ताज़ा खबर
 

मध्यप्रदेशः कमलनाथ सरकार ने माफ किया था लोन, अब बैंक मांग रहे रकम; शिवराज सरकार ने साधी चुप्पी

मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद मुख्यमंत्री कमलनाथ ने 22 लाख किसानों को कर्जमाफी के सर्टिफिकेट दिए थे, हालांकि वादा पूरा होने से पहले ही उनकी सरकार गिर गई।

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र भोपाल | Updated: June 27, 2020 12:22 PM
MP CM, BJP, covid 19मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कोरोना पॉज़िटिव पाए गए हैं। (PTI)

मध्य प्रदेश में किसानों की कर्जमाफी को लेकर भाजपा और कांग्रेस में विवाद गहराता जा रहा है। दरअसल, राज्य में कांग्रेस की सरकार बनने के ठीक बाद मुख्यमंत्री कमलनाथ ने किसानों का कर्जा माफ करने का भरोसा दिया था। हालांकि, इससे पहले कि कांग्रेस यह वादा पूरा कर पाती, कमलनाथ के नेतृत्व वाली सरकार विधायकों के इस्तीफे की वजह से गिर गई। अब मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की भाजपा सरकार ने आरोप लगाया है कि कांग्रेस ने किसानों को कर्जमाफी के सर्टिफिकेट तो बांट दिए, लेकिन किसी का भी लोन नहीं माफ हुआ, जिससे किसान अब डिफॉल्टरों की श्रेणी में आ गए हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस उठापटक के चलते अब बैंकों ने सीधे किसानों को फोन कर लोन की राशि भरने के लिए कहना शुरू कर दिया है। एमपी सरकार में कृषि मंत्री कमल पटेल का आरोप है कि कोऑपरेटिव बैंकों से जो 2 लाख रुपए तक का लोन माफ करने के लिए कहा गया, उससे कन्फ्यूजन पैदा हुआ। क्योंकि पिछली सरकार ने इन बैंक के प्रशासकों से कर्जमाफी की आधी लागत वहन करने के प्रस्ताव देने के लिए कहा था।

अब कर्जमाफी का मामला अटकने के बीच कोऑपरेटिव सोसाइटी का कहना है कि किसानों की कर्जमाफी तभी हो सकती है, जब उसे पैसा मिले। ऐसे समय में भाजपा सरकार की तरफ से किसानों की कर्जमाफी पर चुप्पी साध ली गई है। कृषि मंत्री ने इस मामले में किसानों से पूर्व की कांग्रेस सरकार के खिलाफ वादाखिलाफी की शिकायत करने के लिए कहा है। हालांकि, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का कहना है कि किसानों पर कोई परेशानी नहीं आएगी।

मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार ने पहले चरण में 21 लाख किसानों के 6,000 करोड़ के कर्ज माफ किए थे। दूसरे चरण में 50 हजार से 1 लाख रुपए तक के स्टैंडर्ड खातों वाले 7 लाख किसानों के कर्ज माफ किए जाने थे, लेकिन 2 लाख किसानों के ही कर्ज माफ हो पाए। कांग्रेस ने कहा था कि तीसरे और अंतिम फेज में 1 लाख से 2 लाख रुपए तक वाले लोन माफ हो जाएंगे, लेकिन इससे पहले ही उनकी सरकार गिर गई।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 रिटायरमेंट से 4 दिन पहले कोरोना से गई नर्स की जान, स्टाफ की कमी के कारण कैंसल करनी पड़ी थी मेडिकल लीव
2 अप्रैल से नहीं मिला वेतन- दिल्ली में कोरोना से करीब 2500 मौतों के बीच नर्सों ने किया आंदोलन
3 बिहार से नाता रखने वाले इस IAS अफसर को मिली जम्मू की स्थायी नागरिकता, डोमिसाइल हासिल करने वाले पहले नौकरशाह बने
ये पढ़ा क्या?
X