ताज़ा खबर
 

Lok Sabha elections 2019: गौतम बुद्ध नगर में 62.70 फीसद हुआ मतदान

2014 के लोकसभा चुनाव में गौतम बुद्ध नगर सीट पर कुल 60.30 फीसद मतदान हुआ था जिसके मुकाबले इस बार करीब दो फीसद अधिक मत पड़े हैं।

Author April 12, 2019 5:46 AM
नोएडा स्थित एक मतदान केंद्र के बाहर कतार में खड़े मतदाता छतरी लगाकर खुद को धूप से बचाते हुए।

उत्तर प्रदेश की प्रतिष्ठित गौतम बुद्ध नगर लोकसभा सीट पर गुरुवार को 62.70 फीसद मतदान हुआ। मतदाताओं ने केंद्रीय मंत्री डॉक्टर महेश शर्मा समेत 13 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला कर दिया है जो ईवीएम में कैद हो गया है। हालांकि क्षेत्र के मतदाताओं ने सबसे ज्यादा किस प्रत्याशी पर विश्वास जताया, यह 23 मई को मतगणना के दिन पता चलेगा। गौतम बुद्ध नगर क्षेत्र के तहत पांच विधानसभा क्षेत्र के तहत नोएडा, दादरी व जेवर तथा बुलंदशहर जिले की सिकंद्राबाद व खुर्जा विधानसभा आती हैं। पांच विधानसभाओं में जेवर में सबसे अधिक 68.40 फीसद मतदान हुआ जबकि नोएडा विधानसभा क्षेत्र में मतदान सबसे कम 53.60 फीसद रहा।

जिला प्रशासन से मिले आंकड़ों के मुताबिक शाम छह बजे मतदान समाप्त होने के बाद गौतम बुद्ध नगर लोकसभा सीट पर 62.70 फीसद मतदान हुआ। विधानसभा वार नोएडा में 53.6, दादरी में 63.60, जेवर में 68.40, खुर्जा में 64 व सिकंद्राबाद क्षेत्र में 62.50 फीसद मतदान हुआ। गौतम बुद्ध नगर लोकसभा सीट की पांचों विधानसभा सीटों में सुबह सात से शाम छह बजे तक मतदान हुआ। सुबह नौ बजे तक 10 फीसद मत पड़े जिसमें नोएडा विधानसभा क्षेत्र में 9.50, दादरी में 7.30 और जेवर में 12.60 फीसद मतदान हुआ। 11 बजे तक जिले की तीनों विधानसभा क्षेत्रों में मिलाकर 24.23 फीसद मतदान हुआ। दोपहर एक बजे तक जिले के तीनों विधानसभा क्षेत्रों में 40.81 फीसद और शाम पांच बजे तक जिले में कुल 57.95 फीसद मतदान हुआ था।

निर्वाचन अधिकारियों के मुताबिक कुल मतदान फीसद में अभी भी कुछ इजाफा हो सकता है। खुर्जा व सिकंद्राबाद समेत कुछ बूथों के ब्योरे को संकलित किया जा रहा है। 2014 के लोकसभा चुनाव में गौतम बुद्ध नगर सीट पर कुल 60.30 फीसद मतदान हुआ था जिसके मुकाबले इस बार करीब दो फीसद अधिक मत पड़े हैं। तब नोएडा विधानसभा क्षेत्र में 53.23 फीसद मतदान हुआ था। वहीं, 2017 में नोएडा विधानसभा सीट के लिए हुए मतदान में 48.56 फीसद मतदान हुआ था।

कड़े पहरे में स्ट्रांग रूम पहुंचीं ईवीएम
शाम छह बजे मतदान समाप्त होने के साथ ही ईवीएम को सील करने का काम शुरू कर दिया गया। ईवीएम को फेज-2 स्थित फूल मंडी में स्ट्रांग रूम में पहुंचाया गया। ईवीएम के ईर्द-गिर्द सख्त सुरक्षा घेरा तैयार किया गया है। इस परिसर में 41 दिन तक किसी को आने की इजाजत नहीं होगी। यहां तक कि जिला निर्वाचन अधिकारी और एसएसपी स्तर तक के अधिकारी को रजिस्टर में नाम व हस्ताक्षर करने के बाद अंदर जाने की इजाजत होगी। ईवीएम के लिए बने पहले घेरे की सुरक्षा सीआइएसएफ के हवाले हैं जिसकी सुरक्षा के लिए एक प्लाटून 24 घंटे तैनात रहेगी। प्लाटून के जवान अत्याधुनिक हथियारों से लैस होंगे। स्ट्रांग रूम के पास ही दो मोर्चे भी बनाए गए हैं जिनके पीछे भी जवान तैनात हैं। इसके अलावा उस घेरे में सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। इस घेरे में सीआइएसएफ के जवानों के अलावा दूसरा अन्य कोई भी आएगा, तो उसे रजिस्टर में ब्योरा दर्ज कराना होगा। स्ट्रांग रूम के पास ही नियंत्रण कक्ष बनाया गया है। यहां से सीसीसीटीवी कैमरे से निगरानी जवान लगातार करते रहेंगे। दूसरा घेरा गैर जनपद पुलिस का होगा। तीसरा घेरा स्थानीय पुलिस का होगा।
शहर के प्रमुख तीन राजनीतिक दलों समेत गौतम बुद्ध नगर लोकसभा सीट के सभी 13 उम्मीदवारों का भविष्य ईवीएम मशीनों में कैद हो गया है। प्रमुख तीन प्रत्याशियों के विशेषज्ञों ने हार-जीत का आकलन भी शुरू कर दिया है। देर शाम तक बूथ एजंटों के साथ विशेषज्ञों ने बैठक की जिनसे सेक्टरवार और ग्रामवार मतदान का पूरा ब्योरा लिया गया।

इसके आधार पर आकलन लगाने का काम शुरू कर दिया गया है। हालांकि दिनभर की भाग-दौड़ में चुनावी कार्यालयों पर पूरी तरह से सन्नाटा पसरा रहा। यहा एक-दो लोग ही पहुंचे। माना जा रहा है कि इस बार शहरी मतदाता भी घरों से निकले। रिहायशी बहुमंजिला सोसायटियों में भी अच्छा मतदान हुआ है। ग्रामीण मतदाता भी काफी संख्या में बाहर निकले हैं। ऐसे में मामला एकतरफा होता नहीं दिख रहा है। शहरी के मुकाबले इस बार भी ग्रामीण इलाकों में मतदान अधिक हुआ है जो तीनों प्रमुख प्रत्याशियों के लिए आंकड़ा तय करने में परेशानी पेश कर रहा है। वास्तविक परिणाम 23 मई को मतगणना के बाद ही पता चल पाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App