ताज़ा खबर
 

मध्य प्रदेशः गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कैकेयी से की सोनिया गांधी की तुलना, कहा- मुझे वाट्सएप से आया बेटे को गद्दी दिलाने वाला मैसेज

मिश्रा ने कहा कि एक मां है जो षड्यंत्रपूर्वक अपने बेटे को गद्दी दिलाना चाहती है। इसके अलावा ताश के पाटों का जिक्र करते हुए उन्होने कांग्रेस के 52 सांसदों का भी मज़ाक उड़ाया।

Edited By सिद्धार्थ राय नई दिल्ली | Updated: December 17, 2020 11:15 AM
मध्यप्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बिना नाम लिए कांग्रेस पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी पर निशान साधा है। (file)

मध्यप्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा अपने बयान को लेकर एक बार फिर विवाद में आ गए हैं। मिश्रा ने बिना नाम लिए कांग्रेस पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी पर निशान साधा है और उनकी तुलना ‘कैकेयी’ से की है। मिश्रा ने कहा कि एक मां है जो षड्यंत्रपूर्वक अपने बेटे को गद्दी दिलाना चाहती है। इसके अलावा ताश के पाटों का जिक्र करते हुए उन्होने कांग्रेस के 52 सांसदों का भी मज़ाक उड़ाया।

इंदौर में संभागीय किसान सम्मेलन में मध्यप्रदेश के गृह मंत्री ने कहा “मुझे व्हाट्सएप आया कि कैकई के बाद कौन सी माँ है जो षड्यंत्र पूर्वक अपने बेटे को गद्दी दिलवाना चाहती है। वो बोला ताश की गड्डी में कितने पत्ते होते हैं, जवाब मिला 52, इस पार्टी के भी 52 सांसद हैं। मिश्रा ने आगे कहा, “मुझे एक व्हाट्सएप फॉरवर्ड मिला, जिसमें कहा गया था कि जापान में हर दिन स्कूल जाने वाले बच्चे को लेने के लिए ट्रेन रुकती है। वे नहीं जानते कि भारत में एक पार्टी एक बच्चे को प्रधानमंत्री बनाने के लिए काम कर रही है।”

मिश्रा के इस बयान पर ट्विटर यूजर्स ने भी अपनी प्रतिकृया दी है। एक यूजर ने लिखा “ताश की गड्डी मे कितने जोकर है, जवाब मिला दो, आपकी पार्टी भी 2 सांसद से शुरू हुई थी और 2 जोकर अभी भी है आपकी गड्डी में।” एक ने लिखा “बेरोजगार अंधभक्त कहेंगे बहुत मज़ा आया कितना अच्छा जोक था।” एक अन्य यूजर ने लिखा “आपकी तो पूरी विचारधारा व्हाट्सएप पर आधारित है, कोई नई बात नहीं है।”

मिश्रा ने कृषि कानूनों को लेकर भी कांग्रेस पर निशाना साधा है। मिश्रा ने अपने भाषण के दौरान आगे कांग्रेस पर कृषि कानूनों को लेकर गलतफहमी पैदा करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा, “दिल्ली में विरोध क्यों हो रहा है? अगर पुराने कृषि नियम सही होते, तो इतने सालों तक भी किसानों पर कर्ज नहीं होता। नया कृषि कानून किसानों के उत्थान के लिए है।’

उन्होंने कहा, “ऐसी चर्चा थी कि कांग्रेस के लोग भूख हड़ताल पर जाएंगे। ये लोग गलतफहमी पैदा कर रहे हैं। यह पार्टी भारत के लोगों के खिलाफ है. वे हर आंदोलन के दौरान गलतफहमी पैदा करते हैं।” बता दें केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ राजधानी दिल्ली से सटे बॉर्डर पर किसानों का आंदोलन पिछले 22 दिन से जारी है। किसान तीनों कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग पर अड़े हुए हैं।

Next Stories
1 जेल में गैंगस्टर के साथ छह ‘बाहरी मेहमान’ खा रहे थे खाना, ADGP के छापे के बाद जेलर गिरफ्तार
2 करीब चार साल दबी रही नीतीश के करीबी पूर्व शिक्षा मंत्री के घोटाले की फ़ाइल, दो पर हो गया जल्द ऐक्शन
3 केरल में भाजपा की नहीं गली दाल, विधानसभा चुनाव से पहले वाम नीत एलडीएफ को मिली बड़ी सफलता, जानें किसको कितनी सीटें
ये  पढ़ा क्या?
X