ताज़ा खबर
 

Lok Sabha Election 2019: कानपुर में शिवपाल यादव की पार्टी के प्रत्याशी का नामांकन निरस्त, PM पर लगाया आरोप

Lok Sabha Election 2019 (लोकसभा चुनाव 2019): कानपुर में शिवपाल यादव की पार्टी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के टिकट पर खड़े हुए प्रत्याशी का नामांकन निरस्त कर दिया गया है। प्रत्याशी ने इसे पीएम के इशारे पर उठाया गया कदम बताया।

कानपुर सीट से प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी, पर्चा निरस्त होने के बाद भड़के

कानपुर लोकसभा सीट पर 27 उम्मीदवारों ने नामांकन दाखिल किया था। जिला निर्वाचन अधिकारी ने नामांकन के लिए जमा दस्तावेजों की जांच करते हुए 13 प्रत्याशियों के नामांकन निरस्त कर दिए हैं। इनमें शिवपाल यादव की प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (प्रसपा) के राजीव मिश्रा भी शामिल हैं। प्रसपा के राजीव मिश्रा ने आरोप लगाया कि जिला निर्वाचन अधिकारी विजय विश्वास पंथ बीजेपी के दबाव में काम कर रहे हैं। कानपुर का ब्राह्मण वोट कट न जाए इसलिए मेरे नामांकन को निरस्त किया गया है। उन्होंने कहा कि वे इलाहबाद हाईकोर्ट में जिला निर्वाचन अधिकारी के खिलाफ अपील करेंगे। कानपुर और अकबरपुर लोकसभा सीट पर जिला निर्वाचन अधिकारी सरकार के दबाव में काम कर रहे हैं।

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के कानपुर लोकसभा सीट से कैंडिडेट राजीव मिश्रा के नामांकन निरस्त होने के बाद कानपुर के राजनीतिक गलियारों में हड़कंप मच गया। राजीव मिश्रा बीते 8 अप्रैल को पार्टी के कार्यकर्ताओं और अपने प्रस्तावकों के साथ नामांकन कराने पहुंचे थे। उनके साथ जो प्रस्तावक थे उनकी उम्र करीब 80 वर्ष थी। धूप में चलने की वजह से उनकी तबीयत बिगड़ने लगी। प्रत्याशियों और प्रस्तावकों के लिए कलेक्ट्रेट में पीने के पानी और बैठने की व्यवस्था नहीं थी। इसके खिलाफ प्रसपा प्रत्याशी राजीव मिश्रा ने जिलाधिकारी मुर्दाबाद के नारे लगाए थे। राजीव मिश्रा का आरोप है कि मैंने डीएम के खिलाफ नारेबाजी थी यह बात उन्हें नागवार गुजरी थी।

National Hindi News, 11 April 2019 LIVE Updates: दिनभर की अहम खबरों के लिए क्लिक करें

राजीव मिश्रा ने आरोप लगाया कि कलेक्ट्रेट में बीजेपी के कैंडिडेट सत्यदेव पचौरी को जिला प्रशासन ने एसी रूम में बिठाया था। जिला प्रशासन के अधिकारी खुद उनके नामांकन फॉर्म को कंप्लीट कराने का काम कर रहे थे। जिला प्रशासन की तरफ से बीजेपी प्रत्याशी के लिए चाय-नाश्ता-पानी मंगाया जा रहा था। कलेक्ट्रेट के बाहर खड़े हमारे जैसे और भी अन्य प्रत्याशियों के लिए पीने का पानी और बैठने के लिए कुर्सी भी नहीं थी।

कानपुर लोकसभा सीट की पूरी जानकारी के लिए क्लिक करें

 

राजीव मिश्रा ने कहा, ‘बीजेपी को इस बात का डर था कि यदि मैं कानपुर से चुनाव लड़ूंगा तो ब्राह्मण वोट कट जाएगा। इससे बीजेपी को नुकसान होगा। बीजेपी के कहने पर कानपुर जिला निर्वाचन अधिकारी ने मेरा नामांकन निरस्त किया है। इस तरह से जब अधिकारी ही इसमें मिले हों तो निष्पक्ष चुनाव नहीं हो सकते हैं। इसकी शिकायत हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट तक करूंगा।’

Read here the latest Lok Sabha Election 2019 News, Live coverage and full election schedule for India General Election 2019

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 कार्यकर्ताओं की ड्यूटी लगाने के बाद भी पीएम नरेंद्र मोदी की रैली में भीड़ नहीं जुटा पाई बीजेपी
2 महबूबा से बोले गंभीरः मुझे ब्लॉक किया 130 करोड़ भारतीयों को कैसे करेंगी, लहर में तैरेंगी नहीं तो डूब जाएंगी
3 Lok Sabha Election 2019: VIDEO: ‘बहनजी’ कहने पर बिफरी एंकर, कांग्रेस प्रवक्‍ता को कह दिया ‘आंटीजी’, हो गई बहस
ये पढ़ा क्या?
X