ताज़ा खबर
 

Madhya Pradesh Elections 2018: 3 मतदान अधिकारियों की मौत, ईवीएम में खराबी पर यह बोले कमलनाथ

मप्र में दोपहर एक बजे तक 27 प्रतिशत मतदान हुआ

Author भोपाल | November 28, 2018 2:53 PM
Madhya Pradesh Election 2018: कांग्रेस नेता कमलनाथ की छिंदवाड़ा में वोट डालने के बाद की एक तस्वीर। (image source-ANI)

मध्यप्रदेश में हो रहे विधानसभा चुनाव के तहत बुधवार दोपहर एक बजे तक 27 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया। चुनाव ड्यूटी के दौरान स्वास्थ्य कारणों से इन्दौर और गुना में दो मतदान अधिकारियों की मृत्यु हो गई। प्रदेश निर्वाचन कार्यालय के जनसंपर्क अधिकारी के अनुसार दोपहर एक बजे तक 27 प्रतिशत मतदान हुआ है। बुधनी से भाजपा के उम्मीदवार मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पत्नी साधना सिंह के साथ पैतृक गांव जैत में मतदान किया। जैत बुधनी विधानसभा क्षेत्र में है। इससे पहले मुख्यमंत्री ने मंदिर में पूजा अर्चना की। चौहान के खिलाफ पूर्व केन्द्रीय मंत्री और प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अरुण सिंह कांग्रेस उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ रहे हैं। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एवं सांसद कमलनाथ बेटे नकुलनाथ और बहू के साथ सौंसर विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत शिकारपुर स्थित प्राथमिक शाला पर वोट डालकर भोपाल के लिए रवाना हो गए।

ईवीएम मशीनों के खराब होने के संबंध में कमलनाथ ने ट्वीट पर कहा, ‘‘प्रदेश भर से बड़ी संख्या में ईवीएम मशीन ख़राब व बंद की जानकारी सामने आ रही है… इससे मतदान प्रभावित हो रहा है….मतदान केंद्रो पर लम्बी लाइनें लग गयी हैं…इतनी बड़ी गड़बड़ी कैसे ? चुनाव आयोग अविलंब इस पर निर्णय ले…तत्काल बंद मशीनों को बदले…’’।
प्रदेश कांग्रेस चुनाव प्रचार अभियान समिति के अध्यक्ष ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ग्वालियर में वोट डाला।

प्रदेश के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी वीएल कांताराव ने सुबह 10 बजे संवाददाताओं को बताया कि शिकायत मिलने के बाद प्रदेश भर में 70 ईवीएम मशीनों को बदला गया है। उन्होंने बताया कि इन्दौर और गुना में चुनाव ड्यूटी के दौरान एक-एक मतदान अधिकारी की स्वास्थ्य कारणों से मृत्यु हो गयी। उन्होंने बताया कि सुबह 9 बजे तक नक्सल प्रभावित परसवाड़ा में 10 प्रतिशत, लांजी में 8.5 प्रतिशत और बेहर में 7.5 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया है। इन विधानसभाओं में सुबह 7 बजे से 3 बजे तक मतदान कराया जा रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App