X

ऊंची जाति के पास साफा पहनकर आया दलित नेता, काट दी गर्दन, हालत गंभीर

पुलिस ने बताया कि इस मामले में फिलहाल कोई गिरफ्तारी नहीं हो पाई है और आरोपियों को दबोचने की कोशिश की जा रही है। पुलिस के मुताबिक भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार रोकथाम) अधिनियम की संबंधित धाराओं में तीनों आरोपियों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर लिया गया है।

मध्य प्रदेश के शिवपुरी में गुर्जर समुदाय के तीन लोगों ने कथित तौर पर पगड़ी पहनने वाले एक दलित नेता की गर्दन पर धारदार हथियार से हमला कर दिया। पुलिस के मुताबिक पीड़ित जिंदगी और मौत के बीच जंग लड़ रहा है। पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक बीते 3 सितंबर को बहुजन समाज पार्टी के कार्यकर्ता सरदार सिंह जाटव को तीन में से एक आरोपी सुरेंद्र गुर्जर ने किसी बहाने से घर बुलाया था। पुलिस अधिकारी के मुताबिक आरोपी ने एक चाकू का इस्तेमाल करते हुए पीड़ित की गर्दन पर हमला कर दिया। पीटीआई ने नरवार पुलिस थाना प्रभारी बादाम सिंह यादव के हवाले से लिखा, ‘जाटव ने अपने बयान में बताया कि गुर्जर और दो अन्य ने एक चाकू से उसके सिर से खाल उधेड़ दी।’ पुलिस के मुताबिक हमले में सरदार सिंह जाटव गंभीर रूप से जख्मी हो गए और ग्वालियर एक अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है।

पुलिस ने बताया कि इस मामले में फिलहाल कोई गिरफ्तारी नहीं हो पाई है और आरोपियों को दबोचने की कोशिश की जा रही है। पुलिस के मुताबिक भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार रोकथाम) अधिनियम की संबंधित धाराओं में तीनों आरोपियों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर लिया गया है। शिवपुरी बहुजन समाज पार्टी के जिलाध्यक्ष दयाशंकर गौतम ने दावा किया कि पगड़ी पहनने के कारण जाटव पर हमला किया गया।

दयाशंकर ने दावा किया कि हमेशा नीली पगड़ी पहनने वाले 45 वर्षीय जाटव जब गुर्जर के घर पहुंचे तो उन्हें बांध दिया और उन पर हमला किया, उन्होंने जाटव के पगड़ी पहनने पर आपत्ति जताई थी। गौतम के मुताबिक थोड़ी देर बाद उन्होंने जाटव को जाने दिया। गौतम ने यह आरोप भी लगाया कि शुरू में पुलिस ने गुर्जरों के खिलाफ शिकायत दर्ज करने से इनकार कर दिया था। इस बाबत बीएसपी के एक प्रतिनिधिमंडल ने सोमवार को शिवपुरी के पुलिस अधीक्षक को एक ज्ञापन दिया था।

  • Tags: Madhya Pradesh news,