)20 Mar 2020
    नई सरकार बनने को लेकर आश्वस्त थे शिवराज

    बृहस्पतिवार को शिवराज सिंह चौहान ने शीर्ष अदालत के आदेश का स्वागत करते हुए ‘सत्यमेव जयते कहा था। उन्होंने कहा था कि न्याय की जीत हुई है। शक्ति परीक्षण में यह सरकार (कमलनाथ के नेतृत्व वाली मध्य प्रदेश की कांग्रेस सरकार) पराजित होगी और (भाजपा नीत) नई सरकार बनने का रास्ता साफ होगा।’’ उन्होंने कहा, ‘‘यह सरकार अल्पमत में है और कल यह सिद्ध हो जाएगा।’’ वहीं, दिल्ली में केंद्रीय मंत्री नरेंद्र तोमर के घर बृहस्पतिवार को भाजपा नेताओं ने बैठक की।

    16:06 (IST)20 Mar 2020
    दिग्विजय सिंह ने माना की बहुमत का आंकड़ा नहीं

    इससे पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और महासचिव दिग्विजय सिंह ने एक न्यूज चैनल से बातचीत के दौरान माना था कि कमलनाथ सरकार के पास बहुमत का आंकड़ा नहीं है और ऐसे में सरकार भी नहीं बचेगी।

    15:59 (IST)20 Mar 2020
    केयरटेकर सीएम बनाए गए कमलनाथ, अशोक गहलोत बोले- यह लोकतंत्र की हत्या

    राज्यपाल को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा सौंपने के बाद कमलनाथ अब राज्य के केयरटेकर सीएम बनाए गए हैं। इस मौके पर कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा, 'आज लोकतंत्र को होटल डिप्लोमेसी ने हरा दिया।' वहीं राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि मध्य प्रदेश में हमने जो भी देखा, वो लोकतंत्र की हत्या है। सत्ता की चाहत में एक चुनी हुई सरकार को हटाना भाजपा की आदत बन चुकी है।

    14:34 (IST)20 Mar 2020
    दिल्लीः मध्य प्रदेश में सरकार बनाने को लेकर भाजपा की बैठक जारी

    कमलनाथ के इस्तीफे के बाद भाजपा ने मध्य प्रदेश में सरकार बनाने को लेकर दिल्ली में बैठक की। बताया गया है कि इसमें एमपी के सियासी समीकरणों पर चर्चा हुई। विधानसभा के स्पीकर ने भी सदन को अनिश्चितकाल के लिए स्थगति कर दिया।

    13:30 (IST)20 Mar 2020
    स्पीकर ने कहा- मैंने भाजपा विधायक शरद कोल का इस्तीफा भी मंजूर किया

    मध्य प्रदेश विधानसभा के स्पीकर एनपी प्रजापति ने रिपोर्टर्स से बातचीत के दौरान कहा कि उन्होंने गुरुवार रात को 16 विधायकों का इस्तीफा मंजूर किया था। इसके अलावा भाजपा विधायक शरद कोल ने भी इस्तीफा दिया था, जिसे मंजूर किया गया है। इस पर भाजपा विधायक ने चिट्ठी जारी कर कहा कि उन्होंने किसी को अपना इस्तीफा नहीं दिया है।

    13:26 (IST)20 Mar 2020
    सीएम कमलनाथ राजभवन पहुंचे

    मुख्यमंत्री कमलनाथ पद से इस्तीफा देने भोपाल स्थित राजभवन पहुंच गए। इससे पहले विधानसभा में फ्लोर टेस्ट होना था। हालांकि, उनके इस्तीफे के ऐलान के बाद अब फ्लोर टेस्ट नहीं होगा।

    12:37 (IST)20 Mar 2020
    'भाजपा जो कर रही, उस स्थिति में सरकार नहीं बचाउंगा'

    कमलनाथ बोले- 15 महीनों में हमारे ऊपर भ्रष्टाचार के कोई आरोप नहीं मेरा संकल्प है कि प्रदेश के नौजवान, पिछड़ा वर्ग और किसानों के हित के कामें में हम लगे रहेंगे। लेकिन जो भाजपा कर रही है उस स्थिति में सरकार नहीं बचाउंगा। मैंने कभी सौदे की राजनीति नहीं की और इसलिए राज्यपाल को इस्तीफा सौंप दूंगा। इसी के साथ उन्होंने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफे का ऐलान कर दिया।

