ताज़ा खबर
 

मध्य प्रदेश : बारिश-बाढ़ में 12 हजार करोड़ रुपए डूबे, 200 से ज्यादा लोगों की मौत, मदद के लिए केंद्र के सामने फैलाया हाथ

मध्यप्रदेश में इस बार बारिश और बाढ़ ने जबर्दस्त कहर बरपाया है। पूरे राज्य के 52 में से 36 जिलों में भारी नुकसान हुआ है। 225 लोगों की मौत हुई है और1400 से ज्यादा मवेशियों की जाने गई हैं।

Author भोपाल | Updated: September 21, 2019 4:39 PM
मध्यप्रदेश में बाढ़ (फोटो सोर्स – इंडियन एक्सप्रेस)

मध्य प्रदेश में लगातार हो रही भारी बारिश और बाढ़ से जानमाल का व्यापक नुकसान हुआ है। राज्य सरकार के मुताबिक अब तक कुल 225 लोगों और 1400 मवेशियों की बारिश, बिजली कड़कने और बाढ़ की वजह से मौत हुई है। इसके अलावा 1400 से ज्यादा अन्य पशुओं की भी इसी तरह मौत हुई है। मध्यप्रदेश सरकार ने केंद्र सरकार से राज्य के लिए गंभीर आपदा घोषित करने की मांग की है।

52 में से 36 जिले प्रभावित : गुरुवार को राज्य के अफसरों ने केंद्रीय टीम के साथ बैठक की और उन्हें बताया कि 52 में से 36 जिलों में भारी बारिश और बाढ़ से काफी नुकसान हुआ है। सरकार ने केंद्रीय राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (NDMA)की टीम के साथ भी बैठक कर इन आंकड़ों को साझा किया और उनसे तत्काल आर्थिक सहायता तथा राहत और पुनर्वास की मांग की। केंद्रीय टीम से औपचारिक तौर पर 11.906 करोड़ रुपए की मांग की गई है ह।

22 लाख किसानों की 9,600 करोड़ की फसल खराब : 18 सितंबर तक मध्यप्रदेश में कुल 1,203.5 मिमी बारिश हुई, जो सामान्य से 37 फीसदी ज्यादा है। शुरुआती आकलन के मुताबिक भारी बारिश से 24 लाख हेक्टेअर भूमि की 9,600 करोड़ रुपए की फसल बर्बाद हो गई। इससे राज्य के 22 लाख किसान प्रभावित हुए हैं।

National Hindi News, 21 September 2019 LIVE Updates: देश की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

पुलिया-सड़कों के टूटने से 1,556 करोड़ रुपए डूबे : पूरे राज्य में पुलिया और सड़कों के टूटने से भी 1,556 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। सरकार का अनुमान है कि अब तक मध्यप्रदेश में भारी बारिश और बाढ़ से करीब 11,906 करोड़ रुपये की क्षति हुई है। राज्य के पश्चिमी क्षेत्र को अब तक सबसे ज्यादा नुकसान उठाना पड़ा है।

लघु अवधि के ऋणों को मध्यम में बदलने की मांग : राज्य सरकार ने केंद्र से यह भी अनुरोध किया है कि लघु अवधि के ऋणों को मध्यम अवधि के ऋणों में परिवर्तित कर दिया जाए। इस बीच केंद्रीय टीम के विदिशा, रायसेन, राजगढ़, मंदसौर और अगर मालवा जिलों में निरीक्षण करने का भी कार्यक्रम है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Delhi AIIMS: अमेरिका से आए रोबोट ने की रीढ़ की हड्डी की सर्जरी, एशिया में ऐसा पहली बार हुआ
2 IIT कानपुर के हॉस्टल मेस में छात्रों ने तला केकड़ा, कैंपस में दूभर हो गया सांस लेना, डीन से की गई शिकायत