ताज़ा खबर
 

यूपीः दारू के ठेकों पर लगे पोस्टर, वैक्सिनेशन कराने वालों को ही मिलेगी शराब

सैफई के एसडीएम हेम कुमार सिंह ने इलाके के सभी ठेकों पर वैक्सीनेशन वाला पोस्टर लगवा दिया है। इस पोस्टर में लिखा गया है कि वैक्सीनेशन कराने वाले को ही शराब बेची जाएगी।

इटावा के सैफई में शराब खरीदने पहुंच रहे व्यक्ति को पहले टीकाकरण का प्रमाणपत्र दिखाने को कहा जा रहा है। (प्रतीकात्मक फोटो- एक्सप्रेस फोटो)

उत्तरप्रदेश में टीकाकरण अभियान के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए शराब के ठेकों पर भी पोस्टर लगाए जा रहे हैं। इन पोस्टरों में लिखा गया है कि वैक्सीनेशन करवाने वाले को ही शराब मिलेगा। दरअसल पिछले दिनों उत्तरप्रदेश के अलीगढ़ में जहरीली शराब पीने से हुई मौतों के बाद सरकार सतर्क हो गई है। सभी जिले में जहरीली शराब के खिलाफ ताबड़तोड़ अभियान चलाया जा रहा है। इसी क्रम में इटावा जिले में जहरीली शराब की जांच करने पहुंचे अधिकारियों ने इस तरह का पोस्टर एक ठेके के बाहर लगा दिया।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार इटावा के सैफई में इन दिनों जहरीली शराब को लेकर सभी तरह के शराब के ठेके और अंग्रेजी शराब दुकान की जांच की जा रही है। जांच करने के दौरान सैफई के एसडीएम हेम कुमार सिंह ने इलाके के सभी ठेकों पर वैक्सीनेशन वाला पोस्टर लगवा दिया। इस पोस्टर में लिखा गया है कि वैक्सीनेशन कराने वाले को ही शराब बेची जाएगी। साथ ही शराब खरीदने वाले व्यक्ति को पहले अपना कोरोना टीकाकरण का प्रमाणपत्र दिखाने को कहा गया है। एसडीएम ने कहा है कि वह समय-समय पर दुकानों की जांच भी करेंगे। 

वहीं दुकानदारों ने एसडीएम के आदेश को मानना शुरू कर दिया है। दुकानदारों का कहना है कि शराब खरीदने आने वाले सभी व्यक्ति से वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट मांगा जा रहा है और उपलब्ध नहीं करवा पाने की उपस्थिति में बिना शराब दिए ही लौटा दिया जा रहा है। एसडीएम के इस आदेश पर स्थानीय आबकारी विभाग के अधिकारियों ने कहा है कि बिना वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट के शराब की बिक्री ना करने का कोई आदेश नहीं निकाला गया है लेकिन यह एक अच्छा कदम है।

उत्तरप्रदेश में काफी कम संख्या में हो रहे वैक्सीनेशन को लेकर सरकार कई तरह के प्रयास कर रही है। दरअसल उत्तरप्रदेश के ग्रामीण इलाकों में वैक्सीन को लेकर तरह तरह की अफवाहें उड़ रही है। जिसकी वजह से लोग टीका लगवाने से कतरा रहे हैं। पिछले दिनों उत्तरप्रदेश के बाराबंकी में एक गांव में टीकाकरण करने पहुंची टीम को देखते हुए अधिकांश ग्रामीण पास के सरयू नदी में कूद गए थे। इतना ही नहीं कई लोग तो गांव छोड़कर ही भाग गए थे। हालांकि बाद में अधिकारियों के काफी समझाने पर कुछ ग्रामीणों ने टीका लगवाया था।  

राज्य में कोरोना संक्रमण मामलों में कमी आने के साथ ही कई जनपदों में कोरोना कर्फ्यू में ढील दी गई है। पिछले 24 घंटे में उत्तरप्रदेश में 1908 मामले आए हैं। साथ ही राज्य में अभी कोरोना के 41,214 सक्रिय मामले हैं। सरकार ने मामलों में कमी आने के साथ ही 55 जनपदों में लगे कोरोना कर्फ्यू में ढील दी है। इसके अलावा 600 से ज्यादा सक्रिय मामले वाले जनपदों में कोरोना कर्फ्यू जारी रखने का आदेश दिया गया है।

Next Stories
1 कोरोनाः PPE किट पहने शख्स ने राप्ती नदी में अपने ही परिजन की फेंक दी लाश! सामने आया VIDEO तो विवाद, केस
2 कोरोनाः नहीं रहे भूतपूर्व कच्छ राज्य के महाराज; न है संतान, न किसी बनाया वारिस, खाली रहेगी शासक की गद्दी
3 UP में कोरोनाः बारिश के बाद बढ़ा गंगा का जल स्तर, उन्नाव में रेत में दबी लाशें नदी में लगीं उफनाने
ये पढ़ा क्या?
X