MP conversion issue took new turn as dharmendra dohar told that he was illegally converted मध्य प्रदेश में बजरंग दल के पूर्व कार्यकर्ता का अवैध तरीके से धर्मांतरण, ईसाइयों ने पुलिस पर लगाया मारपीट का आरोप - Jansatta
ताज़ा खबर
 

मध्य प्रदेश में बजरंग दल के पूर्व कार्यकर्ता का अवैध तरीके से धर्मांतरण, ईसाइयों ने पुलिस पर लगाया मारपीट का आरोप

भाजपा शासित मध्य प्रदेश धर्मांतरण के मामले ने नया मोड़ ले लिया है। ईसाइयों के एक गुट पर अवैध तरीके से धर्मांतरण कराने का आरोप लगाने वाले धर्मेंद्र दोहर का दावा है कि वह एक साल के लिए बजरंग दल का सदस्य रह चुका है। उसका कहना है कि ईसाइयों के गुट ने अवैध तरीके […]

Author नई दिल्ली | December 18, 2017 11:43 AM
कैथलिक बिशप्स कॉन्फ्रेंस ऑफ इंडिया (सीबीसीआई) ने जबरदस्ती धर्मांतरण कराने के आरोपों का खंडन किया है। Express Photo

भाजपा शासित मध्य प्रदेश धर्मांतरण के मामले ने नया मोड़ ले लिया है। ईसाइयों के एक गुट पर अवैध तरीके से धर्मांतरण कराने का आरोप लगाने वाले धर्मेंद्र दोहर का दावा है कि वह एक साल के लिए बजरंग दल का सदस्य रह चुका है। उसका कहना है कि ईसाइयों के गुट ने अवैध तरीके से उनका धर्मांतरण कराया और पांच हजार रुपये भी दिए थे। धर्मेंद्र ने अपने परिवार के लोगों की सुरक्षा को लेकर भी चिंता जताई है। दूसरी तरफ, ईसाई मिशनरी ने पुलिस पर मारपीट का आरोप लगाया है।

यह मामला मध्य प्रदेश के सतना जिले का है। धर्मेंद्र दोहर ने कहा, ‘मैं इस मुद्दे पर कुछ नहीं बोलना चाहता हूं। अगर मैं कुछ बोला तो मुझे इसको लेकर विवादों में घसीटा जाने लगेगा। ऐसा कहा जाने लगेगा कि मैं इस पर लगातार अपना बयान बदल रहा हूं।’ बजरंग दल या पुलिस से भय होने पर धर्मेंद्र ने कहा, ‘मैं अपने परिवार को लेकर चिंतित हूं। परिजन मेरे कारण परेशानी में हैं। मुझे कहा गया है कि मैं इन लोगों (ईसाइयों) को न तो अपने घर आने दूं और न ही उन्हें अपने साथ घुलने-मिलने दूं।’ धर्मेंद्र की शिकायत पर पुलिस गुरुवार को सतना स्थित उसके गांव पहुंची थी। उस वक्त वहां स्थानीय मिशनरियों द्वारा क्रिसमस पूर्व कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा था। पुलिस ने एक पादरी समेत पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया था। इसके बाद मामले ने तूल पकड़ लिया था।

रॉबिन ने कहा, ‘फादर अौर अन्य सहयोगियों के साथ कार्यक्रम में शामिल होने गए थे। उसी वक्त बजरंग दल के कार्यकर्ता वहां पहुंचकर धर्मांतरण का आरोप लगाने लगे। इसके बाद पुलिस भी वहां पहुंच गई थी। उनलोगों को थाने ले जाया गया और वहां बजरंग दल के दूसरे गुट ने उनके साथ मारपीट की थी। उनसे मिलने गए अन्य पादरियों के साथ भी मारपट की गई थी। यहां तक कि उन्होंने हमारी एक कार में आग भी लगा दी थी।’ बजरंग दल और पुलिस ने मारपीट के आरोपों को खारिज किया है। बजरंग दल के जिला संयोजक यतींद्र पाठक ने कहा, ‘वे लोग (ईसाई) लंबे समय से धर्मांतरण करा रहे हैं। हमलोग वहां पुलिस के साथ पहुंचे थे।’ पुलिस ने बताया कि 30 ईसाइयों और दो पादरी को हिरासत में लिया था। इनमें से पादरी जॉर्ज समेत छह को गिरफ्तार कर लिया गया है। मारपीट का कोई मामला दर्ज नहीं किया गया है। वहीं, वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि कार जलाने के मामले में 18 वर्षीय विकास शुक्ला को गिरफ्तार किया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App