ताज़ा खबर
 

मध्य प्रदेशः बैठक से निकाले जाने पर बोले उपसचिव- भूत की तरह पीछे लगा है ‘खान’ सरनेम

'17 सालों की सरकारी नौकरी के दौरान 10 जिलों में 19 बार ट्रांसफर हुए हैं। मुझे हमेशा से जर्मन यहूदी की तरह अछूत महसूस कराया गया। खान सरनेम भूत की तरह मेरे पीछे पड़ा है।'

नियाज खान (फोटोः @saifasa)

मध्य प्रदेश में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग (पीएचई) की बैठक से बाहर किए गए एक सरकारी अधिकारी के ट्वीट से हड़कंप मच गया है। गुरुवार को पीएचई की एक अहम बैठक चल रही थी, इसी दौरान विभाग के प्रमुख सचिव विवेक अग्रवाल ने उपसचिव नियाज अहमद खान को बाहर कर दिया। इसके बाद खान ने ट्विटर पर आरोप लगाया कि उन्हें उनके सरनेम की वजह से नुकसान उठाना पड़ रहा है।

क्या है खान के ट्वीट मेंः ट्वीट में खान ने लिखा है, ’17 सालों की सरकारी नौकरी के दौरान 10 जिलों में 19 बार ट्रांसफर हुए हैं। मुझे हमेशा से जर्मन यहूदी की तरह अछूत महसूस कराया गया। खान सरनेम भूत की तरह मेरे पीछे पड़ा है।’ उन्होंने करीब डेढ़ साल से सौतेला व्यवहार किए जाने का भी आरोप लगाया। उनका कहना है कि उन्हें अरसे से मकान भी अलॉट नहीं किया गया है। पीसीएस अधिकारी खान कई किताबें भी लिख चुके हैं। उन्होंने कहा कि अब वे खुद के साथ सरकारी नौकरी में हुई घटनाओं पर एक नोबेल लिखेंगे।

अग्रवाल बोले- बिना तैयारी के आए थेः बैठक से निकाले जाने के बाद अहमद मुख्य सचिव को पत्र लिखकर अग्रवाल के साथ काम करने से इनकार कर दिया। उनका आरोप है कि उनके साथ अक्सर अग्रवाल अभद्रता करते हैं। वहीं अग्रवाल ने आरोप खारिज करते हुए कहा कि अहमद बिना तैयारी बैठक में आए थे इसीलिए उन्हें डांटा गया। अधिकारियों को तैयारी के साथ बैठक में आना चाहिए। हालांकि दोनों अधिकारियों की आपसी तनातनी पर अभी तक किसी अधिकारी का बयान सामने नहीं आया है।

नियाज खान के सिलसिलेवार ट्वीट (@saifasa)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App