ताज़ा खबर
 

बिहार चुनाव: यादव बहुल पालीगंज में चिराग पासवान की LJP ने बढ़ाई एनडीए की मुश्किल

नीतीश कुमार को रोकने के लिए चुनाव लड़ रही लोजपा ने इस बार यादव बहुल पालीगंज सीट से भाजपा की पूर्व नेता ऊषा विद्यार्थी को टिकट दिया है, जिनका उच्च जाति और भूमिहार वोटरों में मजबूत आधार है।

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र पालीगंज | Updated: October 21, 2020 10:07 AM
Paliganj, Bihar, JDU, RJD, BJPलोजपा ने पालीगंज से भाजपा की पूर्व नेता ऊषा विद्यार्थी को उतार कर जातीय समीकरणों को जदयू के खिलाफ बिठाने का काम किया है। (एक्सप्रेस फोटो)

बिहार चुनाव के पहले चरण के मतदान में अब एक हफ्ते से भी कम का समय बचा है। ऐसे में सत्तासीन एनडीए और विपक्षी महागठबंधन प्रचार अभियान में तेजी दिखाते हुए एक-दूसरे के क्षेत्रों में सेंध लगाने की कोशिश में हैं। ऐसी ही एक सीट है बिहार की पालीगंज की। इस यादव बहुल सीट पर आमतौर पर यादव प्रत्याशी को फायदे की स्थिति में माना जाता है। इस बार भी इस सीट पर सीधी लड़ाई दो यादवों के बीच ही है, पर लोजपा के एक प्रत्याशी की वजह से इस सीट पर चुनावी समीकरण सबसे दिलचस्प होने वाले हैं।

बता दें कि 2015 में पालीगंज सीट से राजद के टिकट पर चुनाव जीतने वाले जयवर्धन यादव इस बार जदयू के टिकट पर चुनाव में लड़ रहे हैं। उनके सामने इस बार महागठबंधन के सौरव खड़े हैं, जो कि खुद भी एक यादव हैं और जेएनयू के छात्र रह चुके हैं। उन्हें महागठबंधन की साथी CPI (M-L) की तरफ से टिकट मिला है। ऐसे में सौरव को राजद और कांग्रेस का भी समर्थन हासिल है।

दूसरी तरफ इस बार एनडीए से अलग होकर नीतीश कुमार को रोकने के लिए चुनाव लड़ रही लोजपा ने इस बार पालीगंज सीट से भाजपा की पूर्व नेता को टिकट देकर जदयू की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। चिराग की पार्टी ने इस बार चुनाव के लिए भाजपा की बागी नेता ऊषा विद्यार्थी को टिकट दिया है, जो कि 2005 में इस सीट से हारने के बाद 2010 में जीत भी हासिल कर चुकी हैं। यानी इस क्षेत्र में उनका उच्च जाति और भूमिहार वोटर बेस अभी भी मजबूत है। ऐसे में जदयू को इस वर्ग से भी वोट मिलने की उम्मीद काफी कम हैं।

इतना ही नहीं भाजपा की पूर्व नेता होने की वजह से ऊषा विद्यार्थी को कैडर से भी अच्छा-खासा समर्थन हासिल है। ऐसे में माना जा रहा है कि वे एनडीए के कई वोट लोजपा कैंप में ले जाएंगी। भाजपा के एक कार्यकर्ता के मुताबिक, “वे (ऊषा) हमेशा से भाजपा में रही हैं। वहीं पालीगंज में किसी यादव उम्मीदवार का समर्थन करने का मतलब नहीं है, जबकि महागठबंधन का उम्मीदवार भी एक यादव ही है। पूरी भाजपा विद्यार्थी जी के साथ है।”

जदयू के लिए मुश्किल की स्थिति है, क्योंकि यादव बहुल इस सीट पर अगर यादव और पिछड़ी जातियां एकजुट होती हैं, तो अधिकांश वोट राजद के नेतृत्व वाले महागठबंधन को पड़ने का अनुमान है। महागठबंधन की ओर से सीएम उम्मीदवार घोषित किए जा चुके राजद प्रमुख तेजस्वी यादव पहले ही यादवों के नेता के तौर पर पहचाने जाते हैं।

जयवर्धन यादव के गांव हरिरामपुर में ही नरेश यादव नाम के व्यक्ति ने कहा कि वे तो पुरानी वफादारी के चलते जयवर्धन के लिए वोट करेंगे, लेकिन जयवर्धन के लिए यह चुनाव जीतना आसान नहीं होगा, क्योंकि इस सीट पर अगर यादव एकजुट हो गए, तो बाकियों के लिए मुश्किल होगी। यादव समुदाय के लोग तेजस्वी को मुख्यमंत्री के तौर पर देखना चाहते हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 उच्च शिक्षण संस्थाओं में महिलाओं को आरक्षण, 12वीं में टॉपर छात्राओं को देंगे स्कूटी; बिहार में कांग्रेस ने जारी किया घोषणापत्र
2 हाथरस गैंगरेप: FSL रिपोर्ट पर सवाल उठाने वाले AMU डॉक्टर को योगी सरकार ने काम से हटाया
3 पिता की याद में रखे ब्रह्मभोज में चिराग पासवान ने पांव छू लिया नीतीश कुमार से आशीर्वाद, तेजस्वी भी देते रहे LJP अध्यक्ष को हौसला
यह पढ़ा क्या?
X