    12:25 (IST)20 Mar 2020
    आरोप- भाजपा के शासन में माफिया राज पनपा

    कमलनाथ बोले- आज 20 मार्च है और यह लगभग 15 महीनों में मेरा प्रयास था कि हम प्रदेश को नई दिशा दें, प्रदेश की तस्वीर बदलें। मेरा क्या कसूर था। इन 15 महीनों में मेरी क्या गलती थी। मेरे लगभग 40-45 साल के राजनीतिक जीवन में मैंने विश्वास रखा। जब मैं केंद्र में था यूपीए के साथ तब जितनी मदद हो पाती थी राज्यों की उतनी करने की कोशिश की। मुझे लगता है 5 साल का मौका दिया गया था प्रदेश को सही रास्ते पर लाने के लिए।

    एमपी में हमने किसानों का कर्ज माफ किया। लेकिन भाजपा ने उनके साथ धोखा किया। भाजपा के राज में बेरोजगारी पनपी, लेकिन हमने अपनी सरकार में रोजगार देने की कोशिश की। गो माता के संरक्षण के लिए गोशाला बनाई। भाजपा के शासन में माफिया राज पनपा। हम प्रदेश को सुरक्षित और भयमुक्त बनाना चाहते थे। 15 महीने में प्रदेश को मिलावटमुक्त बनाने का काम किया।

    12:17 (IST)20 Mar 2020
    मध्य प्रदेश को सही रास्ते पर लाने का मौका मिला था, भाजपा को जनता माफ नहीं करेगी

    कमलनाथ बोले, "प्रदेश की तुलना छोटे राज्यों से नहीं है। इसकी तुलना बड़े राज्यों से है। भाजपा को 15 साल मिले, आज तक मुझे 15 महीने मिले। जिसमें ढाई महीने लोकसभा चुनाव और आचार संहिता में गए। इन 15 महीनों में प्रदेश का हर व्यक्ति गवाह है कि मेरे द्वारा किए गए कार्य भाजपा को रास नहीं आए। इसलिए मेरे खिलाफ साजिश लगातार जारी रही। जब हमारा मंत्रीमंडल बना था। तब हर 15 मिनट में कहा जाता था कि यह 15 दिन की सरकार है। पहले दिन से ही इन्होंने यह षड़यंत्र शुरू किया।"

    12:12 (IST)20 Mar 2020
    कमलनाथ की प्रेस कॉन्फ्रेंस से पहले कांग्रेस की मीटिंग

    कांग्रेस विधायकों ने कमलनाथ की प्रेस कॉन्फ्रेंस से पहले बैठक की। एक विधायक ने कहा कि इसमें पार्टी के भविष्य के कदमों पर चर्चा हुई। सूत्रों के मुताबिक, पार्टी सुप्रीम कोर्ट में फ्लोर टेस्ट के खिलाफ समीक्षा याचिका देने के पक्ष में नहीं है। यानी शुक्रवार को ही फ्लोर टेस्ट होगा।

    11:43 (IST)20 Mar 2020
    स्पीकर ने कहा- आरोप तो भगवान राम पर भी लगे थे

    कांग्रेस विधायकों के इस्तीफे स्वीकारने में देरी के सवाल पर विधानसभा स्पीकर एनपी प्रजापति ने कहा जवाब दिया। उन्होंने कहा कि मैंने दुखी मन से विधायकों का इस्तीफा स्वीकार किया। इसके अलावा मेरे पास कोई चारा नहीं था। स्पीकर ने चुनिंदा विधायकों के इस्तीफे स्वीकारने पर कहा कि आरोप तो भगवान राम पर भी लगे थे। लेकिन मैंने निष्पक्षता से कार्रवाई की। यह विवेक स्पीकर का है कि वह कब विधायकों का इस्तीफा स्वीकार करेंगे। 

    11:26 (IST)20 Mar 2020
    कांग्रेस नेता ने कहा- आखिरी गेंद पर चाहिए छह रन

    कमलनाथ सरकार पर खतरे के बीच कांग्रेस नेता सज्जन सिंह वर्मा ने ट्विटर पर कहा कि आखिरी गेंद पर छह रन की जरूरत है। पूरे देश के लोगों को और टीम को कैप्टन कमलनाथ पर भरोसा है। सत्यमेव जयते।

    09:44 (IST)20 Mar 2020
    मध्य प्रदेश का फ्लोर टेस्ट अन्याय की हारः शिवराज सिंह चौहान

