ताज़ा खबर
 

चुनाव होंगे मध्य प्रदेश में पर मतदाताओं को जाना पड़ेगा गुजरात, जानिए क्यों?

आलीराजपुर जिले के 34 मतदान केन्द्र ऐसे हैं, जो आलीराजपुर के साथ-साथ झाबुआ जिले में भी आते हैं। ऐसे में दोनों जिलों के प्रशासन के बीच इस बात को लेकर बैठक हुई थी कि चुनावों के दौरान किस जिले पर इन मतदान केन्द्रों की जिम्मेदारी रहेगी।

मध्य प्रदेश का एक मतदान केन्द्र, जहां पहुंचने के लिए गुजरात की सीमा से होकर जाना होता है। (file photo)

मध्य प्रदेश विधानसभा के चुनाव नजदीक हैं और वोटिंग के लिए प्रशासन की तरफ से तैयारियां भी शुरु कर दी गई हैं। बता दें कि मध्य प्रदेश में एक ऐसा मतदान केन्द्र भी है, जहां तक पहुंचने के लिए पड़ोसी राज्य गुजरात की सीमा में प्रवेश करना पड़ता है। जी हां, ये मतदान केन्द्र है मध्य प्रदेश के आलीराजपुर जिले की जोबट विधानसभा का साजनपुर मतदान केन्द्र। दरअसल यह मतदान केन्द्र आदिवासी इलाका है और टापू जैसी जगह पर स्थित है, जो कि चारों ओर से गुजरात से घिरा है। यही वजह है कि यहां पहुंचने के लिए गुजरात की सीमा में प्रवेश करना पड़ता है। इस मतदान केन्द्र की बात करें तो यहां 789 मतदाता हैं, जिनमें से 412 पुरुष और 377 महिलाएं हैं।

गौरतलब है कि आलीराजपुर जिले के 34 मतदान केन्द्र ऐसे हैं, जो आलीराजपुर के साथ-साथ झाबुआ जिले में भी आते हैं। ऐसे में दोनों जिलों के प्रशासन के बीच इस बात को लेकर बैठक हुई थी कि चुनावों के दौरान किस जिले पर इन मतदान केन्द्रों की जिम्मेदारी रहेगी। आखिरकार बैठक के बाद आलीराजपुर प्रशासन को ही इसकी व्यवस्था करने के लिए कहा गया है। नवदुनिया की एक खबर के अनुसार, पिछले विधानसभा चुनाव के दौरान आलीराजपुर जिले का मतदान प्रतिशत मध्य प्रदेश में सबसे कम रहा था। साल 2008 के मुकाबले इस जिले में साल 2013 के चुनावों में सिर्फ 0.14 प्रतिशत का ही इजाफा देखा गया था।

यही वजह है कि प्रशासन पर इस बार जिले में मतदान प्रतिशत बढ़ाने का स्वभाविक दबाव होगा। इन्हीं कोशिशों के तहत प्रशासन लोगों को मतदान केन्द्रों तक खींचने के लिए खूब प्रचार कर रहा है। आदिवासी भाषा में ही इलाके में पोस्टर लगाए गए हैं। साथ ही स्थानीय लोगों को मतदाताओं को मतदान केन्द्रों तक लाने की जिम्मेदारी दी गई है। विधानसभा चुनाव की बात करें तो मध्य प्रदेश में इस बार भाजपा और कांग्रेस के बीच कड़ी टक्कर देखने को मिल सकती है। चुनावी सर्वे भी इस बात की पुष्टि कर रहे हैं और राज्य में एक-एक सीट के लिए दोनों पार्टियों के बीच कड़ा संघर्ष रहेगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App