scorecardresearch

सीएम रहते कमलनाथ निकले नहीं, अब हर जिले में घूम रहे, उन्हें वोट नहीं नोट की परवाह, सिंधिया का वार

चुनाव से पहले सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (BJP) और कांग्रेस के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है। इसी बीच बुधवार को बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर चुनाव प्रचार को लेकर हमला किया है।

Madhya Pradesh bypoll, Madhya Pradesh Assembly, kamalnath, madhya pradesh by election,Kamal Nath,Kamalnath,Madhya Pradesh BJP
MP Bypoll: बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर चुनाव प्रचार को लेकर हमला किया है।
बिहार विधानसभा चुनाव के साथ-साथ मध्य प्रदेश विधानसभा की 28 सीटों पर उपचुनाव भी होने हैं। चुनाव से पहले सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (BJP) और कांग्रेस के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है। इसी बीच बुधवार को बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर चुनाव प्रचार को लेकर हमला किया है।

सिंधिया ने कहा कि जब कमलनाथ सीएम थे तो कहीं निकले नहीं अब हर जिले में घूम रहे हैं। उन्हें वोट नहीं नोट की परवाह है। न्यूज़ एजेंसी एएनआई के माध्यम से सिंधिया ने कहा “कांग्रेस आरोप लगा रही है क्योंकि उन्होंने सत्ता खो दी है। वे राज्य के लोगों से प्यार नहीं करते वे सिर्फ सत्ता के भूखे हैं। कमलनाथ अब प्रत्येक निर्वाचन क्षेत्र का दौरा कर रहे हैं, लेकिन सीएम के रूप में उन्होंने एक भी जिले का दौरा नहीं किया। तब उन्हें वोट नहीं नोट की परवाह थी।”

सिंधिया ने कहा “कमलनाथ सरकार बनने के बाद, 15 महीनों में इन्होंने एक भ्रष्टाचार की सरकार बनाई, एक ऐसी सरकार बनाई जहां केवल नोटों के आधार पर काम होता था। वल्लभ भवन को भ्रष्टाचार का अड्डा बना कर छोड़ दिया।” बीजेपी नेता ने कहा कि इस बारे में मुझसे मत पूछिए, आप मध्य प्रदेश के लोगों से पूछ सकते हैं। जनता से किए गए वादों की पूरी अवहेलना की है।

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा ” मुझे नहीं लगता कि भारत के 70 साल के लोकतांत्रिक इतिहास में कहीं भी ऐसी सरकार स्थापित हुई होगी और वो भी 15 साल विपक्ष में रहने के बाद, जहां सरकार में आने के बाद 22 विधायक उस सरकार के नेतृत्व कमलनाथ जी में पूरी तरह विश्वास खोकर जनता की अदालत में दोबारा कूदना चाहें।

इमरती देवी पर दिये गए बयान को लेकर बीजेपी नेता ने कहा ” कमलनाथ कहते हैं वे इमरती देवी का नाम भूल गए हैं। कभी जो आपके मंत्रिमंडल में थीं उनका नाम आप कैसे भूल सकते हैं? क्योंकि वह एक महिला है, दलित है? क्या यह उनकी और कांग्रेस की महिलाओं के बारे में सोच है? कमलनाथ अहंकार से भरे हुए है और लोग इसे तोड़ देंगे।

बता दें मध्यप्रदेश में 28 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव के लिए मतदान तीन नवंबर को होंगे, वहीं इसकी मतगणना 10 नवंबर को होगी।

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.