ताज़ा खबर
 

500 के दो नोट जमीन पर फेंके और…’, इन दलितों ने सुनाई उंगलियों पर दो बार वोटिंग की स्याही लगने की कहानी

आखिरी चरण की वोटिंग के दिन रविवार (19 मई) को ये सभी लोग वोट देने गए। इस बार उनके बाएं हाथ की उंगली पर स्याही लगाई गई। राम कहते हैं, 'सीधे हाथ की उंगली में लगी स्याही नकली है, उल्टे हाथ में लगी असली है।'

Author चंदौली | May 22, 2019 8:21 AM
दोनों हाथों में लगी स्याही दिखाते पनारू राम (फोटो- संतोष सिंह, इंडियन एक्सप्रेस)

Lok Sabha Election 2019 के नतीजों के ऐलान से पहले उत्तर प्रदेश के कुछ लोगों ने लोकतंत्र के प्रति ईमानदारी की मिसाल पेश की है। शराब, पैसे, साड़ी, बिछिया के लालच में बिकते वोटों के बीच उत्तर प्रदेश के चंदौली लोकसभा क्षेत्र में छह ऐसे दलित सामने आए हैं, जिन्हें वोटिंग के लिए कथित तौर पर रिश्वत भी ऑफर की गई थी और धमकी भी दी गई। लेकिन उन्होंने सबकुछ सिरे से नकार दिया और कह दिया, ‘अपने पैसे वापस ले जाओ, हम अपना वोट नहीं बेचते।’

चंदौली के जीवनपुर गांव के रहने वाले 64 वर्षीय पनारू राम इन्हीं छह लोगों में शामिल हैं। उनका कहना है कि गांव के पूर्व प्रधान और बीजेपी समर्थक छोटेलाल तिवारी ने अपने साथियों के साथ मिलकर उंगली पर जबर्दस्ती वोटिंग के बाद लगने वाली स्याही लगा दी और 500 रुपए देकर कहा कि अब वोट देने मत जाना। इसके बाद इन छह लोगों ने इसकी जानकारी समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं को दी। सपा कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया और पुलिस से हस्तक्षेप की मांग की।

आखिरी चरण की वोटिंग के दिन रविवार (19 मई) को ये सभी लोग वोट देने गए। इस बार उनके बाएं हाथ की उंगली पर स्याही लगाई गई। राम कहते हैं, ‘सीधे हाथ की उंगली में लगी स्याही नकली है, उल्टे हाथ में लगी असली है।’ चंदौली एसपी संतोष कुमार सिंह ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा कि पुलिस ने 18 मई को तिवारी और उनके साथियों कटवारू तिवारी और डिंपल तिवारी के खिलाफ केस दर्ज किया। सभी के खिलाफ आईपीसी की धारा 147, 171एच (वोटिंग के लिए अवैध भुगतान), 506 और एससी-एसटी एक्ट के तहज केस दर्ज हुआ है। पुलिस ने इस मामले में छोटेलाल तिवारी को गिरफ्तार कर लिया है।

National Hindi News, 22 May 2019 LIVE Updates: दिनभर की अहम खबरों के लिए क्लिक करें

कटवारू और डिंपल फरार हैं। मुगलसराय के एसडीएम कुमार हर्ष ने कहा, ‘हमने मामले को संज्ञान में लिया है और पुलिस मामले की जांच कर रही है।’ वहीं स्थानीय बीजेपी नेताओं ने घटना में शामिल होने की बात से इनकार कर दिया है। राम ने कहा, ’18 मई को रात करीब 9 बजे अलीपुर पुलिस थाने के अंतर्गत आने वाली दलित बस्ती में तिवारी और उनके साथियों के पहुंचने की जानकारी सबसे पहले उनकी बहू गीता देवी ने दी थी।’

पीड़ित छह लोगों में 38 वर्षीय नौरंगी देवी भी शामिल हैं। उन्होंने कहा, ‘हम सोने वाले थे तभी गांव के पूर्व प्रधान पहुंचे। ईंट के भट्टे पर काम करने वाले मेरे पति बंसीधर राम भी उस वक्त घर पर थे। तिवारी ने जमीन पर 500 रुपए का नोट फेंका और हम कुछ समझ पाते उससे पहले ही एक-एक करके हमारी उंगली पर स्याही लगा दी।’

पीड़ितों ने यह भी कहा कि उन्हें समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं के प्रदर्शन के बाद वोट देने की अनुमति दी गई। यहीं रहने वाली 49 वर्षीय बादामी देवी ने कहा, ‘जब तिवारी घर में घुस रहे थे, तो उनके दो साथी दरवाजे पर खड़े रहे। मेरी बेटी किरन ने मुझे आवाज दी। लेकिन जब तक मैं उठ पाती तिवारी ने मेरी उंगली पर स्याही लगाई और 500 रुपए का नोट दे कर चले गए।’

रात करीब 10 बजे सभी गांव वाले एकत्रित हुए और प्रदर्शन किया। पीड़ितों में शामिल सुदर्शन राम ने कहा, ‘हम पुलिस चौकी गए जहां पहले हमारी बातों को नजरअंदाज कर दिया गया। लेकिन स्थानीय मीडिया आया और हमें अलीपुर पुलिस स्टेशन ले जाया गया।’ एफआईआर में शिकायतकर्ता बीरेंद्र ने कहा, ‘जब हमने विरोध किया तो छोटेलाल तिवारी ने जातिसूचक गालियां दीं। उन्होंने हमें जान से मारने की धमकी भी दी। हम भयभीत हैं।’ पीड़ितों ने तिवारी को चंदौली से बीजेपी प्रत्याशी महेंद्र नाथ पांडेय का करीबी बताया।

जीवनपुर निवासियों ने कहा कि सपा कार्यकर्ताओं के प्रदर्शन के बाद उन्हें वोट देने दिया गया। बादामी देवी ने कहा, ‘हम सभी को वोट देने दिया गया लेकिन तिवारी ने जो किया वह अस्वीकार्य है। हम सभी को वोट देने का अधिकार है।’ जीवनपुर में 1200 की आबादी है, इनमें से करीब 400 दलित हैं। कॉलेज के छात्र बिपिन कुमार कहते हैं, ‘हम सभी के पास राशन कार्ड है लेकिन कुछ को ही उज्ज्वला और प्रधानमंत्री आवास योजना जैसी योजनाओं का लाभ मिल पाता है। हमारे पास बिजली का मीटर है लेकिन वो सिर्फ लंबे-चौड़े बिल बनाता है।’

2014 में बीजेपी ने सपा से यह लोकसभा सीट जीत ली थी। मौजूदा चुनाव में चंदौली से सपा-बसपा गठबंधन के प्रत्याशी संजय चौहान कहते हैं कि छह दलितों को प्रदर्शन के बाद वोट देने दिया गया। लेकिन इस मामले में प्रशासन को हस्तक्षेप करना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘ऐसे कई लोग होंगे जिनकी उंगली पर जबर्दस्ती स्याही लगा दी गई होगी।’ चंदौली जिले के बीजेपी प्रमुख सर्वेश कुशवाहा ने सपा कार्यकर्ताओं पर हताशा में प्रदर्शन करने का आरोप लगाया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X