ताज़ा खबर
 

UP: कारोबारी के घर छापा मारने के नाम पर घुसे थे पुलिस वाले, उन्हीं पर लगा गया 1.5 करोड़ लूटने का आरोप

लखनऊ में दो दरोगा अपने सहयोगियों के साथ एक कारोबारी के घर घुसकर अचानक से छापेमारी करने लगे। इस दौरान पुलिस वालों पर 1.58 करोड़ रुपये लेकर वहां से फरार हो जाने का आरोप लगा है।

एसएसपी कलानिधि नैथानी ने दिए जांच के आदेश फोटो सोर्स- ANI

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। यहां गोसाईंगंज थाने के दो दरोगा पवन मिश्रा व आशीष तिवारी पर एक कोयला व्यापारी के घर छापा मारने के दौरान करीब 1 करोड़ 58 लाख रुपए लेकर फरार होने का आरोप लगा है। इस घटना के बाद एसएसपी कलानिधि नैथानी जांच के आदेश देते हुए बताया कि दोनों आरोपियों पर लूट का केस दर्ज किया गया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक शनिवार को ओमेक्स सिटी के फ्लैट नंबर 104 में रह रहे सुल्तानपुर निवासी कोयला और ट्रेडिंग व्यापारी अंकित अग्रहरि ने बताया कि करीब 7 लोगों मेरे कमरे दाखिल हुए इनमें 2 लोग पुलिस की वर्दी में थे। इसके बाद इन लोगों ने फ्लैट में मौजूद कारोबारियों को हिरासत में लेकर 1 करोड़ 58 लाख रुपए अपने कब्जे में ले लिया। दोनों वर्दीधारी धमकी देते हुए कि फ्लैट में रखा ये पैसा काला धन है और युवकों को जेल भी जाना पड़ सकता है, कहकर हुए फरार हो गए।

पीड़ित अंकित का बयान- व्यापारी अंकित अग्रहरि ने बताया कि कमरे में घुसे लोगों ने एक बक्से में रुपए भरे और मधुकर उसे लेकर फ्लैट से निकल गया। इस दौरान विरोध करने पर सभी को बुरी तरह पीटा गया। इसके बाद पवन और आशीष सभी को बाकी रकम और पिस्टल के साथ थाने ले आए। लेकिन बड़ी रकम देखकर पुलिस ने आयकर विभाग को सूचना दी। जब आयकर विभाग के अधिकारी थाने पहुंचे तो अंकित ने बताया कि फ्लैट में 3.38 करोड़ रुपये रखे थे और उसे यह रकम बांदा में अपने खदान पर पहुंचानी थी। लेकिन पुलिस ने एक बक्से से काफी रकम लूट ली। गिनती करने पर दोनों बक्सों में करीब 1.58 करोड़ रुपये ही मिले।

क्या बोले एसएसपी के नैथानी- गोसाईंगंज थाने के दो दरोगाओं पर व्यापारी से लूट का आरोप लगने के बाद एसएसपी के. नैथानी ने कहा कि मामले में दरोगा समेत 3-4 अन्य लोगों पर लूट का मुकदमा दर्ज किया गया है। मामले की जांच की जा रही है।

गोसाईंगंज के एसओ का बयान- मामले में एसओ गोसाईंगंज ने बताया कि मुखबिर मधुकर ने व्यापारी अंकित के फ्लैट में अवैध रकम होने की जानकारी दी थी। इसके बाद दरोगा आशीष ने उन्हें जानकारी देने की बजाय एसआई पवन और अपने सहयोगियों के फ्लैट में दाखिल हुआ था। बाकी लोग सादे कपड़ों में जबकि आशीष ने वर्दी पहन रखी थी।

Next Stories
1 Lucknow: फिर काम पर लौटे कश्मीरी वेंडर, बोले- लखनऊ से प्यार है, डर की कोई बात नहीं
2 लखनऊ: सरकार के खिलाफ पोस्‍ट लिखीं तो अवार्ड लिस्‍ट से हटाया नाम, प्रोफेसर का आरोप
3 PM मोदी पर कांग्रेस की महिला नेता का विवादित बयान, कहा- आतंकी जैसे दिखते हैं, न जाने कब बम फेंक दे
ये पढ़ा क्या?
X