    भाजपा नेता और मुख्यमंत्री पद के दावेदार माने जा रहे शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का फ्लोर टेस्ट कराने का आदेश अन्याय की हार है। अब सरकार को फ्लोर टेस्ट में हार मिलेगी। हम कोर्ट के फैसले का सम्मान करते हुए अपने सर झुकाते हैं। बता दें कि शिवराज सिंह चौहान ने ही सुप्रीम कोर्ट में 9 अन्य लोगों के साथ मध्य प्रदेश में तुरंत फ्लोर टेस्ट कराने की मांग रखी थी।

    09:41 (IST)20 Mar 2020
    विधानसभा में फ्लोर टेस्ट के लिए दोपहर 2 बजे से शुरू होगा विशेष सत्र

    मध्य प्रदेश विधानसभा के मुख्य सचिव एपी सिंह ने न्यूज एजेंसी पीटीआई को बताया कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देशानुसार फ्लोर टेस्ट के लिए दोपहर 2 बजे से शाम 5 बजे तक विशेष सत्र आयोजित किया जाएगा।

    08:52 (IST)20 Mar 2020
    दिग्विजय सिंह बोले- नहीं बचेगी सरकार, हमारे पास बहुमत नहीं

    कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने कहा, "जिस दिन सरकार का गठन हुआ, उस दिन से उनका यही प्रयास था। अनेक प्रयास किए गए सरकार गिराने के। भाजपा ने धन बल का इस्तेमाल किया। हमारे 22 विधायक फरवरी से गायब हैं, उनसे बात नहीं हो पा रही न मोबाइल पर न कहीं और से। इसलिए सरकार के पास बहुमत नहीं है। हमारे पास बहुमत नहीं, संख्याबल नहीं है। हमारा 22 विधायकों से संपर्क नहीं हो पा रहा है। मुझे लगता है कि कमलनाथ जो भी करेंगे वो आत्मसम्मान के साथ करेंगे।"

    08:11 (IST)20 Mar 2020
    भाजपा को फायदा पहुंचा सकता है मौजूदा विधानसभा का गणित

    मौजूदा विधानसभा के गणित की बात करें तो 230 सदस्यों वाली विधानसभा में 2 सीटें खाली हैं। 228 में 22 विधायकों के इस्तीफा देने के बाद 206 सीटें बचती हैं। ऐसे में बहुमत साबित करने का आंकड़ा 104 सीट का हो जाता है। कांग्रेस के पास स्पीकर सहित 92 विधायक हैं। ऐसे में 4 निर्दलीय विधायकों के अलावा सपा और कांग्रेस के 1-1 विधायक भी शामिल कर ले तो भी यह आंकड़ा 101 ही पहुंचता है। जबकि भाजपा के पास 107 विधायक हैं। ऐसे में मौजूदा अंकगणित के लिहाज से भाजपा सरकार बना सकती है।

    08:07 (IST)20 Mar 2020
    शिवराज बोले- कमलनाथ सरकार अल्पमत में, यह सिद्ध होगा

    मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोर्ट के फ्लोर टेस्ट कराने के आदेश का स्वागत करते हुए कहा, "सत्यमेव जयते। न्याय की जीत हुई है। शक्ति परीक्षण में यह सरकार (कमलनाथ के नेतृत्व वाली मध्य प्रदेश की कांग्रेस सरकार) पराजित होगी और (भाजपा नीत) नई सरकार बनने का रास्ता साफ होगा।" उन्होंने कहा, "यह सरकार अल्पमत में है और यह सिद्ध हो जाएगा।" वहीं, दिल्ली में केंद्रीय मंत्री नरेंद्र तोमर के घर गुरुवार को भाजपा नेताओं ने बैठक की।

    08:06 (IST)20 Mar 2020
    फ्लोर टेस्ट पर यह कहा कोर्ट ने?

    बेंच ने सभी पक्षों से पूछा कि क्या विधायकों के इस्तीफे या उन्हें अयोग्य करार देने के स्पीकर के किसी भी फैसले से फ्लोर टेस्ट पर असर पड़ेगा? संवैधानिक सिद्धातों पर गौर करें तो विधायकों के इस्तीफे या उनकी अयोग्यता का मुद्दा स्पीकर के सामने लंबित रहने से ट्रस्ट वोट पर कोई रोक नहीं लगती।

    Next Stories
    1 UP में डॉक्टरों की देरी से नाराज कोरोनावायरस का संदिग्ध अस्पताल से फरार, अधिकारी फोन कर लौटने की मिन्नत करने में जुटे