सहारनपुर: चार में से तीन सीटों पर त्रिकोणीय और एक पर सीधा मुकाबला

बागपत और मुजफ्फरनगर पहले चरण की दो ऐसी सीटें हैं जहां सीधा मुकाबला है। सहारनपुर मंडल में मुजफ्फरनगर सीट पर अजित सिंह को भाजपा के पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ संजीव बालियान से चुनौती मिल रही है। अजित सिंह को कांग्रेस-सपा-बसपा तीनों दलों का समर्थन है।

अजित सिंह और तबस्सुम हसन।

सुरेंद्र सिंघल

17वें लोकसभा के पहले चरण में 11 अप्रैल को पश्चिम उत्तर प्रदेश की जिन आठ लोकसभा सीटों पर मतदान होना है उनमें से सहारनपुर मंडल की चार सीटों पर स्थिति बहुत रोचक और मुकाबला अत्यंत कड़ा दिखाई दे रहा है। पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा ने इन सभी आठों सीटों पर जीत दर्ज की थी। लेकिन इस बार सपा-बसपा-लोकदल का गठबंधन बनने से समीकरण बदले हुए हैं। पहले चरण में जिन उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला होने वाला है, उनमें रालोद प्रमुख चौधरी अजित सिंह मुजफ्फरनगर, कांग्रेस उम्मीदवार नसीमुद्दीन सिद्दिकी बिजनौर, सेवानिवृत्त थलसेनाध्यक्ष एवं केंद्रीय मंत्री वीके सिंह गाजियाबाद और मुंबई के पूर्व पुलिस प्रमुख एवं केंद्रीय मानव संसाधन राज्य मंत्री डॉ सत्यपाल सिंह और केंद्रीय मंत्री डा. महेश शर्मा गौतमबुद्धनगर से शामिल हैं।

बागपत और मुजफ्फरनगर पहले चरण की दो ऐसी सीटें हैं जहां सीधा मुकाबला है। सहारनपुर मंडल में मुजफ्फरनगर सीट पर अजित सिंह को भाजपा के पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ संजीव बालियान से चुनौती मिल रही है। अजित सिंह को कांग्रेस-सपा-बसपा तीनों दलों का समर्थन है। यही स्थिति बागपत की भी है। वहां पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरणसिंह के पौत्र जयंत चौधरी सपा-बसपा-कांग्रेस के समर्थन से रालोद उम्मीदवार के रूप में केंद्रीय मंत्री सत्यपाल सिंह को चुनौती दे रहे हैं। इन दोनों सीटों पर यह भी तय हो जाएगा कि जाट भाजपा के साथ है या अजित सिंह के पास लौट आए हैं। सहारनपुर सीट पर दो मुसलिम उम्मीदवार कांग्रेस के इमरान मसूद और बसपा के फजलुर्रहमान हैं। भाजपा की तरफ से राघव लखनपाल हैं। चुनाव नतीजा मतदान के रूझान से तय होगा।

कैराना लोकसभा सीट पर सपा उम्मीदवार और सांसद तबस्सुम हसन को भाजपा के प्रदीप चौधरी और कांग्रेस के हरेंद्र मलिक से चुनौती मिल रही है। यहां स्थिति भी मतदान वाले दिन ही साफ हो पाएगी। अभी तो तबस्सुम कड़े मुकाबले में हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उपमुख्यमंत्री केशवप्रसाद मौर्य ने भाजपा के पक्ष में चुनाव प्रचार किया है। बिजनौर सीट पर भाजपा के मौजूदा सांसद और उम्मीदवार भारतेंद्र सिंह को गठबंधन के बसपा उम्मीदवार मलूम नागर से चुनौती मिल रही है। मतदान से दो दिन पूर्व तक इस सीट पर भ्रम बना हुआ है।

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट