ताज़ा खबर
 

मध्यप्रदेश: नई सरकार के गठन के बाद व्यापमं घोटाले की जांच शुरू, परीक्षा केंद्रों के CCTV फुटेज मंगाए

मध्यप्रदेश में नई सरकार के गठन के बाद प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड ( व्यापमं) की ग्रुप-4 की भर्ती परीक्षा में हुईं गड़बड़ियों की जांच शुरू हो गयी है।

Author December 19, 2018 9:43 AM
कांग्रेस ने व्यापमं घोटाले के लिए भाजपा की घोर आलोचना की थी। फोटो- एक्‍सप्रेस आर्काइव। Express photo by Oinam Anand.

मध्यप्रदेश में नई सरकार के गठन के बाद प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड ( व्यापमं) की ग्रुप-4 की भर्ती परीक्षा में हुईं गड़बड़ियों की जांच शुरू हो गयी है। भर्ती परीक्षा में जिन 10 केंद्रों को संदिग्ध माना गया था, उन केंद्रों से कैमरों के फुटेज कमलमाथ सरकार ने मंगाए हैं। फुटेज से सरकार यह पता लगाने की कोशिश करेगी कि परीक्षा में कौन उम्मीदवार शामिल थे और गड़बड़ी किस स्तर पर हुई? प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड (पीईबी) पर यह आरोप है कि कई अपात्र उम्मीदवार परीक्षा में शामिल हुए थे, जो 12 दिसंबर को घोषित रिजल्ट में पास बताए गए।

बता दें कि कल दोपहर को ही आरोप लगाने वाले छात्र सीएम कमलनाथ से मिलने पहुंचे थे। जिसके बाद मध्यप्रदेश सरकार ने पीईबी की ग्रुप – 4 भर्ती परीक्षा में हुई कथित गड़बड़ी की जांच कराने का फैसला किया। इस परीक्षा में सम्मिलित हुए प्रशांत सिंह बाघेला ने बताया कि पीईबी ने यह परीक्षा जुलाई 2018 में कराई थी। लेकिन, बिना कुछ बताए परीक्षा निरस्त कर दी थी। जिसके बाद इस परीक्षा को जब दोबारा कराया गया तो परीक्षा शुरू होने के कुछ घंटों बाद ही सोशल मीडिया पर एक परीक्षा केंद्र में नकल कराए जाने का वीडियो वायरल हो गया था। परीक्षार्थियों ने परीक्षा नियमों को 5 से ज्यादा बार बदलने का आरोप भी लगाया है और वो परीक्षा की पारदर्शिता पर शुरू से ही सवाल उठा रहे हैं।

बता दें कि जुलाई में पीईबी ने ग्रुप-4 की भर्ती परीक्षा आयोजित की थी। इस परीक्षा में करीब 1.40 लाख परीक्षार्थी शामिल हुए थे। इस परीक्षा के रिजल्ट में गड़बड़ी का आरोप है। पीईबी के डायरेक्टर चंद्रमोहन ठाकुर का कहना है कि ग्रुप-4 भर्ती परीक्षा में गड़बड़ियों के आरोप लगे हैं। जिसकी जांच कराई जा रही है। 10 परीक्षा केंद्रों से सीसीटीवी फुटेज मंगावाए गए हैं और इन फुटेज से गड़बड़ियों की जांच की जाएगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X