ताज़ा खबर
 

Lok Sabha Election 2019: चाय वाले ने BJP से मांगा वडोदरा का टिकट, 2014 में नरेंद्र मोदी के नामांकन फॉर्म पर किए थे हस्ताक्षर

Lok Sabha Election 2019: भारतीय जनता पार्टी की सबसे सुरक्षित सीटों में शुमार है। 1998 के बाद से बीजेपी यहां से लगातार जीत दर्ज कर रही है।

Author Published on: March 16, 2019 12:29 PM
किरण महिड़ा ( फोटो सोर्स : ट्विटर @dave_janak )

Lok Sabha Election 2014 में नरेंद्र मोदी को रिकॉर्ड जीत दिलाने वाली वडोदरा सीट पर बीजेपी की तरफ से 2019 में दावेदारों की संख्या बढ़ती जा रही है। इस बार जो नाम आया है वो पांच साल पहले भी काफी चर्चा में था। नया नाम किरण महिड़ा का है। ये वही शख्स हैं जिन्होंने पिछले चुनाव में नरेंद्र मोदी के नामांकन फॉर्म पर हस्ताक्षर किए थे। चार बार गुजरात के मुख्यमंत्री बने मोदी का यह पहला लोकसभा चुनाव था। उन्होंने वडोदरा के साथ-साथ वाराणसी से भी जीत दर्ज की थी। प्रधानमंत्री बनने के बाद उन्होंने वडोदरा सीट छोड़ दी थी।

चाय बेचते हैं किरणः प्राप्त जानकारी के मुताबिक किरण महिड़ा भी चाय की दुकान चलाते हैं। उल्लेखनीय है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी कहते हैं कि उन्होंने बचपन में लंबे समय तक गुजरात में चाय बेची है। ‘चाय वाला’ शब्द को लेकर तभी से देश की सियासत में वार-पलटवार का दौर चलता रहा है।

ये बने थे समर्थक-प्रस्तावकः 2014 में किरण महिड़ा के साथ-साथ वडोदरा के शाही परिवार की सदस्य शुभांगिनीदेवी राजे गायकवाड़ ने भी समर्थक के तौर पर हस्ताक्षर किए थे। वहीं प्रस्तावक के रुप में दिवंगत बीजेपी नेता मकरंद देसाई की पत्नी नीला देसाई और वडोदरा बीजेपी के पहले अध्यक्ष भूपेंद्र पटेल ने हस्ताक्षर किए थे। प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी ने इन सभी को शपथ ग्रहण समारोह में भी बुलाया था।

 

उल्लेखनीय है कि वडोदरा भारतीय जनता पार्टी की सबसे सुरक्षित सीटों में शुमार है। 1998 के बाद से बीजेपी यहां से लगातार जीत दर्ज कर रही है। मोदी के सीट छोड़ने के बाद यहां से वडोदरा की डिप्टी मेयर रह चुकीं रंजनाबेन भट्ट ने उपचुनाव में जीत दर्ज की थी। वडोदरा से इस बार चुनाव लड़ने के लिए प्रत्याशियों काफी लंबी फेहरिस्त बन चुकी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 असली चुनाव से कितनी मिलती है इन फिल्मों की चुनावी कहानी?
2 Lok Sabha Election 2019: कांग्रेस संग गठबंधन तो हो ना सका, अब उसके प्रत्‍याशियों को समर्थन दे सकती है आम आदमी पार्टी
3 Lok Sabha Election 2019: पश्चिम बंगाल में भाजपा के पास नहीं है चुनाव जीतने वाले उम्मीदवारः घोष