ताज़ा खबर
 

MP: मंच पर ही मंत्री ने बनवाए बाल और दाढ़ी, युवक को 60 हजार की मदद दे बोले- आत्मनिर्भर बनकर दिखाना

विजय शाह एक बार फिर से गुलाई माल पहुंचे और जब वह मंच पर बैठकर लोगों की समस्याएं सुन रहे थे, तभी उन्होंने मंच से युवक रोहिदास का नाम पुकारा।

मध्य प्रदेश के वन मंत्री विजय शाह। (इमेज सोर्स- यूट्यूब/ वीडियो ग्रैब इमेज)

मध्य प्रदेश के वन मंत्री विजय शाह ने अपने विधानसभा क्षेत्र में एक युवक की अनोखे तरीके से मदद की। दरअसल युवक कटिंग शेविंग का काम करना चाहता है, इसके लिए मंत्री जी ने पहले युवक को मंच पर बुलाकर सभी के सामने अपने बाल और दाढ़ी कटवायी। इसके बाद युवक को अपना काम शुरू करने के लिए 60 हजार रुपए की मदद भी दी और आत्मनिर्भर बनने की बात कही।

खबर के अनुसार, मध्य प्रदेश के वन मंत्री विजय शाह कुछ दिन पहले अपने विधानसभा क्षेत्र हरसूद के गुलाई माल इलाके का दौरा किया था। इस दौरान गांव के आदिवासी युवक रोहिदास ने खुद का काम कर आत्मनिर्भर बनने के लिए मंत्री से मदद की गुहार लगायी थी। युवक ने बताया था कि वह कटिंग-शेविंग का काम जानता है। इस पर विजय शाह ने युवक को मदद का आश्वासन दिया था।

दैनिक भास्कर की एक रिपोर्ट के अनुसार, बुधवार को विजय शाह एक बार फिर से गुलाई माल पहुंचे और जब वह मंच पर बैठकर लोगों की समस्याएं सुन रहे थे, तभी उन्होंने मंच से युवक रोहिदास का नाम पुकारा। रोहिदास जब मंच पर पहुंचा तो विजय शाह ने युवक से उनकी कटिंग और शेविंग करने को कहा। युवक ने अपने घर से औजार लाकर मंत्री विजय शाह की मंच पर ही कटिंग-शेविंग की। इस पर मंत्री ने तत्काल युवक को 50 हजार रुपए का कटिंग-शेविंग का सामान और 10 हजार रुपए नकद भी दिए।

युवक की मदद करने के बाद मंत्री विजय शाह ने युवक को आत्मनिर्भर बनकर दिखाने की बात कही और भविष्य में भी कोई समस्या आने पर उन्हें याद करने को कहा। मध्य प्रदेश के मकराई क्षेत्र के पूर्व शाही परिवार से ताल्लुक रखने वाले शाह का हरसूद और खंडवा के विभिन्न इलाकों में खासा दबदबा है।

बता दें कि विजय शाह इससे पहले सीएम शिवराज सिंह चौहान की पत्नी साधना सिंह पर एक टिप्पणी को लेकर विवादों में भी आ चुके हैं। विवाद के बाद विजय शाह को मंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा था। साल 2013 में विजय शाह मध्य प्रदेश के आदिवासी मामलों के मंत्री थे। इस दौरान एक सभा में शाह ने कहा था कि ‘भाभी जी चलो, भाई साहब के साथ तो रोज जाते हो, कभी देवरों के साथ चलो, मैंने भाभी की तरफ देखा…क्या बोलती?’

शाह के इस बयान से सीएम शिवराज सिंह चौहान नाराज हो गए थे। जिसके बाद शाह को अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा था।

Next Stories
1 Bihar Elections 2020: मंडल कमीशन ने किनारे किए ब्राह्मण! OBC की बनी पकड़, 1990 के बाद कभी न बन पाया ‘सवर्ण’ CM
2 बंगाल: BJP की रैली में उड़ी सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां, दिलीप घोष बोले- COVID-19 चला गया, हमें रैलियां करने से कोई नहीं रोक सकता
3 एशियन गेम्स में गोल्ड लाने वाली पिंकी प्रमाणिक बनीं भाजपाई, टेस्ट में पाई गई थीं ‘पुरुष’, लग चुका है रेप का आरोप
ये पढ़ा क्या?
X